संजीव चावला को भारत लेकर आई दिल्ली पुलिस, 19 साल बाद प्रत्यर्पण

  • बृहस्पतिवार दोपहर करीब 12 बजे आईजीआई हवाई अड्डे पर पहुंचा।
  • विशेष संधि के अंतर्गत प्रत्यर्पित करके गुरुवार को लाया गया हिंदुस्तान।
  • बुधवार को ब्रिटेन सरकार ने संजीव को ले जाने को दिखाई हरी झंडी।

नई दिल्ली। क्रिकेट सट्टेबाज संजीव (bookie sanjeev chawla) चावला को एयर इंडिया की फ्लाइट एआई-112 से गुरुवार को भारत लाया गया। स्पॉट फिक्सिंग के मामलों में दोषी चावला को लेकर विमान इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई (IGI Airport) अड्डे पर उतरा। दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच (Delhi Police Crime Branch) की टीम बुधवार-गुरुवार की रात ग्लोबल क्रिकेट सट्टेबाज संजीव चावला को लेकर लंदन से भारत के लिए रवाना हुई थी।

दिल्ली में भाजपा के लिए विधानसभा चुनाव में भारी पड़ गया MPH फैक्टर, सही से करता काम तो सुधर सकती थी तस्वीर

क्राइम ब्रांच (दिल्ली पुलिस) के एक अधिकारी के मुताबिक, "संजीव चावला को फाइनली दबोच कर लाने के लिए बीते रविवार को क्राइम ब्रांच के डीसीपी डॉ. जी राम गोपाल नायक की टीम ने लंदन (London) गई थी। कुछ दिन लंदन में जरूरी कार्रवाई के बाद बुधवार को ब्रिटेन सरकार (UK Government) ने संजीव चावला को लेने जाने के लिए हरी झंडी दिखा दी।"

दिल्ली पुलिस मुख्यालय के एक उच्च पदस्थ सूत्र के मुताबिक, "स्कॉलैंड यार्ड (Scotland Yard) द्वारा भारत के मोस्ट वांटेड अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट सट्टेबाज (Most Wanted International Cricket Bookie) को भारतीय समयानुसार बुधवार-गुरुवार रात करीब ढाई बजे सौंप दिया गया। दोनों देशों की पुलिस द्वारा संजीव चावला के प्रत्यर्पण प्रक्रिया का यह अंतिम चरण हीथ्रो हवाईअड्डा (लंदन) पर अंजाम तक पहुंचा।"

दिल्ली के भजनपुरा से सामने आया सनसनीखेज मामला, घर से आ रही तेज बदबू के बाद पुलिस ने खोला दरवाजा तो

सूत्र के मुताबिक, "सब कुछ स्कॉटलैंड पुलिस के हिसाब से हुआ। संभव है कि यह सब स्कॉटलैंड यार्ड ने सुरक्षा के लिहाज से किया हो। अगर दिल्ली पुलिस को संजीव चावला फ्लाइट के टाइम से पहले मिल भी गया होता, तो फिर हम उसे वहां सुरक्षित कैसे और कहां रखने का इंतजाम करते। इसलिए स्कॉटलैंड यार्ड ने सीधे-सीधे देर रात हीथ्रो हवाईअड्डे पर चावला को क्राइम ब्रांच के हवाले किया।"

बुधवार को उन्होंने बताया था, "संजीव चावला कोई आम कैदी नहीं है। उसे एक विशेष संधि के तहत 19 साल बाद प्रत्यर्पण कराके यहां ला पा रहे हैं। सबसे पहले उसका मेडिकल चेकअप कराया जाएगा। फिर नियमानुसार उसे अदालत के सामने पेश कर उसकी पुलिस कस्टडी मांगी जाएगी।"

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned