Health News: भूलकर भी न बरतें लापरवाही, 3 दिन से ज्यादा बुखार रहने पर हो सकता है डेंगू या मलेरिया

Health News: बरसात के मौसम में मच्छरजनित रोगों का खतरा बढ़ जाता है। डेंगू फीवर के मामले ज्यादा होते हैं। डेंगू का एडीज एजिप्टाई मच्छर मुख्य रूप से सुबह औैर शाम के समय काटता है।

By: Deovrat Singh

Published: 24 Sep 2021, 11:36 PM IST

Health News: बरसात के मौसम में मच्छरजनित रोगों का खतरा बढ़ जाता है। डेंगू फीवर के मामले ज्यादा होते हैं। डेंगू का एडीज एजिप्टाई मच्छर मुख्य रूप से सुबह औैर शाम के समय काटता है। मलेरिया में सर्दी लगकर बुखार आता है। बरसात के मौसम में तीन दिन से ज्यादा बुखार न उतरे तो डॉक्टर से परामर्श लें।

20 हजार प्लेटलेट काउंट तो दिक्कत नहीं: डेंगू फीवर के लिए कार्ड टेस्ट कराएं। इसके बाद एलाइजा जांच का नियम है। प्लेटलेट काउंट भी कराते हैं। स्वस्थ व्यक्ति का प्लेटलेट काउंट डेढ़ लाख से साढ़े चार लाख होता है। बुखार में बीस हजार तक काउंट आए तो घबराएं नहीं।

Read More: बच्चाें के खाने में न बरतें लापरवाही, मोटापा बढ़ने पर करें आजमाएं ये टिप्स

धूपन कर्ब से भगाएं मच्छर
आयुर्वेद में मच्छरों को भगाने के लिए धूपन कर्ब करें। इसके लिए तवे पर राल, गुगुल, नीम की सूखी पत्ती के धुएं से मच्छर भागते हैं। कंडे की आग में राल, गुगल, नीम की सूखी पत्ती, घी डालकर कमरे में रखकर दरवाजे खिड़कियां बंद कर दें। डेढ़ दो घंटे बाद कमरे में सोने जा सकते हैं। अस्थमा रोगी व छोटे बच्चों को दूर रखना होगा।

बीमार होने पर ऐसा हो खानपान
डेंगू या मलेरिया बुखार होने पर मुख्य रूप से दाल, दलिया, नारियल पानी, दूध और खिचड़ी फायदेमंद होता है। खट्टे फल, दही छाछ खाने से बचना चाहिए।

Read More: पेशाब में जलन दूर करने के साथ ही शरीर को ठंडक पहुंचता है गोंद कतीरा

बढ़ाएं प्रतिरोधक क्षमता
डेंगू में गिलोय का रस पीएं। पपीते की नई पत्ती का रस भी कारगर है। कीवी, अनार, हल्दी को घी में फ्राई कर दो चम्मच शहद में खा सकते हैं। ये डॉक्टरी सलाह पर ही प्रयोग करें। बारिश में बुजुर्गों को खास खयाल रखना चाहिए। चिकित्सक की सलाह से शतावरी, अश्वगंधा, ब्राम्ही भी ली जा सकती है। डॉ. गोपेश मंगल, आयुर्वेद विशेषज्ञ, एनआइए, जयपुर

इनका रखें ध्यान
ठंडे पानी की पट्टी करते रहें।
शरीर को गीले कपड़े से साफ करें
एंटीबायोटिक बीच में बंद न करें
बुखार में भारी चीजें खाने से बचें
बच्चों को मच्छरदानी में सुलाएं
बुखार में खुद से दवा न लें

Read More: आयुर्वेद में मालिश का विशेष महत्व, धूप में करने से हड्डियां होती हैं मजबूत

Deovrat Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned