ब्रिस्बेन टेस्ट : अनुभवहीन भारतीय गेंदबाजों के सामने ऑस्ट्रेलिया मजबूत स्थिति में, पहले दिन बनाए 274 रन

-चौथे टेस्ट के पहले दिन ऑस्ट्रेलिया ने बनाए 5 विकेट के नुकसान पर 274 रन। भारतीय गेंदबाज नटराजन ने चटकाए दो विकेट।
-मानर्स लाबुशैन ने भारत के खिलाफ जड़ा पहला शतक। खेली शानदार 108 रनों की पारी।
-भारत के लिए एक और बुरी खबर आई। दूसरे सत्र में भारत के दाएं हाथ के तेज गेंदबाज नवदीप सैन चोटिल हो कर मैदान से बाहर चले गए।
- भारत के लिए नटराजन ने दो विकेट लिए हैं। सिराज, ठाकुर और सुंदर ने एक-एक विकेट लिए।

By: भूप सिंह

Updated: 15 Jan 2021, 05:31 PM IST

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया (Australia) ने यहां गाबा इंटरनेशनल स्टेडियम में भारत के खिलाफ खेले जा रहे चौथे और अंतिम टेस्ट मैच के पहले दिन शुक्रवार का अंत पांच विकेट के नुकसान पर 274 रनों के साथ किया। स्टम्प्स तक कप्तान टिम पेन (Tim Paine) 38 और कैमरून ग्रीन (Cameron green) 28 रन बनाकर खेल रहे हैं। चोटों से परेशान भारतीय टीम इस मैच में चार बदलाव के साथ उतरी। मेहमान टीम का गेंदबाजी आक्रमण बेहद अनुभवहीन और नया है, लेकिन फिर भी भारत के युवा गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के सामने अच्छा प्रदर्शन किया।

 

मानर्स लाबुशैन ने खेली 108 रन की पारी
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलिया ने अपनी सलामी जोड़ी को जल्दी खो दिया। मानर्स लाबुशैन ने 108 रनों की पारी खेल टीम को मजबूत किया, लेकिन अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे भारत के तेज गेंदबाज टी. नटराजन ने दो विकेट लेकर भारत की वापसी करा दी और मेजबान टीम को दबाव में ला दिया। हालांकि कप्तान पेन और ग्रीन ने 61 रनों की साझेदारी कर ऑस्ट्रेलिया को एक बार फिर मजबूत कर दिया।

 

सिराज ने कराई भारत की वापसी
पहले ही ओवर में मोहम्मद सिराज ने डेविड वार्नर 4 को आउट कर दिया। शार्दूल ठाकुर ने मार्कस हैरिस 5 को आउट करते हुए भारत को दूसरी सफलता दिलाई। 17 के कुल स्कोर तक ऑस्ट्रेलिया ने अपने दोनों सलामी बल्लेबाज खो दिए। यहां से लाबुशैन और पिछले मैच के शतकवीर स्टीव स्मिथ ने तीसरे विकेट के लिए 70 रनों की साझेदारी कर टीम को संभाल लिया। भोजनकाल तक ये दोनों टिके रहे। दिन के दूसरे सत्र में स्मिथ का निजी स्कोर 36 रन था। तभी अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे ऑफ स्पिनर वॉशिंगटन सुंदर ने उन्हें रोहित शर्मा के हाथों कैच करा दिया।

 

नवदीप हुए चोटिल
इस बीच भारत के लिए भी एक बुरी खबर आई। दूसरे सत्र में भारत के दाएं हाथ के तेज गेंदबाज नवदीप सैन चोटिल हो कर मैदान से बाहर चले गए। वह बीसीसीआई की मेडिकल टीम की निगरानी में हैं और स्कैन के लिए ले जाए गए हैं। लाबुशैन के साथ फिर मैथ्यू वेड ने शतकीय साझेदारी की। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 113 रन जोड़ते हुए टीम को अच्छी स्थिति में ला दिया। वेड अपने अर्धशतक से पांच रन दूर थे। उन्होंने नटराजन की शॉर्ट गेंद को पुल करने को कोशिश की और गेंद उनके बल्ले का ऊपरी किनारा लेकर हवा में गई। ठाकुर ने वेड का कैच पकड़ा और भारत को चौथा विकेट दिला दिया। 45 रन बनाने वाले वेड ने 87 गेंदों का सामना करते हुए छह चौके लगाए।

 

लाबुशैन ने लगाया भारत के खिलाफ पहला शतक
इस बीच लाबुशैन ने भारत के खिलाफ अपना पहला शतक पूरा कर लिया था। 100 का आंकड़ा छूने के बाद वह ज्यादा दूर नहीं जा पाए। नटराजन ने लाबुशैन को 108 के निजी स्कोर पर पवेलियन भेज दिया। लाबुशैन का कैच विकेटकीपर पंत ने पकड़ा। अपनी पारी में इस दाएं हाथ के बल्लेबाज ने 204 गेंदों का सामना किया और नौ चौके लगाए। लाबुशैन का विकेट 213 के कुल स्कोर पर गिरा। यहां ऑस्ट्रेलिया पर दबाव बनता दिख रहा था जिसे कप्तान पेन और ग्रीन ने अर्धशतकीय पारी खेल हटा दिया। पेन ने अभी तक 62 गेंदें खेली हैं और पांच चौके मारे हैं जबकि ग्रीन ने 70 गेंदों का सामना करते हुए तीन चौके लगाए हैं। भारत के लिए नटराजन ने दो विकेट लिए हैं। सिराज, ठाकुर और सुंदर ने एक-एक विकेट लिए।

Show More
भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned