टीम इंडिया के पूर्व गेंदबाज ने बताया विराट कोहली और सचिन तेंदुलकर में क्या है अंतर

कई लोग विराट कोहली को बेस्ट मानते है। वहीं कई लोग सचिन तेंदुलकर को सर्वश्रेष्ठ और महान बताते हैं। अब वेंकेटेश प्रसाद ने इस मामले में अपने विचार रखते हुए बयान दिया है।

By: Mahendra Yadav

Updated: 08 May 2021, 02:21 PM IST

टीम इंडिया के पूर्व तेज़ गेंदबाज़ वेंकटेश प्रसाद ने दो महान क्रिकेटर्स सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली की तुलना करने को लेकर अपने विचार रखे। बता दें कि कई लोग विराट कोहली को बेस्ट मानते है। वहीं कई लोग सचिन तेंदुलकर को सर्वश्रेष्ठ और महान बताते हैं। अब वेंकेटेश प्रसाद ने इस मामले में अपने विचार रखते हुए बयान दिया है। हालांकि सचिन और कोहली में से बेस्ट कौन है, यह सवाल तो ऐसा है कि जिस पर सभी लोग एकमत नहीं हो सकते, लेकिन पूर्व भारतीय दिग्गज तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने दोनों के बीच एक लाइन में अंतर बताकर अलग-अलग तरह की बहसों पर रोक लगा दी है।

इमोशन को लेकर दोनों में फर्क
दोनों दिग्गज क्रिकेटरों की तुलना करते हुए पूर्व गेंदबाज ने कहा कि दोनों बेशक बहुत दिग्गज क्रिकेटर हैं। वेंकटेश प्रसाद का माानना है कि क्रिकेट जगत में दोनों ही खिलाड़ी शानदार हैं, लेकिन दोनों में इमोशन को लेकर फर्क नजर आता है। वेंकटेश प्रसाद ने कहा कि दोनों खिलाड़ी कमाल के हैं और इसमें कोई फर्क नजर नहीं आता है। हलांकि इमोशन को लेकर बात करें तो सचिन तेंदुलकर शांत स्वभाव के खिलाड़ी हैं। वही विराट कोहली आक्रामक हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि यह बस फील्ड तक ही रहता है क्योंकि कोहली हर मैच जीतने के लिए बेताब रहते हैं.।

यह भी पढ़ें— जब वसीम अकरम की बाउंसर लगी सचिन के हेलमेट पर, अगली गेंद पर सिक्स लगाकर लिया था बदला

venkatesh_prasad.png

दोनों खिलाड़ियों की प्रतिक्रिया क्रिकेट के लिए अहम
वहीं सचिन के बारे में बोलते हुए वेंकटेश ने कहा कि सचिन ने भी हर मुकाबलेे में बेहतर खेलने की कोशिश की है लेकिन विराट कोहली की तुलना में सचिन इतने इमोशनल नजर आते, चाहे सचिन जीरो पर आउट हुए हों या फिर शतक बनाया हो। सचिन जल्दी से किसी चीज पर प्रतिक्रिया नहीं देते।

हालांकि वेंकटेश प्रसाद का मानना है कि दोनों के स्वभाव में भिन्नता होने के बावजूद दोनों खिलाड़ियों की शांत और आक्रामक प्रतिक्रिया क्रिकेट के लिए बहुत आवश्यक है। साथ ही उन्होंने कहा कि ये दोनों खिलाड़ी दो अलग व्यक्ति हैं और दोनों का चरित्र भी अलग—अलग है। क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए इन दोनों खिलाड़ियों का रिएक्शन बेहद जरूरी है।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned