पीएम ने की निर्मला सीतारमण की तारीफ, अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए उठाये गये कदम पर प्रशंसा

पीएम ने की निर्मला सीतारमण की तारीफ, अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए उठाये गये कदम पर प्रशंसा

Ashutosh Kumar Verma | Updated: 25 Aug 2019, 09:33:26 AM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया, "वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित कदमों से ईज ऑफ डुइंग बिजनेस बढ़ेगा, मांग में तेजी आएगी, कर्ज आसानी से मिलेगा और कुल मिलाकर अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा।"

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की देश में छाई आर्थिक मंदी से लडऩे के लिए कदम उठाने पर प्रशंसा की है। उन्होंने कहा है कि इससे ईज ऑफ डुइंग बिजनेस को बढ़ावा मिलेगा, मांग बढ़ेगी और कर्ज किफायती होगा।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया, "वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित कदमों से ईज ऑफ डुइंग बिजनेस बढ़ेगा, मांग में तेजी आएगी, कर्ज आसानी से मिलेगा और कुल मिलाकर अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा।"

सीतारमण ने इस ट्वीट के जवाब में धन्यवाद देते हुए ट्वीट किया, "धन्यवाद प्रधानमंत्री कार्यालय आपके निर्देश और समर्थन के लिए शुक्रिया।"

यह भी पढ़ें - आसमान छू रहे प्याज के दाम, फसल खराब होने की आशंका से सप्लाई घटी

गृहमंत्री ने भी की प्रशंसा

गृहमंत्री अमित शाह ने भी घोषणाओं की प्रशंसा की, "इन कदमों से पूंजी बाजार में निवेश को बढ़ावा मिलेगा और स्टार्टअप इकोसिस्टम की मदद होगी, जीएसटी रिफंड में तेजी आएगी और कर संबंधी मुद्दों का तेजी से समाधान होगा। मैं इन प्रगतिशील कदमों के लिए प्रधानमंत्री जी को बधाई देता हूं।"

गृहमंत्री ने कहा, "विकास मोदी सरकार की प्राथमिकता है। वैश्विक मंदी के बावजूद देश की आर्थिक बुनियाद मजबूत है। वित्तमंत्री द्वारा घोषित कदम ईज ऑफ डुइंग बिजनेस, एमएसएमई को आसानी से कर्ज दिलाने और लोगों के हाथ में ज्यादा धन प्रदान करने के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को दोहराते हैं।"

यह भी पढ़ें - लगातार दूसरे दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के भाव, जानिए आज आपके शहर में क्या है नया रेट

भारतीय जनता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी तारीफ करते हुए कहा, "माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के दूरदर्शी नेतृत्व में अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए कुछ महत्वपूर्ण बदलाव करने वाले कदम उठाए गए हैं, जिससे वेल्थ क्रिएटर (पूंजीपति) को सुविधा होगी, कराधान सरल होगा, पूंजी की आमद बढ़ेगी और वित्तीय बाजार व अवसंरचना को बढ़ावा मिलेगा।"

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned