नई सरकार की नई चुनौती: जानिए डिजिटल नीतियों को लेकर सरकार को क्या अहम कदम उठाने होंगे

  • नर्इ सरकार डिजिटल मोर्चे पर पिछले सरकार की विरासत को आगे बढ़ाना होगा।
  • डेटा प्राइवेसी आैर हेट स्पीच से निपटना नर्इ सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी।
  • स्टार्टअप इंडिया को एक बार फिर से रिवाइव करने की जरूरत।

By: Ashutosh Verma

Updated: 20 May 2019, 07:28 AM IST

नर्इ दिल्ली। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में चुनावी ( Loksabha Elections ) महासमर अब पूरा हो चुका है। बीते दिन 7वें चरण के मतदान में अंतिम 59 सीटों पर उम्मीदवारों की किस्मत र्इवीएम ( EVM ) में कैद हो चुकी है। नर्इ सरकार बनने के साथ भारत को अगले पांच साल में बहुत कुछ हासिल करना है। 5 ट्रिलियन डाॅलर की भारतीय अर्थव्यवस्था ( Indian economy ) बनने के साथ-साथ केंद्र सरकारों को करोड़ों रोजगार के अवसर से लेकर इनोवेशन, निवेश, उद्यमिता जैसे कर्इ मोर्चे पर काम करना होगा। इस तरह के प्लान को पूरा करने के लिए सरकार को सहीं ढांचा आैर नीतिगत कदम उठाने होंगे। बीते कुछ समय में तकनीक आैर डिजिटल सेक्टर ( Digital Sector ) ने भारत की सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी में भी अहम योगदान दिया है। एेसे में आज हम आगामी नर्इ सरकार की इस सेक्टर में आने वाली चुनौतियों पर नजर डालेंगे।

यह भी पढ़ें - Honda की इन जबरदस्त कारों पर मिल रहा 2 लाख का बंपर डिस्काउंट, बस कुछ दिनों का है मौक़ा

पारदर्शी नियामकीय प्रक्रिया

पिछले कुछ साल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवार्इ वाली एनडीए सरकार ने तकनीकी के क्षेत्र में कर्इ कड़े कदम उठाए हैं। सरकार ने र्इ-काॅमर्स नीतियों को लेकर भी कर्इ बड़े फैसले लिए हैं। नर्इ सरकार के लिए जरूरी होगा कि वो डिजिटल सिस्टम में देश के आम लोगों से लेकर कारोबारियों तक की विश्वास को कायम रख सके। नर्इ सरकार के लिए पारदर्शिता को आैर आगे बढ़ाने की चुनौती होगी। उसे इस क्षेत्र में किसी भी बड़े फैसले लेने से पहले सभी स्टेकहोल्डर्स पर भी ध्यान देना होगा। पिछले साल ही डाटा लोकलाइजेशन को लेकर भारतीय रिजर्व बैंक ( reserve bank of india ) द्वारा दिए गए समय को लेकर सरकार कर्इ बड़ी कंपनियों ने सवाल उठाए थे।

यह भी पढ़ें - खस्ताहाल पाकिस्तान को एक और झटका, इस अमरीकी कंपनी ने पाक में कदम रखने से मना किया

स्टार्टअप इंडिया के रिवाइव करने की जरूरत

भारत की नर्इ सरकार को इस बात का खास ध्यान रखना होगा कि वो घरेलू कंपनियों को अधिक मौके दे। सरकार की नीति इस बात पर आधारित नहीं हो कि उससे केवल एक खास वर्ग की कंपनियों को ही लाभ मिले। इससे हर सेक्टर की कंपनियों के बीच समान प्रतिस्पर्धा रहेगी। क्लाउड, र्इ-मेल सुविधा से लेकर कार्ड पेमेंट को लेकर घरेलू विकल्पों को प्रोमोट करने से ग्राहकों के पास च्वाइस होने के साथ-साथ बेहतर यूजर एक्सपीरिएंस भी मिल सकेगा। इसके लिए सरकार को स्टार्टअप इंडिया प्रोग्राम को एक बार फिर से रिवाइव करने की जरूरत होगी। बेहतर इकोसिस्टम के साथ-साथ रिसर्च एंड डेवलपमेंट को बढ़ावा देना होगा।

