पाकिस्तान को मिली बड़ी राहत, IMF ने दी 6 अरब डॉलर के राहत पैकेज की मंजूरी

  • आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान को मिली बड़ी राहत।
  • IMF तीन सालों में देगा 6 अरब डॉलर।
  • स्टाफ के स्तर पर औपचारिक मंजूरी मिली, बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स लेंगे अंतिम फैसला।

नई दिल्ली। अर्थव्यवस्था की खस्ताहाल से जूझ रहे पाकिस्तान ( Pakistan ) को अब अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ( International Monetary Fund ) से बड़ी राहत मिली है। IMF से मिलने वाली 6 अरब डॉलर की राहत पैकेज के लिए अब मंजूरी मिल गई है। आईएमएफ ने कहा है कि पाकिस्तान को यह रकम तीन साल की अवधि में दिया जाएगा। इसका मतलब है कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ( Imran Khan ) की सरकार को अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष तीन साल में कुल 6 अरब डॉलर की रकम देगी ताकि वो अपने कर्ज चुका सके और अर्थव्यवस्था को मजबूत कर सके। इसके बारे में पाकिस्तान के वित्त सलाहकार ने जानकारी दी।

यह भी पढ़ें - मुकेश अंबानी की Reliance Industries ने बनाया मास्टरप्लान, अब आपके नजदीकी किराना स्टोर्स की बदलेंगे सूरत

पाकिस्तान को 22वां राहत पैकेज

बता दें कि कई महीनों तक लगातार प्रयासों के बाद पाकिस्तान यह डील हासिल करने में कामयाब हुआ है। इसी के साथ यह पाकिस्तान का 22वां राहत पैकेज भी है। वित्त सलाहकार ने कहा कि देश पर विदेशी कर्ज 90 अरब डॉलर से भी अधिक बढ़ गया है और बीते पांच सालों में निर्यात ग्रोथ भी निगेटिव हो गया है। पाकिस्तानी वित्तीय सलाहकार अब्दुल हफीज शेख ने कहा, "पाकिस्तान को आईएमएफ से 6 अरब डॉलर का राहत पैकेज मिलेगा। इसके अतिरिक्त हमें विश्व बैंक और एशिया डेवलपमेंट बैंक से भी 2 से 3 अरब डॉलर की रकम मिलेगी। यह रकम आगामी दो से तीन सालों के बीच मिलेगी।"

यह भी पढ़ें - कांग्रेस ने दो Tweet पर खर्च कर डाले 8.6 लाख रुपए, जानिए Twitter की जंग में कौन है किस पर भारी

आईएमएफ बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स से मिलनी है मंजूरी

अब्दुल हफीज शेखन ने आगे कहा, "राजकोषीय घाटा 20 अरब डॉलर के पार जा चुका है और बीते दो सालों में फॉरेन एक्सचेंज रिजर्व 50 फीसदी तक लुढ़क चुका है। इस प्रकार हमारे सालाना भुगतान में 12 अरब डॉलर का गैप बढ़ गया है। हमारे पास इतनी क्षमता नहीं है कि हम इसका भुगतान कर सकें।" आईएमएफ ने कहा कि नीतियों के मुद्दों पर सहमत हुई है जिसे 39 महीनों के एक्सटेंडेड फंड अग्रीमेंट के तहत 6 अरब डॉलर का सपोर्ट दिया जाएगा। आईएमएफ की तरफ पाकिस्तान के दौरे पर गए प्रमुख प्रतिनिधी रैमिरेज रिगो ने कहा, "हमारा प्लान है कि घरेलू व बाहरी असंतुलन को सपोर्ट कर सकें, कारोबारी माहौल को बढ़ा सकें, संस्थाओं को मजबूत कर सकें।" हालांकि, यह समझौता अभी स्टाफ के स्तर पर हुआ है। इसे औपचारिक मंजूरी मिलना बाकी है। अधिकारियों के बीच बातचीत के बाद वाशिंगटन में आईएमएफ बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स इस समझौते को मंजूरी देगा, जिसके बाद ही पाकिस्तान को आर्थिक मदद का रास्ता पूरी तरह साफ हो पाएगा।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

Imran Khan latest news
Show More
Ashutosh Verma Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned