घरेलू क्रिकेट में कड़ी मेहनत का नतीजा है शार्दु्ल की सफलता : ट्रेनर

-शार्दुल ठाकुर ने आठ साल पहले किया था फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डेब्यू।
-ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सात या उससे अधिक विकेट लेने और अर्धशतक लगाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बनें शार्दुल।
-शार्दुल के ट्रेनर दिनेश लाड का मानना है कि वह घरेलू क्रिकेट में कड़ी मेहनत से निखर कर आगे आए हैं।

 

 

By: भूप सिंह

Published: 18 Jan 2021, 10:32 PM IST

नई दिल्ली। आठ साल पहले जब शार्दूल ठाकुर (Shardul Thakur) ने अपना फर्स्ट क्लास डेब्यू किया था तब मुम्बई की टीम में सचिन तेंदुलकर (Sachin tendulkar), अजीत अगरकर (Ajit Agarkar) और जहीर खान (Zaheer Khan) जैसे दिग्गज भी थे। ये तीनों दिग्गज हालांकि राजस्थान के साथ हुए उस मैच के लिए जयपुर का दौरा नहीं किया था। वे हालांकि रेलवे के खिलाफ मुम्बई के लिए सीजन के पहले मुकाबले में खेले थे।

सिराज के रिकॉर्ड तोड़ प्रदर्शन पर सहवाग, सचिन और लक्ष्मण ने ऐसी की तारीफ, यकीन नहीं होगा

सचिन और जहीर को इंग्लैंड के साथ होने वाली टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम से जुड़ना था। जयपुर के मैच में शार्दूल (Shardul) के स्कूली दोस्त रोहित शर्मा (Rohit Sharma) कप्तान थे लेकिन शार्दूल उस मौके को दोनों हाथों से लपक नहीं सके थे। वह सिर्फ एक विकेट ले सके थे और बाद में वह टीम से निकाल दिए गए। मुम्बई ने हालांकि उन्हें उसी सीजन में टीम में वापस बुलाया। सेमीफाइनल में शार्दूल ने सर्विसेज के खिलाफ तीन विकेट लिए।

सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी : कर्नाटक ने उप्र को 5 विकेट से हराया

मुम्बई ने उन पर अगले सीजन में भी भरोसा कायम रखा और उन्होंने 27 विकेट लेते हुए सफलता की नई कहानी लिखी। उसके बाद से शार्दूल ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। फर्स्ट क्लास में आठ साल तपने के बाद शार्दूल ने अपना पहला टेस्ट मैच 2018 अक्टूबर में खेला और वेस्टइंडीज के खिलाफ हुए उस मैच में वह 10 गेंद की गेंदबाजी के बाद ही लंगड़ाते नजर आए। ठाकुर ने हालांकि अब अपनी असली प्रतिभा दिखा दी है। सोमवार को वह ऑस्ट्रेलिया में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सात या उससे अधिक विकेट लेने और अर्धशतक लगाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 5 विकेट लेने बाद सिराज ने दिया ऐसा इमोशनल बयान, सुनकर दंग रह जाएंगे

दिनेश लाड जो कि रोहित और शार्दूल को स्कूल के समय में ट्रेनिंग दे चुके हैं, उन्होंने कहा, कुछ साल पहले वह काफी बल्की हुआ करते थे और दिशाहीन गेंदबाजी करते थे। मैंने उनसे बालू पर दौड़ने के लिए कहा। शार्दूल ने इसके बाद अपनी फिटनेस पर काम करना शुरू किया। किंग्स इलेवन पंजाब ने आईपीएल में उन्हें नहीं मौका दिया इससे वह निराश थे। मैंने उनसे कहा कि निराश होने की जरूरत नहीं है। अपने मजबूत पक्ष पर काम करो। आप टॉप लेबल पर अभ्यास कर रहे हो।

गॉल टेस्ट : इंग्लैंड ने श्रीलंका को 7 विकेट से हराया

लाड मानते हैं कि आज की शार्दूल की सफलता घरेलू क्रिकेट में उनकी मेहनत का नतीजा है। घरेलू क्रिकेट एक खिलाड़ी का टेम्परामेंट बनाने में मदद करती है। शीर्ष स्तर पर खेलने के लिए संयम की जरूरत होती है और शार्दूल को यह संयम घरेलू क्रिकेट से मिला है। शार्दूल ने ब्रिस्बेन टेस्ट में भारत के लिए अहम मुकाम पर 67 रनों की पारी खेलने के अलावा ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी में चार अहम विकेट हासिल किए। शार्दूल ने मार्नस लाबुशैन, कैमरन ग्रीन, टिम पेन और नेथन लॉयन के विकेट हासिल किए।

Show More
भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned