डूबती MSME को अभी तक आधी रकम की गई है अप्रूव्ड, जानिए इसकी वजह

  • 45 लाख एमएसएमई उद्योगों में से सिर्फ 24 लाख एमएसएमई को दिया गया है ईसीएलजी के तहत लोन
  • 3 लाख करोड़ रुपए का किया गया था प्रावधान, अभी तक 1.61 लाख करोड़ रुपए किया गया अप्रूव्ड

By: Saurabh Sharma

Updated: 24 Sep 2020, 10:08 AM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरय का असर देश में सबसे ज्यादा एमएसएमई सेक्टर ( MSME Sector ) पर पड़ा है, ये वो छोटे छोटे उद्योग हैं जिन लोगों ने अपने नाम या परिवार के किसी सदस्य के नाम से खोले हुए हैं। ताज्जुब की बात तो ये है कि आत्म निर्भर भारत के तहत सरकार की ओर से जारी किए राहत पैकेज में एमएसएमई को अभी तक आधा ही मिल पाया है। जबकि जानकारों का कहना है कि इस सेक्टर को तुरंत बूस्ट करने की जरुरत है, लेकिन नियम और कानून इतने सख्त हैं कि इस सेक्टर को अप्रूव्ड बजट में रुपया नहीं मिल पा रहा है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर कितने एमएसएमई को कितना रुपया अप्रूव्ड हुआ, कितना मिला और वो कौन से कारण हैं, जिसकी वजह से एमएसएमई को राहत नहीं मिल पा रही है।

एमएसएमई को अभी आधी राशि ही मिल पाई
देश में एमएसएमई उद्यमों में से केवल आधे को सरकार की आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना से लाभ हुआ है, जबकि बैंकों और एनबीएफसी ने इस योजना को व्यापक बनाने के लिए कहा है। वित्तीय खुफिया प्रदाता कंपनी क्रेडिवाच के आंकड़ों के मुताबिक, कोविड-19 के प्रकोप के बाद शुरू की गई योजना के तहत राहत के लिए पात्र 4.5 मिलियन एमएसएमई में से केवल 2.4 मिलियन या 53 फीसदी ने ही कर्ज हासिल किया है। भारत में 64 मिलियन एमएसएमई हैं, जिनमें से 99 फीसदी स्मॉल सेक्टर के हैं। आंकड़ों के अनुसार 3 सितंबर तक कुल 3 लाख करोड़ स्वीकृत राशि में से 1.61 लाख करोड़ एमएसएमई को मिल पाए हैं जो सिर्फ कुल राशि का 54 फीसदी है।

क्यों नहीं मिल पा रहा है रुपया?
इस बारे में मीडिया रिपोर्ट में क्रेडिटविच की फाउंडर मेघना सूर्यकुमार का कहना है कि सबसे बड़ी परेशानी सप्लाई की ओर से। योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए अर्हता प्राप्त करने वाली कंपनियों की संख्या केवल उन लोगों तक है जिनकी संस्थागत ऋण तक पहुंच थी, जो एसएमई का केवल 5-10 फीसदी है। इसके अलावा, दी जाने वाली ऋण की सीमा को 29 फरवरी तक बकाया के 20 प्रतिशत पर फीसदी किया जाता है। मेघना के अनुसार इसके अतिरिक्त, सॉवरेन गारंटी और कम उधारी लागत के साथ भी, एमएसएमर्अ एक सतर्क दृष्टिकोण अपना रहे हैं और ऋण लेने से पहले मांग उठने की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

यह भी है एक वजह
बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों ने जुलाई में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र लिखकर सरकार द्वारा प्रायोजित योजना के तहत व्यक्तियों को शामिल करने का अनुरोध किया था। उन्होंने कहा कि छोटे उद्यमों के लिए उन्नत ऋणों का दो-तिहाई से अधिक व्यक्तियों द्वारा लिया गया था, न कि कॉर्पोरेट संस्थाओं द्वारा। अगस्त में, वित्त उद्योग विकास परिषद, एनबीएफसी के एक समूह ने नेशनल क्रेडिट गारंटी ट्रस्टी कॉरपोरेशन के प्रमुख को लिखा और उन मानदंडों में छूट मांगी, जिन्हें उधार लेने के लिए उधारकर्ताओं को अपने पैन नंबर या ऑडिट बुक्स को पेश करने की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा था कि उनके छोटे और मध्यम आकार के अधिकांश ग्राहक आयकर रिटर्न दाखिल नहीं करते हैं या औपचारिक खाते नहीं रखते हैं। जिसकी वजह से एमएसएमई के एक बड़े हिस्से को राहत नहीं मिल पा रही है।

योजना को और व्यापक बनाने की जरुरत
जानकारों की मानें तो ईसीएलजीएस अपने मूल डिजाइन के अनुसार एमएसएमई की 3 फीसदी आबादी को पूरा करता है और उधारकर्ताओं के ये 3 प्रतिशत शायद ईसीएलजीएस संवितरण में 40 फीसदी का योगदान करते हैं। योजना को व्यापक बनाने लिए इसमें खुदरा, व्यक्तिगत उधारकर्ताओं को शामिल करने की आवश्यकता है, जिन्होंने अपने व्यक्तिगत या व्यक्तिगत नामों में व्यवसाय के लिए उधार लिया है। आपको बता दें कि 21 मई को मंत्रिमंडल ने ईसीएलजीएस के माध्यम से एमएसएमई के लिए 9.25 फीसदी की रियायती दर पर 3 लाख करोड़ रुपए तक के वित्त पोषण को मंजूरी दी थी।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned