प्रधानमंत्री किसान स्कीम के तहत अन्य 2 करोड़ किसानों को मिलेगा लाभ, फसलों के लिए गोदाम बनाने की भी होगी व्यवस्था

  • पीएम किसान स्कीम के तहत दो करोड़ अतिरिक्त किसानों को भी मिलेगा लाभ।
  • ग्रामीण क्षेत्र में फसलों को स्टोर करने के लिए बनाए जाएंगे नए गोदाम।
  • नीति आयोगी के सीईओ अमिताभ कांत ने पब्लिक सेक्टर की कंपनियों के साथ की बैठक।

By: Ashutosh Verma

Updated: 27 May 2019, 01:33 PM IST

नई दिल्ली। 17वें लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) की अगुवाई वाली एनडीए सरकार ( NDA )को प्रचंड बहुमत मिलने के बाद अब सरकार बनाने की कवायदें तेज हो गई हैं। सरकार बनने के बाद नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi ) की कैबिनेट किसानों को लेकर एक बड़ा फैसला ले सकती है। आधिकारिक सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, कृषि मंत्रालय ( Ministry of Agriculture ) प्रधानमंत्री किसान स्कीम ( PM Kisan Scheme ) को दो करोड़ अतिरिक्त किसानों तक पहुंचाएगी। इसके साथ ही इस स्कीम के तहत आने वाले कुछ किसनों की संख्या करीब 15 करोड़ हो जाएगी। इन 2 करोड़ किसानों को पीएम किसान स्कीम के तहत जाने के बाद सरकारी खजाने पर कुल 12 हजार करोड़ रुपए का बोझ बढ़ जाएगा। इसके साथ ही इस स्कीम के लिए सरकार के खजाने पर कुल 87 हजार करोड़ रुपए का सालाना बोझ होगा।

यह भी पढ़ें - एक्सपोर्टर्स के लिए सरकार ने बनाया नया प्लान, अब से GST रिफंड में होगा बड़ा फायदा

किसानों के लिए गांवों में गोदाम के लिए भी होगी व्यवस्था

नवनिर्वाचित सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि देश के हर किसान परिवार को इस स्कीम के तहत लाभ दिया जा सके। मंत्रालय के सूत्रों ने यह भी बताया कि ग्रामीण स्टोरेज सिस्टम के तहत हजारों वेयरहाउस बनाने के प्लानिंग चल रही है, ताकि किसान कम कीमत में अपनी फसलों को यहां स्टोर कर सकें। सरकार की इस प्लानिंग को जमीन पर लाने के लिए पब्लिक व प्राइवेट सेक्टर से बड़े मात्रा में निवेश की जरूरत होगी, जिसके लिए इस माह की शुरुआत में ही तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। ग्रामीण स्टोरेज स्कीम (वीएसएस) को लेकर नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत की अध्यक्षता में गत 17 मई को बैठक हुई थी। इस बैठक में प्राइवेट कंपनियों और इंडस्ट्री चैंबर्स के प्रतिनिधि भी शामिल।

यह भी पढ़ें - नई सरकार में मोदी को पार करनी होंगी कड़ी चुनौतियां, GDP से लेकर अर्थव्यवस्था तक में लानी होगी तेजी

17 मई को पब्लिक सेक्टर की कंपनियों के साथ अमिताभ कांत ने की बैठक

बता दें कि पीएम किसान स्कीम के तहत 2 हेक्टेयर तक जमीन रखने वाले किसानों को सरकार एक साल में तीन में 2-2 हजार रुपए देगी। इस स्कीम को गत 1 फरवरी को अंतरिम बजट में पेश किया गया था जिसके 1 दिसंबर 2018 की तारीख से लागू किया गया है। इस स्कीम के तहत अब तक करीब 3.1 करोड़ किसानों को पहली किश्त और 2.25 करोड़ किसानों के पहली किश्त मिल चुकी है। अमिताभ कांत ( Amitabh Kant ) की अगुवाई में होने वाली इस बैठक में शामिल होने वोल प्राइवेट सेक्टर के अधिकारी ने बताया कि एक गांव या गांवों के एक क्लस्टर में 1,000 टन क्षमता का गोदाम इसे आर्थिक रूप से व्यवहार्य बनाने के लिए न्यूनतम आवश्यकता होगी। इसके चलने पर लगने वाली लागत को वसूल किया जाना चाहिए क्योंकि यह हमेशा के लिए सब्सिडी पर नहीं चल सकता है।"

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

BJP
Show More
Ashutosh Verma Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned