साजिद खान ने Sushant की बहनों से कहा- मुझे अपना भाई समझें और अकेला न महसूस न करें

By: Sunita Adhikari
| Published: 16 Aug 2020, 01:32 PM IST
साजिद खान ने Sushant की बहनों से कहा- मुझे अपना भाई समझें और अकेला न महसूस न करें
Sajid Khan

  • साजिद (Sajid Khan) ने सुशांत के परिवार के लिए कहा कि मैं उनके पिता और बहनों का दर्द समझता हूं। मेरी दुआएं उनके साथ हैं। मैं सुशांत की सभी बहनों से कहना चाहता हूं कि वह मुझे अपना भाई समझें और अकेला न महसूस करें।

नई दिल्ली: बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत को दो महीने का वक्त हो गया है। लेकिन उनकी मौत के गम से अभी तक लोग उबर नहीं पाए हैं। वहीं, सुशांत के परिवार (Sushant's Family) वाले उन्हें इंसाफ दिलाने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं। सुशांत के अलावा इस साल बॉलीवुड के कई स्टार्स ने इस दुनिया को अलिवदा कहा। 1 जून को वाजिद खान (Wajid Khan) का भी निधन हो गया। अब हाल ही में वाजिद खान के भाई साजिद खान (Sajid Khan) ने सुशांत के परिवार के लिए कहा कि मेरी दुआएं उनके साथ हैं। मैं सुशांत की सभी बहनों को कहना चाहता हूं कि वह मुझे अपना भाई समझें।

साजिद खान ने जूम टीवी को दिए इंटरव्यू में कहा कि मुझे सुशांत काफी पसंद थे। उन्होंने काफी अच्छा काम किया है। जिम में मैंने उन्हें कई बार देखा था, लेकिन मुलाकात सिर्फ एक बार ही हो पाई। उनकी मौत के बाद से मुझे काफी बुरा लग रहा है। उन्होंने कहा कि मैं खुद को अभागा मानता हूं कि मैं उनके साथ काम नहीं कर पाया। काश मैंने उनके लिए भी गाने बनाए होते। साजिद ने कहा कि वह सुशांत के लिए गाना बनाना चाहते हैं लेकिन लोगों को ये ना लगे कि वह सुशांत के नाम पर पब्लिसिटी कर रहा हूं।

इसके साथ ही साजिद ने सुशांत के परिवार के लिए कहा कि मैं उनके पिता और बहनों का दर्द समझता हूं। मेरी दुआएं उनके साथ हैं। मैं सुशांत की सभी बहनों से कहना चाहता हूं कि वह मुझे अपना भाई समझें और अकेला न महसूस करें। हम उनके साथ हैं। इसके अलावा साजिद खान ने वाजिद के बारे में बात करते हुए कहा, मेरे कमरे के दीवार पर वाजिद की तस्वीर है। मैं उसकी तस्वीर के सामने खड़े होकर उससे बात करता हूं। वाजिद को आज भी मैं वॉट्सऐप पर जीत जाएंगे हम गाना भेजता हूं। इतना ही नहीं, कभी-कभी तो मैं उसके नंबर पर कॉल करता हूं। मैसेज भेजता हूं कि हमारा गाना कब रिलीज हो रहा है। मैं अभी भी उस अवस्था से बाहर नहीं निकलना चाहता हूं।