यह भी पढ़ें - अगले माह GST काउंसिल की बैठक में AAAR के नेशनल बेंच बनाने के प्रस्ताव पर हो सकती है चर्चा

सर्विलांस रिफार्म की जरूरत

नर्इ सरकार के लिए डिजिटल क्षेत्र में सर्विलांस रिफाॅर्म लाना बेहद ही जरूरी है। आगे बढ़ते हुए, संसद और न्यायिक सुरक्षा उपायों के आधार पर एक अधिक जवाबदेह सर्विलांस इकोसिस्टम तंत्र को सही नीतिगत ढांचे के साथ विकसित करना जरूरी होगा। पहले भी हमें यह देखने को मिला है कि लोगों की गोपनीयता के लिए बड़ी लागत होने के साथ-साथ एक भारी नौकरशाही और न्यूनतम जवाबदेह शासन सुरक्षा बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान नहीं रहा है। इस फ्रेमवर्क के तहत यह भी ध्यान देना होगा कि प्राइवेसी आैर नेशनल सिक्योरिटी संतुलन कायम रह सके।

यह भी पढ़ें - IndiGo के CEO ने मानी आपसी मतभेद की बात, कहा - इससे कंपनी की रणनीति में कोर्इ बदलाव नहीं

डेटा प्रोटेक्शन बिल

डेटा के क्राॅस बाॅर्डर फ्लो को लेकर सरकार को डेटा प्रोटेक्श बिल के ड्राॅफ्ट में बदलाव करने होंगे। इसमें कड़ी चेकिंग, सर्विलांस एजेसियों मे संतुलन आर जवाबदेही जैसे बातों को ध्यान रखना होगा। हाल ही में प्रस्तावित किए गए इंटरमीडियरी लायबिलिटी अमेंडमेंट पर भी नजर डालने की जरूरत होगी। र्इ-काॅमर्स पाॅलिसी ड्राफ्ट के तहत कम्युनिटी डेटा को लेकर राइट टू प्राइवेसी के नियमों का ध्यान रखना होगा। डेटा व्यक्तिगत होता है, एेसे में सरकार को यह सुनिश्चित करना होगा इसे बिना अनुमति के ट्रांसफर नहीं किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें - अगले सप्ताह चुनावी नतीजों और एग्जिट पोल पर निर्भर करेगी शेयर बाजार की चाल

हेट स्पीच से करना होगा मुकाबला

हाल ही क्राइस्टचर्च हमले आैर 2011 नाॅर्वे अटैक को ट्रोलर्स काफी अाक्रामक तेवर में रहे थे। भारत में बीते कुछ सालों में एेसे कर्इ उदाहरण देखने को मिले। एेसे में नर्इ सरकार को इसकी पहचान करने आैर निपटने के लिए एक जबरदस्त प्रणाली की आवश्यकता होगी। सरकार को अभिव्यक्ति की आजादी आैर नफरत फैलाने वाली बातों को सही तरीके से पहचान करने के लिए कार्यप्रणाली विकसित करनी होगी।

यह भी पढ़ें - सेंसेक्स की 10 में से 9 कंपनियों का बढ़ा मार्केट कैप, HDFC बैंक का रहे सबसे अच्छा प्रदर्शन

चौथे आैद्यौगिक क्रांति के लिए तैयारी

चौथे आैद्यौगिक क्रांति को लेकर भारत को पहले से ही तैयार रहना होगा, क्योंकि इससे भारतीय अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा। खासतौर से फाइनेंस, कृषि, हेल्थकेयर, मैन्युफैक्चरिंग आैर एनर्जी सेक्टर्स में। इसके लिए रणनीतिक रूप से नीतियां बनानी होंगी। बेहतर डिजिटल इकोसिस्टम के लिए सरकार को ग्राहकों को केंद्र बिंदु में रखना होगा।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

Show More
Ashutosh Verma Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned