वैशाखी अमावस्या 22 अप्रैलः पीपल पेड़ के नीचे कर लें यह उपाय, मनचाही इच्छा होगी पूरी

वैशाखी अमावस्या - पीपल पूजा के चमत्कारी उपाय

By: Shyam

Published: 21 Apr 2020, 03:36 PM IST

बुधवार 22 अप्रैल को वैशाख महीने की अमावस्या तिथि है। इस तिथि का महत्व जानने वाले लोग इस दिन अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए अनेक उपाय, टोने-टोटके, तंत्र प्रयोग और कई मंत्रों का जप भी करते हैं। अगर कोई व्यक्ति अपनी मनचाही इच्छा पूरी करना चाहते हैं तो वैशाख मास की इस अमावस्या के दिन पीपल पेड़ के नीचे जरूर करें यह चमत्कारी उपाय।

जानें कुछ देर मौन बैठने से कैसे बदल जाता है कठिनाईयों से भरा जीवन

वैशाख अमावस्या पर ऐसे करें पीपल पूजा

वैशाख मास की अमावस्या के दिन सूर्योदय के कुछ समय पूर्व एवं सूर्यास्त के तुरंत बाद अपनी इच्छित मनोकामना पूर्ति की कामना से दोनों ही समय पीपल वृक्ष के पास जाकर पहले सरसों के तेल का एक दीपक व सुंगंधित धुप जलावें, फिर हल्दी, कुमकुम, चावल, पुष्प से पूजन कर शक्कर मिला मीठा जल एक लोटा चढ़ावें। जल चढ़ाने के बाद थोड़ा सा शक्कर या गुड़ का प्रसाद पीपल की जल में चढ़ा दें। अब पीपल पेड़ की 11 परिक्रमा पित्रों का आशीर्वाद प्राप्त हो इस भाव से करें। उक्त क्रम दोनों समय करना है, कुछ ही दिनों में लाभ दिखाई देने लगेगा।

वैशाखी अमावस्या 22 अप्रैलः पीपल पेड़ के नीचे कर लें यह उपाय, मनचाही इच्छा होगी पूरी

पीपल पूजा के लाभ

1- अमावस्या के दिन पीपल वृक्ष की पूजा करने से अपार सुख समृद्धि मिलती है।

2- पीपल वृक्ष की हर रोज विशेष पूजा करने से अपार धन वैभव की प्राप्ति होती है।

3- पीपल वृक्ष के नीचे बैठकर पूजा करने के बाद श्री हनुमान चालीसा का पाठ करने वाले को घोर संकटो से मुक्ति मिलती है।

हनुमान जी की तस्वीर पर चढ़ा दें यह फूल, सिद्ध होंगे सब काम

4- पीपल के वृक्ष के नीचे मीठा जल चढ़ाने के बाद सरसों के तेल का दीपक जलाकर 7 परिक्रमा करने से मनचाही इच्छा पूरी होती है।

5- विशेषकर अमावस्या तिथि को पीपल वृक्ष के नीचे दीपक जलाकर पंच मेवा (पांच प्रकार की मिठाई) अर्पित करने से पितृ दोष में मुक्ति मिलती है।

6- पीपल पेड़ के नीचे बैठकर शनि मंत्रों का जप रुद्राक्ष की माला से जपने पर दोषों से मुक्ति मिलती है।

******************

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned