दौसा: मोरेल बांध को लेकर हाईअलर्ट जारी, 38 साल बाद एक फीट पानी रहा खाली

1981 की बाढ़ में पहले टूट चुका था मोरेल बांध
आसपास के ग्राामीण लोगों को किया चौकन्ना, अधिकारी पहुंचे मौके पर

By: Mahesh Jain

Published: 16 Aug 2019, 03:54 PM IST

दौसा. जिले के सबसे बड़े मोरेल बांध में शुक्रवार दोपहर एक बजे तक 29 फीट पानी की आवक हो चुकी है। इस बांध की भराव क्षमता ऊंचाई में 30 फीट। लेकिन क्षेत्रफल में 2 हजार 707 एमसीफीट है, जो जिले के सभी 39 बांधों का 38 प्रतिशत है। 1981 में यह बांध टूट गया था। इसके बाद इस बांध में अब पहली बार इतना पानी आया है। जिला कलक्टर ने जलसंसाधन विभाग के अधिकारियों को बांध पर ही ठहर कर स्थिति पर नजर रखने के निर्देश जारी किए हंै। इधर मोरेल नदी में भी ढाई फीट पानी बह रहा है। Morel Dam

 

प्रशासन ने जारी किया अलर्ट जारी Morel Dam High alert
मोरेल बांध अब मात्र एक फीट खाली ही रह गया है। जिला कलक्टर अविचल चतुर्वेदी ने जल संसाधन विभाग के अधिशासी अभियंता एचएल मीना को भेज कर हाई अलर्ट जारी करा दिया। अधिकारी ने बताया कि 24 घंटे में बांध के ओवर फ्लो होने की सम्भावना है। इधर लालसोट पुलिस प्रशासन भी बांध पर पहुंच गया है। अन्य प्रशासनिक अधिकारी भी वहां पहुंच रहे हैं। लोगों को सतर्क कर दिया है। Morel Dam


जिले में इन बांधों में यह आया पानी Morel Dam
जिले में 39 बांध है। इनमें से सबसे बड़ा बांध मोरेल बांध है। जल संसाधन विभाग के अधिशासी अभियंता एचएल मीना ने बताया कि इस बांध के अलावा जिले के सैंथल सागर में सवा 15 फीट, सिनोली में 6, झिलमिली में 7, गेटोलाव में सवा 5 फीट, चांदराना में साढ़े 8, सिंथोली में 4, माधोसागर में 5.4, रेडिया में 4, जगरामपुरा में डेढ़, कोट में सवा दो फीट पानी की आवक हुई है।

इसी प्रकार पंचायतों के बांधों में सूरजपुरा में 13 फीट, हरिपुरा में 3.9, भांकरी में 5.2 फीट, रामपुरा में 4.5, महेश्वरा में 3.10, नामोलाव में 5.10, उपरेड़ा में 1.10, समसपुर में 3 फीट पानी की आवक हो चुकी है। Morel Dam

सूरजपुरा में चली चादर
जिला मुख्यालय के समीपवर्ती सूरजपुरा बांध में भी बांरिश का जमकर पानी आ रहा है। 13 फीट भराव क्षमता वाले इस बांध में चादर चल चुकी है। बांध में चली चादर को देखने के लिए आसपास के लोग आ रहे हैं।

रुक- रुक कर हो रही है बारिश
जिलें में शुक्रवार सुबह से ही रुक-रुक कर बारिश हो रही है। रिमझिम बारिश से जहां पर फसलों को फायदा हो रहा है वहीं अब आमजन परेशान भी नजर आ रहा है। लोगों का कहना है कि रिमझिम बारिश से उनका घर से निकलना दुभर हो रहा है। लोगों के कामकाज अटके हुए हैं।


स्कूल भी नहीं पहुंचे बालक
जिलेभर में गुरुवार रात से ही बारिश का दौर चल रहा है। शुक्रवार सुबह भी बारिश का दौर थम- थम कर चल रहा था। बार-बार हो रही बारिश से शुक्रवार को स्कूलों में भी बहुत कम बालक पहुंच रहे थे। बालकों की संख्या कक्षा कक्षों में बहुत कम नजर आ रही थी।

दौसा: मोरेल बांध को लेकर हाईअलर्ट जारी, 38 साल बाद एक फीट पानी रहा खाली
Mahesh Jain Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned