scriptthings which are necessary in worship, never expiry | पूजा में जरूरी हैं ये चीजें, कभी नहीं होतीं एक्सपायरी | Patrika News

पूजा में जरूरी हैं ये चीजें, कभी नहीं होतीं एक्सपायरी

बासी जल, पत्‍ते, फूल और बासी फलों का प्रयोग पूर्ण रूप से वर्जित...

भोपाल

Updated: April 15, 2020 03:19:23 pm

सनातन धर्म में पूजा का एक खास महत्व है, माना जाता है ऐसा करके भगवान को प्रसन्न किया जाता है। वहींं इस पूजा-पाठ के दौरान कई चीजों का उपयोग किया जाता है। पूजा-पाठ के दौरान उपयोग में लाई जाने वाली कई वस्‍तुएं, जहां एक बार उपयोग में आने के बाद या तो पुन: पूजा में उपयोग में नहीं लाईं जाती है, वहीं कुछ चीजें पूरानी हो जाने के चलते उपयोग में नहीं लाई जातीं हैं।

puja.jpg

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार पुरानी या बासी हो जाने वाली चीजों में जल, पत्‍ते, फूल और बासी फलों का प्रयोग पूर्ण रूप से वर्जित माना गया है। लेकिन वहीं कुछ वस्‍तुएं ऐसी भी हैं जिनका प्रयोग कभी भी किया जा सकता है। इन्‍हें धर्म शास्‍त्र ने भी मान्‍यता दी है।

Gangajalजानिये पूजा में उपयोग में आने वाली वे चीजें, जो कभी नहीं होती एक्सपायरी...

1. जल जो कभी नहीं होता पुराना/बासी
धर्म शास्‍त्रों के मुताबिक पूजा में कभी भी पुराने या बासी जल का प्रयोग नहीं करना चाहिए, लेकिन गंगाजल का प्रयोग कभी भी किया जा सकता है। यह कभी भी पुराना/बासी नहीं होता। स्‍कंदपुराण में भी इस बात का उल्‍लेख है। इसके अलावा वायुपुराण के अनुसार भी गंगाजल भले ही सालों पुराना हो, लेकिन वह कभी भी खराब नहीं होता।
2. पत्‍ती जो नहीं होती पुरानी/बासी
शिव को अत्‍यंत प्रिय बेलपत्र भी कभी बासी नहीं माना जाता। ऐसे में पूजा में इसका प्रयोग कभी भी किया जा सकता है। धर्म शास्‍त्रों के अनुसार बेलपत्र को एक बार श‍िवलिंग पर चढ़ाने के बाद धोकर दोबारा भोले नाथ को अर्पित किया जा सकता है। मंदिरों और घरों में शिवजी को चढ़ने वाले इस बेलपत्र का प्रयोग औषधि रूप में भी किया जाता है। आयुष विज्ञान में इसे स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी कई परेशानियों में प्रयोग किया जाता है।
Tulsi amd bailpatra3. ये पत्ते भी नहीं होते पुराने/बासी
धर्म शास्‍त्र के अनुसार बेलपत्र और गंगाजल की ही तरह तुलसी के पत्‍ते भी कभी बासी नहीं होते। पूजा के लिए अगर तुलसी के नए पत्‍ते न मिले तो आप पुराने चढ़े हुए तुलसी के पत्‍ते भी चढ़ा सकते हैं। लेकिन जब आप इसे मंदिर से उतारें तो सीधे बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें। परंतु यदि ऐसा कोई साधन न हो तो आप इसे किसी भी गमले या फिर क्‍यारी में डाल सकते हैं। लेकिन ध्‍यान रखें जहां भी आप तुलसी का पत्‍ता डाल रहे हों वहां बिल्‍कुल भी गंदगी न हो।
lotus4. फूल जो नहीं होता पुराना/बासी
पूजा-पाठ में फूलों का व‍िशेष महत्‍व होता है। कहा जाता है कि देवी-देवताओं को फूल चढ़ाने से पापों का नाश होता है। साथ ही शुभ फलों की प्राप्ति होती है, लेकिन पूजा में बासी फूल चढ़ाना वर्जित माना गया है। वहीं धर्म शास्‍त्रों के अनुसार कमल एक ऐसा फूल है, जो कि पुराना/बासी नहीं माना जाता है।
puja001.jpg

मान्‍यता है कि इस पुष्‍प को एक बार चढ़ाने के बाद भी आप पुन: चढ़ा सकते हैं। हालांकि इसकी बासी होने की पांच द‍िनों की अवधि बताई गई है। यानी कि एक बार प्रयोग करने के बाद इसे पांच द‍िनों तक न‍ियमित रूप से धोकर पूजा में प्रयोग किया जा सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिएHimachal Pradesh: जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने पर होगी 10 साल की जेल, लगेगा भारी जुर्मानाDGCA ने एयरपोर्ट पर पक्षियों के हमले को रोकने के लिए जारी किया दिशा-निर्देश'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्व
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.