RGV के जीवन पर बायोपिक 'RAMU' की घोषणा, बनेंगे 3 पार्ट, रनटाइम 6 घंटे, हर पार्ट की दी जानकारी

By: पवन राणा
| Published: 25 Aug 2020, 11:34 PM IST
RGV के जीवन पर बायोपिक 'RAMU' की घोषणा, बनेंगे 3 पार्ट, रनटाइम 6 घंटे, हर पार्ट की दी जानकारी
राम गोपाल वर्मा के जीवन पर बायोपिक 'रामू' की घोषणा, बनेंगे 3 पार्ट, रनटाइम 6 घंटे, हर पार्ट की दी जानकारी

सोशल मीडिया साइट पर रामगोपाल वर्मा ( Ram Gopal Varma ) ने जानकारी साझा करते हुए बताया कि बोम्मकू क्रिएशंस प्रोडक्शन हाउस मेरे जीवन पर बनने 3 पार्ट की बायोपिक ( RGV Biopic ) फिल्म बनाएगा। ये बहुत विवादास्पद होगी।

मुंबई। फिल्ममेकर राम गोपाल वर्मा ( Ram Gopal Varma ) ने खुद के जीवन पर बायोपिक की घोषणा कर दी है। 'रामू' नाम से बनने वाली इस बायोपिक के 3 पार्ट होंगे। तीनों पार्ट में रामू की अगल-अलग ऐज ग्रुप से जुड़ी घटनाओं को दिखाया जाएगा। तीनों पार्ट की कुल अवधि 6 घंटे होगी।

सोशल मीडिया साइट पर रामगोपाल वर्मा ने जानकारी साझा करते हुए बताया कि बोम्मकू क्रिएशंस प्रोडक्शन हाउस मेरे जीवन पर बनने 3 पार्ट की बायोपिक फिल्म बनाएगा। ये बहुत विवादास्पद होगी।

रामगोपाल एक के बाद एक ट्वीट कर बायोपिक की पूरी जानकारी दी है। उन्होंने लिखा,' मेरी बायोपिक 3 पार्ट में होगी और हर पार्ट की अवधि करीब 2 घंटे यानी की कुल 6 घंटे की होगी। हर पार्ट में मेरे जीवन के अलग-अलग फेज होंगे।' पार्ट 1 में एक नया एक्टर वो किरदार निभाएगा जब मैं 20 वर्ष का था। पार्ट 2 और 3 में अलग-अलग कलाकार मेरे रोल करेंगे।

उन्होंने बताया कि पहले पार्ट का नाम 'रामू' होगा जो मेरे कॉलेज के दिनों, पहले प्यार में पड़ने और विजयवाड़ा में गैंग फाइट करने को लेकर होगा। पार्ट 2 का नाम 'राम गोपाल वर्मा' होगा जिसमें मुंबई में मेरी लाइफ में लड़कियों, गैंगेस्टर्स और अमिताभ बच्चन के बारे में होगा। पार्ट 3 का नाम 'आरजीवी- द इंटेलिजेंट इडियट' होगा। इसमें मेरे फेलियर और भगवान, सेक्स और सोसायटी को लेकर मेरे विचार होंगे।' इस बायोपिक को बोम्मकू मुरली प्रोडयूस करेंगे जबकि निर्देशन दोरासाइ तेजा करेंगे। इसकी शूटिंग सितंबर में शुरू होगी।

View this post on Instagram

The HUNTING and KILLING of RHEA CHAKRABORTY

A post shared by RGV (@rgvzoomin) on

रिया चक्रवर्ती का किया सपोर्ट

रामू ने एक न्यूज पोर्टल से बातचीत में कहा कि रिया चक्रवर्ती के साथ हो रहे बर्ताव पर मैं हैरान हूं। बिना सबूत के दोष लगाने का कोई मतलब नहीं है। सुशांत केस में रिया ने गलत किया है या नहीं, इससे किसी को कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। लोग आलोचना करने में लगे हैं। जैसे लोग महिलाओं को डायन का साया का इल्जाम लगाकर मार देते हैं, रिया के साथ हो रहा व्यवहार भी ऐसा ही है। किसी व्यक्ति के बारे में बिना किसी सबूत के उसके बारे में इस तरह की खबरें फैलना और उसका शिकार करना बेहद असंवेदनशील है। बता दें कि राम गोपाल वर्मा पहले नेपोटिज्म मुद्दे पर करण जौहर का खुलकर समर्थन कर चुके हैं।