'आश्रम' को लेकर नहीं कम हुआ करणी सेना का गुस्सा, सड़कों पर फूंका Prakash Jha का पूतला

By: Shweta Dhobhal
| Published: 10 Nov 2020, 10:31 AM IST
'आश्रम' को लेकर नहीं कम हुआ करणी सेना का गुस्सा, सड़कों पर फूंका Prakash Jha का पूतला
Karni Sena Protest Against Director Prakash Jha Because Of Aashram

निर्देशक प्रकाश झा ( Prakash Jha ) की वेब सीरीज़ 'आश्रम' ( Aashram ) को लेकर करणी सेना ( Karni Sena ) में गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है। निर्देशक के खिलाफ लीगल नोटिस जारी करने के बाद अब सड़कों पर उनका पुलता जलाया जा रहा है। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। साथ ही इस बात की मांग की जारी है कि वेब सीरीज़ को बैन किया जाए।

नई दिल्ली। वेब सीरीज़ 'आश्रम 2' ( Aashram 2 ) को लेकर करणी सेना ( Karni Sena ) की तरफ से प्रदर्शन जारी है। काफी लंबे समय से निर्देशक प्रकाश झा ( Prakash Jha ) और करणी सेना के बीच वाद-विवाद जारी है। वेब सीरीज़ में अभिनेता बॉबी देओल ( Bobby Deol ) के ढोंगी बाबा के किरदार से नाराज़ करणी सेना का कहना है कि इस सीरीज़ के माध्यम से समाज में साधुओं और बाबाओं के खिलाफ नकारात्मकता फैलाई जा रही है। साथ ही हिंदू धर्म को भी ठेस पहुंची है। ऐसे में 'आश्रम 2' ( Aashram 2 ) का ट्रेलर भी रिलीज़ हो चुका है। जिसे लेकर अब मामला काफी तूल पकड़ता हुआ नज़र आ रहा है।

 

करणी सेना ने निर्देशक के खिलाफ लीगल नोटिस ( Karni Sena Sent Legal Notice ) भेज दिया है। वहीं दूसरी इलाहाबाद भी प्रकाश झा ( Prakash Jha ) के खिलाफ प्रदर्शन देखने को मिला। इलाहाबाद की सड़कों पर निर्देशक का पुतला फूंका गया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। करणी सेना ने पुतला फूंकते हुए वेब सीरीज़ 'आश्रम' और 'आश्रम 2' को बैन करने और उसके रिलीज़ होने पर रोक लगाने की बात कही है। यही नहीं उन्होंने मांग की है कि हिंदू धर्म की ठेस पहुंचाने के आरोप में प्रकाश झा की गिरफ्तारी भी हो।

यह भी पढ़ें- ट्रोलर्स ने किसान की फोटो शेयर कर साधा Abhishek Bachchan पर निशाना, अभिनेता के जवाब ने की बोलती बंद

 

Prakash Jha

करणी सेना द्वारा लगातार विरोध प्रदर्शन के बीच निर्देशक प्रकाश झा ( Prakash Jha ) ने कहा था कि आश्रम के पहले सीज़न को 400 मिलियन से भी ज्यादा बार देखा गया है। ऐसे में उन्हें लगता है कि सीरीज़ को बैन और बंद करने का फैसला जनता पर ही छोड़ देना चाहिए। साथ ही जनता को ही यह फैसला लेने दें कि क्या सच में इस सीरीज़ के कारण समाज में नकारत्मकता फैल रही है या नहीं? उन्होंने यह भी कहा कि करणी सेना की मांग को पूरा करने वाले आखिर वह होते कौन हैं?