ऐसे 5 मौके जब एक साथ खेले पिता-पुत्र, एक मैच में पुत्र पर भारी पड़े पिता, एक भारतीय जोड़ी भी शामिल

-5 मौकों पर एक साथ क्रिकेट ग्राउंड पर पिता-पुत्र। किया एक-दूसरे से कड़ा मुकाबला।
-एक पिता-पुत्र की जोड़ी एक ही मैच में जड़े शतक। पुत्र पर भारी पड़ा पिता।
-एक भारतीय जोड़ी भी शामिल है, जिसमें पिता-पुत्र एक साथ क्रिकेट मैच खेले।

By: भूप सिंह

Published: 03 Dec 2020, 02:25 PM IST

बढ़े बुजुर्ग कहते आए है कि डॉक्टर का बेटा तो डॉक्टर ही बनेगा। भले यह कहावत सौ फीसदी सच नहीं हो, लेकिन क्रिकेट जगत में पिता-पुत्र (father son duo) की कई ऐसी जोड़ियां जिन्होंने क्रिकेट ग्राउंड पर कई मौकों पर एक साथ बैटिंग की है। आज हम आपको ऐसी ही 5 पिता-पुत्र की जोड़ियों से रूबरू करवाने जा रहे हैं, जिन्होंने बड़े बुजुर्गों की उस कहावत को सही साबित कर दिखाया। इस आर्टिकल की खास बात यह है कि इन पांच जोड़ियों की लिस्ट में एक भारतीय जोड़ी भी शामिल है।

फैंस ने इन मजेदार Memes के जरिए मनाया जीत का जश्न, गंभीर की लगाई क्लास, हार्दिक-जडेजा बने हीरो

लाला अमरनाथ और सुरिंदर (Lala Amarnath, surinder amarnath)
वर्ष 1963 में लाला अमरनाथ और उनके बेटे सुरिंदर एक चैरिटी मैच खेले थे। उस समय अमरनाथ 52 साल के थे और उनके बेटे सुरिंदर 15 साल के। उस समय दोनों ने एक साथ ड्रेसिंग रूम शेयर किया था।

शिवनारायण चंद्रपाल और तेगनारायण चंद्रपॉल ( Shivnarine Chanderpaul )
वर्ष 2017 में वेस्टइंडीज के दिग्गज बल्लेबाज शिवनारायण चंद्रपॉल और उनके बेटे तेग नारायण चंद्रपॉल एक साथ मैदान पर खेले थे। पिता—पुत्र की जोड़ी ने उस टेस्ट मैच में 256 रनों की साझेदारी की थी।

क्वाफे और बर्नार्ड
इंग्लैंड के क्वाफे और उनके बेटे बर्नार्ड की जोड़ी एक मैच नहीं बल्कि 20 मैचों में एक साथ मैदान पर खेली। विली क्वाफे को केवल इंग्लैंड के लिए सात टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला। यह जोड़ी वारविकशायर के लिए कई मैच एक साथ खेली।

हीथ स्ट्रीक और डेनिस (Heath Streak)

वर्ष 1996 में हीथ स्ट्रीक और उनके बेटे डेनिस स्ट्रीक भी एक साथ मैदान पर खेले थे। हीथ स्ट्रीक बल्लेबाजी कर रहे थे तो वहीं डेनिस गेंदबाजी कर रहे थे। यह नजारा सबके लिए बहुत अनोखा था।

वेर्नोंन गन और जॉर्ज गन
वर्ष 1931 में वारविकशायर और नॉटिंघमशायर के बीच एक मैच खेला गया था, जिसमें वेर्नोंन गन ने शतकीय पारी खेली थी। जबकि उनके पिता जॉर्ज गन ने 183 रन बनाए थे। यह क्रिकेट इतिहास का इकलौता मौका है, जब एक ही मैच में पिता—पुत्र की जोड़ी ने शतक जड़े।

Show More
भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned