कपिल देव ने आज ही के दिन वेस्टइंडीज का सपना किया था चकनाचूर, जीता था विश्व कप

टीम इंडिया ने वर्ष 1983 में वेस्टइंडीज को हराकर विश्व कप का पहला खिताब अपने नाम किया था। कपिल देव ने विव रिचर्ड्स का कैच पकड़कर पलट दिया था पूरा मैच।

By: भूप सिंह

Published: 25 Jun 2021, 07:23 PM IST

नई दिल्ली। भारत (India) के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर कपिल देव (Kapil Dev) की कप्तानी में टीम इंडिया (Team India) ने 25 जून, 1983 यानी आज के दिन 38 साल पहले विश्व कप (World Cup) जीतकर इतिहास रच दिया था। यह भारत का पहला विश्व कप था जो वेस्टइंडीज (West Indies) को मात देकर खिताब अपने नाम किया था। कपिल देव और उनकी टीम ने अकल्पनीय प्रदर्शन करते हुए वेस्टइंडीज जैसे मजबूत टीम को फाइनल में हराया था। उस समय भारतीयों को विश्वास भी नहीं हुआ था कि ये कैसे हुआ।

यह भी पढ़ें:—न्यूजीलैंड की चुनौती का सामना नहीं कर पा रहा भारत, 13 साल में लगातार छठा ICC टूर्नामेंट हारा

किसी को नहीं विश्व कप जीतने की उम्मीद
कई भारतीय फैंस तो भारतीय टीम के 1983 विश्व कप के फाइनल में पहुंचना ही अपने आप में बड़ी उपलब्धि मान रहे थे। क्योंकि इससे पहले 1975 और 1979 में केवल एक मैच जीतने में सफल हुई थी। ऐसे में भारी संख्‍या में फैंस को भारतीय टीम से खिताब की उम्‍मीद नहीं थी। वहीं वेस्टइंडीज टीम को उस समय हराना बहुत बड़ी उपलब्धि मानी जाती थी। क्योंकि क्‍लाइव लॉयड की कप्‍तानी में वेस्‍टइंडीज ने 1975 और 1979 दोनों विश्‍व कप खिताब जीते थे।

1983 में वेस्टइंडीज की टीम में खेल रहे थे ये धाकड़ खिलाड़ी
1983 में भी वेस्टइंडीज टीम के जीतने की प्रबल संभावनाएं थी। क्योंकि उस समय टीम में गॉर्डन ग्रीनिज, डेसमंड हेंस, विव रिचर्ड्स, क्‍लाइव लॉयड और लैरी गोम्‍स जैसे धाकड़ नाम शामिल थे। वहीं गेंदबाजों में फेब फॉर माल्‍कम मार्शल, सर एंडी रॉबर्ट्स, जोएल गार्नर और माइकल होल्डिंग शामिल थे।

183 पर ऑलआउट हो गई थी टीम इंडिया
भारतीय टीम की और से कोई भी बल्लेबाज अर्धशतक नहीं लगा पाया था। भारत की और से क्रिस श्रीकांत ने सबसे ज्यादा 38 रन बनाए थे। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया 183 रन पर ही ऑलआउट हो गई थी। उस समय 60 ओवर का वनडे मैच होता था।

यह भी पढ़ें:—इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले टीम इंडिया को लगा बड़ा झटका, इशांत शर्मा चोटिल

कपिल देव का यादगार कैच और खिताबी सपना पूरा
कपिल देव ने 1983 विश्व कप में 15 रन बनाए थे और 1 विकेट लिया था। लेकिन वेस्टइंडीज की बल्लेबाजी भी फ्लॉप रही और कोई भी बल्लेबाज 50 रन का आंकड़ा नहीं छू सका। इस मैच में विव रिचर्ड्स को मदद लाल ने 33 रन के निजी स्कोर पर मिडविकेट पर कपिल देव के हाथों कैच आउट कराया। इसके बाद वेस्टइंडीज की पूरी टीम ताश के पत्तों की तरह बिखर गई। एक समय वेस्टइंडीज के 66 रन पर 5 विकेट गिर गए थे। इसके बाद भारत ने वेस्टइंडीज को 140 रन पर ऑलआउट करके खिताब को जीत लिया। भारत ने अनहोनी को होनी कर दिखाते हुए 43 रन से मैच जीता।

भारत में बदली क्रिकेट की दिशा और 28 साल बाद फिर जीता विश्व
1983 में कपिल देव के विश्व कप की ट्रॉफी उठाने के बाद भारतीय क्रिकेट को एक नई दिशा मिली। इसके बाद टीम में सचिन तेंदुलकर से लेकर राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज खिलाड़ी और 28 साल बाद 2011 में टीम इंडिया फिर से विश्व विजेता बनी।

Show More
भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned