अश्विन-विहारी ने बनाया अनोखा रिकॉर्ड, मोंगिया-तेंदुलकर के बाद आया नाम

  • चौथी पारी में छठे विकेट के लिए गेंदों के हिसाब से अश्विन-विहारी तीसरी सबसे बड़ी साझेदारी
  • दोनों ने मिलकर सिडनी में 259 गेंदों का सामना करते हुए 66 रन की साझेदारी की

By: Saurabh Sharma

Updated: 11 Jan 2021, 03:19 PM IST

नई दिल्ली। जब चेतेश्वर पुजारा और रिषभ पंत क्रीज पर टिके हुए थे, तो ऐसा लग रहा था कि टीम इंडिया 408 रन का लक्ष्य आसानी से पार कर लेगी, लेकिन पहले रिषभ और उसके बाद चेतेश्वर पुजारा दोनों के आउट होने के बाद टीम संकट में आ गई। उसके बाद मैदान पर थे चोटिल हनुमा विहारी और ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन। दोनों मिलकर भले ही रन नहीं बनाए, 40 ओवर से ज्यादा की साझेदारी कर इतिहास रच दिया और नयन मोंगिया और सचिन तेंदुलकर जोड़ी के बाद अपना नाम दर्ज करा दिया। वास्तव में अश्विन और हनुमा ने भारत के लिए चौथी पारी में 6वें विकेट के लिए गेंदों के हिसाब से तीसरी सबसे बड़ी साझेदारी करने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है।

दोनों ने मिलकर निभाई 259 गेंदों की पार्टनरशिप
हनुमा विहारी और रविचंद्रन अश्विन ने मिलकर 259 गेंदों का सामना किया। जिसमें 128 गेंद अश्विन ने खेली और 131 गेंदों का सामना हनुमा विहारी ने किया। अश्विन ने अपनी पारी में 7 चौकों की मदद 39 रन की पारी खेली। जबकि हनुमा ने 23 रन बनाएं वैसे हनुमा और अश्विन की जोड़ी ने 259 गेंदों में 66 रन की पार्टनरशिप की है। जोकि गेंदों के हिसाब से सबसे कम रन कहे जाएंगे।

photo_2021-01-11_15-10-58.jpg

तीसरी सबसे बड़ी पार्टनरशिप
वास्तव में दोनों खिलाड़ी एक अजीब ग्रुप में शामिल हो गए हैं। चौथी पारी में छठे विकेट के लिए गेदों के हिसाब से तीसरी सबसे बड़ी पार्टनरशिप की है। इस विकेट के लिए गेंदों के हिसाब से सबसे बड़ी पार्टनरशिप 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ ओवल के मैदान पर केएल राहुल और रिषभ पंत ने निभाई थी। तब दोनों ने मिलकर 267 गेंदों का सामना किया था और 204 रन की पार्टनरशिप की थी। दूसरे नंबर पर 1999 का चेन्नई टेस्ट मैच है। जिसमें पाकिस्तान के खिलाफ सचिन तेंदुलकर और नयन मोंगिया ने 266 गेंदों की पार्टनरशिप की थी। उन दोनों ने मिलकर 136 रन बनाए थे।

photo_2021-01-11_15-12-52.jpg

सिडनी टेस्ट मैच हुआ ड्रॉ
सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (एससीजी) में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच के आखिरी दिन सोमवार को जब आस्ट्रेलियाई टीम मैदान पर उतरी थी तो भारत के खिलाफ उसकी जीत उसके करीब दिख रही थी। लेकिन मेहमान टीम के बल्लेबाज ऋषभ पंत (97), चेतेश्वर पुजारा (77), टिकाऊ हनुमा विहारी और रविचंद्रन अश्विन ने अद्भुत बल्लेबाजी करते हुए आस्ट्रेलिया की जीत के अरमानों पर पानी फेरते हुए मैच ड्रॉ करा दिया। भारत को आस्ट्रेलिया ने 407 रनों का विशाल लक्ष्य दिया था जिसके जवाब में चौथे दिन भारत ने अपने दो विकेट 98 रनों पर गंवा दिए थे। पांचवें दिन आस्ट्रेलिया को भारत के सिर्फ आठ विकेट लेने थे।

Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned