scriptbundi news, bundi rajasthan news, village, development, pasture, chari | रोजगार के साधन उपलब्ध हो तो रुके पलायन | Patrika News

रोजगार के साधन उपलब्ध हो तो रुके पलायन

बूंदी रियासत के बड़े ओहदे का ठिकाना होने से बड़ाखेड़ा की पहचान पुरानी है। कस्बे की स्थापना को लेकर सही जानकारी तो नहीं मिलती

बूंदी

Updated: August 14, 2021 06:27:10 pm

बड़ाखेड़ा. बूंदी रियासत के बड़े ओहदे का ठिकाना होने से बड़ाखेड़ा की पहचान पुरानी है। कस्बे की स्थापना को लेकर सही जानकारी तो नहीं मिलती, लेकिन नागमाल सिंह हाडा नाम के जागीरदार की वजह से कस्बे को आज भी बुजुर्ग नगजी महाराज का खेड़ा कहते हैं। आजादी के बाद कस्बे का नाम बड़ाखेड़ा पड़ा। राजपरिवार के सदस्य रहे प्रदीप सिंह हाडा ने बताया कि पूर्व ठिकानेदार कर्ण सिंह हाड़ा ने देश आजाद होते ही जगीरदारी की जमीन में से 2700 बीघा जमीन चरागाह के नाम कर दी। जिसका सरकारी आदेश है। वहीं ग्रामीणों के लिए रास्ते के लिए अपनी भूमि दान कर दी। गांव में उस समय ग्रामीणों की आय के स्रोत कृषि, पशुपालन, व्यापार आदि थे। गांव में शहर जैसी सुविधाएं पुराने समय से उपलब्ध है। गांव में आजादी से पहले सरकारी विद्यालय था। गांव में 1972 में पेयजल के लिए बड़ी टंकी का निर्माण हो गया था और घर-घर नल लग गए थे। वर्ष 1970 में बिजली गांव तक पहुंच चुकी थी। 1965 में आयुर्वेद चिकित्सालय खुल चुका था। 1968 में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, ग्रामीण बैंक भी संचालित था।
बाद में लाखेरी कस्बे में स्थानांतरित कर दिया गया। कस्बे में सबसे प्राचीन चारभुजा मंदिर व जानकीराय महाराज का मंदिर है। आजादी से पहले भी गांव में सरकारी कर्मचारी थे और बाद में तहसीलदार बने भीमशंकर शर्मा, भंवर सिंह हाडा, आजादी के कस्बे में सरकारी कर्मचारियों की संख्या तेजी से बढ़ी।

रोजगार के साधन उपलब्ध हो तो रुके पलायन
रोजगार के साधन उपलब्ध हो तो रुके पलायन

गांव की समस्या
बालिका विद्यालय दसवीं तक नहीं हुआ है। बड़ाखेड़ा से माखीदा रोड तक पक्की सडक़ का निर्माण नहीं हुआ। गांव में आबादी के हिसाब से पुलिस चौकी की स्थापना, गांव में अस्पताल में चिकित्सकों की संख्या कम होना, गांव में स्थाई सफाई कर्मचारी नहीं होने की समस्या है। दीपिका शर्मा ने बताया कि गांव में रोजगार के साधन उपलब्ध हों तो ग्रामीणों का पलायन रुक जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Covid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 5,760 नए मामले, संक्रमण दर 11.79%Republic Day 2022 parade guidelines: कोरोना की दोनों वैक्सीन ले चुके लोग ही इस बार परेड देखने जा सकेंगे, जानिए पूरी गाइडलाइन्सएमपी में तैयार हो रही सैंकड़ों फूड प्रोसेसिंग यूनिट, हजारों लोगों को मिलेगा कामकांग्रेस के तीन घोषित प्रत्याशी पार्टी छोड़ कर भागे, प्रियंका गांधी हुई हैरानDelhi Metro: गणतंत्र दिवस पर इन रूटों पर नहीं कर सकेंगे सफर, DMRC ने जारी की एडवाइजरीNational Voters' Day: पहली बार वोट देने वाले जानें अपने अधिकार और जिम्मेदारी के बारे मेंराज्य की तकदीर बदलने वाली योजनाएं केन्द्र में अटकीकोरोना में स्कूल हुए बंद तो बच्चों के घर-आंगन में जाकर पढ़ाया, गणतंत्र दिवस के दिन 36 शिक्षक होंगे सम्मानित, तीनों ब्लॉक से किया चयन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.