पार्थिव पटेल का दावा, धोनी के आते ही बदल गया सबकुछ, खत्म हो गया था क्रिकेट कॅरियर

पार्थिव पटेल ने हाल ही एक टीवी शो में अपने क्रिकेट कॅरियर पर बातचीत करते हुए दावा किया है कि धोनी की वजह से उनका क्रिकेट कॅरियर खत्म हो गया था।

By: भूप सिंह

Published: 22 Jul 2021, 06:13 PM IST

 

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेटर्स को टीम इंडिया में जगह बनाने के लिए काफी जद्दोजहद करनी पड़ती है। लेकिन महेंद्र धोनी (MS Dhoni) की प्रतिभा कुछ अलग ही थी। उन्होंने भारतीय टीम तक का सफर महज 5-6 साल में पूरा कर लिया था। धोनी ने 23 दिसंबर, 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ वनडे में अपना इंटरनेशनल कॅरियर शुरू किया था। भले ही धोनी अब वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह चुके हैं, लेकिन जब उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा था तो कई विकेटकीपरों का कॅरियर खत्म हो गया था। कप्तानी मिलने के बाद तो किसी विकेटकीपर के पास धोनी की जगह लेने की कोई गुंजाइश ही नहीं बची थी।

यह खबर भी पढ़ें:—कोरोना को मात देखकर टीम इंडिया में लौटे ऋषभ पंत, खेलेंगे पहला टेस्ट मैच

पार्थिव पटेल का दावा, धोनी की वजह से खत्म हुआ कॅरियर
टीम इंडिया के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल (Parthiv Patel) ने दावा कि धोनी के आने की वजह से उन्हें टीम इंडिया में ज्यादा मौके नहीं मिले और जल्द ही धोनी ने उनकी जगह ले ली। गौरतलब है कि पार्थिव पटेल ने 17 साल की उम्र में अपना टेस्ट डेब्यू किया था। उन्होंने 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ अपना पहला टेस्ट मैच खेला था।

इसलिए किया गया टीम इंडिया से ड्रॉप
पार्थिव पटेल ने हाल ही कर्टली एंड करिश्मा शो पर बातचीत करते हुए बताया कि उन्हें टीम इंडिया से इसलिए ड्रॉप किया गया क्योंकि खुद को मिले मौके को अच्छी तरह से नहीं भुना सके। पार्थिव टीम इंडिया के लिए सिर्फ 25 टेस्ट, 38 वनडे और 2 टी20 मैच ही खेल पाए थे।

यह खबर भी पढ़ें:—पहली बार खेला गया 100 गेंंदों वाला मैच, हरमनप्रीत ने खेली बेहतरीन पारी फिर भी हार गई टीम

धोनी के आते ही बदल गया सबकुछ
पटेल ने कहा, 'ईमानदारी से कहूं तो मुझे नहीं लगता कि मैं अनलकी था। मुझे धोनी के आने से पहले टीम इंडिया में खेलने के मौके मिले थे। मुझे टीम से इसलिए ड्रॉप किया गया क्योंकि इंटरनेशनल क्रिकेट के हिसाब से मेरा परफॉर्मेंस अच्छा नहीं था। इसके बाद धोनी आ गए और उनके आते ही सबकुछ बदल गया।' पार्थिव ने कहा, 'मैं सिर्फ इसलिए खुद को अनलकी नहीं कह सकता हूं कि मुझे ज्यादा खेलने का मौका नहीं मिला। टीम से ड्रॉप किए जाने से पहले मैं 19 टेस्ट मैच खेल चुका था। मैं ये भी नहीं कह सकता कि मुझे पर्याप्त मौके नहीं मिले। क्योंकि 19 टेस्ट काफी होते हैं।' पार्थिव ने अपने वनडे कॅरियर में 23.74 के एवरेज से 4 अर्धशतकों के साथ 736 रन बनाए।

भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned