Sandeep Singh ने किया खुलासा, सुशांत के पोस्टमार्टम वाले दिन पुलिस को क्यों दिखाया था अंगूठा?

By: Sunita Adhikari
| Published: 07 Sep 2020, 01:53 PM IST
Sandeep Singh ने किया खुलासा, सुशांत के पोस्टमार्टम वाले दिन पुलिस को क्यों दिखाया था अंगूठा?
Sandeep Singh answered all the allegations

  • सुशांत के अंतिम संस्कार के वक्त मौजूद Sandeep Singh की भूमिका पर कई तरह के सवाल उठ रहे थे। इस स्थिति में अब संदीप सिंह ने काफी वक्त बाद अपनी चुप्पी तोड़ी है।

नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत की मौत को ढाई महीने से ज्यादा का वक्त हो गया है। लेकिन उनकी मौत का राज अभी तक नहीं खुल पाया है। ऐसे में सीबीआई और एनसीबी इस मामले की सख्ती से जांच कर रही है। इस बीच मीडिया में फिल्म निर्माता व खुद को सुशांत का दोस्त बताने वाले संदीप सिंह पर कई आरोप लगे थे। सुशांत के अंतिम संस्कार के वक्त मौजूद संदीप सिंह की भूमिका पर कई तरह के सवाल उठ रहे थे। इस स्थिति में अब संदीप सिंह ने काफी वक्त बाद अपनी चुप्पी तोड़ी है। इसके साथ ही उन्होंने खुद पर लगे सभी आरोपों को गलत बताया है।

अंगूठा दिखाने के पीछे की वजह बताई

दरअसल, हाल ही में संदीप सिंह ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा, जो लोग मेरे ऊपर आरोप लगा रहे हैं, वो लोग ये बताएं कि जब उन्हें सुशांत की मौत या उनके अंतिम संस्कार की खबर मिली तो सुशांत के घर या अस्पताल क्यों नहीं गए। वो लोग उनके परिवार के साथ क्यों खड़े नहीं हुए? इसके साथ ही संदीप सिंह ने सुशांत के पोस्टमार्टम वाले दिन पुलिस को अंगूठा क्यों दिखाया था? इस पर भी उन्होंने अपनी सफाई दी। संदीप ने कहा, मैं और सुशांत की दीदी मीतू सिंह सिंह कूपर अस्पताल पहुंचे। तो वहां मौजूद एक कांस्टेबल ने पूछा कि संदीप सिंह कौन है? उस वक्त चिल्ला कर बताने और मास्क हटाने की बजाए मैंने अंगूठा दिखाकर बताया कि मैं ही संदीप सिंह हूं।

हम दोनों दोस्त थे

संदीप सिंह ने आगे कहा, मैंने क्या गलत किया? मुझे उस वक्त क्या करना चाहिए था? क्या उस वक्त मुझे अपने जेस्चर की परवाह करनी चाहिए थी? संदीप ने सुशांत के साथ अपने रिश्ते को लेकर कहा कि वह सुशांत के दोस्त हैं और लॉकडाउन के दौरान उनसे बात करने की कोशिश भी की थी। संदीप ने कहा, एक साल से सुशांत अपनी फिल्मों छीछोरे और दिल बेचारा की शूटिंग में बिजी थे। वहीं, उस वक्त मैं पीएम नरेंद्र मोदी फिल्म बनाने में बिजी था। हर इंसान अपनी-अपनी जिंदगी में व्यस्त रहता है। अगर कोई लंबे वक्त से संपर्क में नहीं हैं तो इसका मतलब ये नहीं है कि अब उनके बीच दोस्ती नहीं रही।

संदीप ने बताया कि उन्होंने लॉकडाउन को सुशांत को मैसेज भेजा था। लेकिन उनकी तरफ से मुझे कोई जवाब नहीं मिला था, क्योंकि मेरे पास उनका नया नंबर नहीं था। अगर उन्होंने अपना नंबर चेंज कर दिया तो इसमें मेरी क्या गलती? आपको बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को अपने घर में मृत पाए गए थे। जिसके बाद संदीप सिंह उनके घर पहुंचे और उनके पोस्टमार्टम से लेकर अंतिम संस्कार में संदीप सिंह ने ही सारा काम किया था।