क्या वित्त मंत्रालय हर महीने देगा 1.30 लाख रुपये इमरजेंसी कैश? जानिए इस संदेश की सच्चाई

पीआईबी ने बताया कि वित्त मंत्रालय की ओर से इस तरह की कोई योजना नहीं चलाई गई है। इसे पूरी तरह से फर्जी संदेश बताया है।

By: Mohit Saxena

Published: 01 Aug 2021, 04:52 PM IST

नई दिल्ली। एक खबर तेजी से वायरल हो रही है कि वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) हर माह 1.30 लाख रुपये इमरजेंसी कैश बांट रहा है। अगर आपके पास भी इस तरह का कोई मैसेज आया है तो सतर्क हो जाएं। यह एक फेक संदेश है। इन दिनों सोशल मीडिया पर ये मैसेज तेजी से वायरल हो रहा है। पीआईबी (प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो) ने इसकी पड़ताल की और इसे पूरी तरह से फेक बताया है। पीआईबी ने बताया कि वित्त मंत्रालय की ओर से इस तरह की कोई योजना नहीं चलाई गई है।

पीआईबी ने ट्वीट करा

पीआईबी फैक्ट चेक (#PIBFactCheck ) ने अपने एक ट्वीट में कहा कि एक वॉट्सऐप मैसेज में दावा करा जा रहा है कि भारत का वित्त मंत्रालय लोगों को इमरजेंसी कैश मुहैया करा रहा है। इमरजेंसी कैश के रूप में वित्त मंत्रालय लोगों को छह माह के लिए 1.30 लाख रुपये प्रति माह दे रहा है।

ये भी पढ़ें: SBI होम लोन पर दे रही है प्रोसेसिंग फीस में छूट, ऐसे उठाएं योजना का लाभ

पीआईबी ने लोगों को दी सलाह

पीआईबी की ओर से यह दावा करा गया कि ये फर्जी संदेश है और लोगों को सलाह दी है कि ऐसी किसी भी योजना पर भरोसा करने से पहले अच्छी तरह से जांच लें। सरकार की ओर से हर योजना की जानकारी पहले मंत्रालय की ओर से जारी होती है। इसलिए हर योजना से जुड़े मंत्रालय की वेबसाइट, पीआईबी और दूसरे माध्‍यमों से पड़ताल करने के बाद ही आवेदन करें। इसके साथ ही कहा गया कि किसी फर्जी खबर के झांसे में आने पर आपको फायदे के बजाय आर्थिक नुकसान उठाना पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें: आज से बदल गए हैं बैंक और पैसे से जुड़े ये नियम, गलती होने पर देनी होगी पेनल्टी

कोरोना काल में बढ़ रहीं फेक खबरें

कोरोना काल में देशभर में ऐसे हालात बने हुए है कि फेक खबरें तेजी से वायरल हो रही हैं। भारत सरकार की प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो (PIB) ने वायरल खबर का पूरी तरह से खंडन किया है। उसने कहा कि सरकार ने ऐसा कोई फैसला नहीं लिया है। सरकार ने भी कोरोना काल में इस तरह की फर्जी खबरों को फैलने से रोकने के लिए कई प्रयास किए हैं।

आप भी करा सकते हैं फैक्टचेक

अगर आपके पास भी कोई इस तरह का मैसेज मिलता है तो फिर उसको पीआईबी के पास https:// fact check .pib. gov.in/ अथवा वॉट्सऐप नंबर +918799711259 या ईमेलः [email protected] पर भेज सकते हैं। यह जानकारी पीआईबी की वेबसाइट https://pib.gov.in पर मौजूद है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned