IIT Roorkee: क्लाउड कंप्यूटिंग और DevOps कोर्स किया लॉन्च, कोरोना ने बढ़ाई ट्रेंड युवाओं की मांग

 

क्लाउड कंप्यूटिंग और DevOps सबसे अधिक मांग वाली तकनीकों में से एक है। यह सॉफ्टवेयर पेशेवरों के लिए जरूरी कौशल में से एक है। कोरोना महामारी के दौर में अधिकांश संगठनों द्वारा क्लाउड और देवओप्स पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है।

By: Dhirendra

Updated: 24 Aug 2021, 08:25 PM IST

नई दिल्ली। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की ( IIT Roorkee ) की इलेक्ट्रॉनिक्स और आईसीटी ( E&ICT ) अकादमी और ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म Intellipaat ने क्लाउड कंप्यूटिंग और DevOps में एडवांस सर्टिफिकेट को पाठ्यक्रम लॉन्च किया है। सात महीने के एडवांस सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम में क्लाउड कंप्यूटिंग अवधारणाएं, DevOps उपकरण, AWS, वर्चुअलाइजेशन, क्लाउड सुरक्षा आदि शामिल हैं। पाठ्यक्रम का संचालन IIT रुड़की के शिक्षकों के साथ उद्योग जगत के विशेषज्ञों द्वारा किया जाएगा। ताकि पेशेवरों को सबसे अधिक मांग वाले कौशल हासिल करने में मदद मिल सके।

क्लाउड कंप्यूटिंग ट्रेंड युवाओं की मांग सबसे ज्यादा

आईआईटी रुड़की इस ऑनलाइन पाठ्यक्रम के जरिए छात्रों को कई व्यावहारिक प्रोग्राम और प्रोजेक्ट को पूरा करना होगा। यहां से कोर्स करने वाले युवाओं को करियर सेवाएं भी प्रदान की जाएंगी। इस पाठ्यक्रम को लेकर आईआईटी रुड़की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि क्लाउड कंप्यूटिंग और DevOps अगामी वर्षों में दो सबसे अधिक मांग वाली तकनीकों में से एक है। ऐसा इसलिए कि सॉफ्टवेयर पेशेवरों के लिए यह जरूरी कौशल में से एक है। अब अधिकांश संगठनों द्वारा संगठन क्लाउड और देवओप्स पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है।

Read More: JNU Students Crowdfund campaign: जेएनयू के एक्टिविस्टों को नहीं मिला जरूरी सहयोग, यूनिवर्सिटी का फंड देने से इनकार

2025 तक 65 मिलियन जॉब्स पैदा होने की संभावना

लिंक्डइन की इमर्जिंग जॉब्स रिपोर्ट इंडिया 2020 के मुताबिक 2025 तक भारत में विभिन्न उद्योगों में 60 मिलियन से 65 मिलियन नौकरियां पैदा होने की उम्मीद है। इन उद्योगों में क्लाउड कंप्यूटिंग और देवओप्स कौशल महत्वपूर्ण हैं। कोरोना महामारी के दौर में क्लाउड अहम तकनीक के रूप में उभरकर सामने आया है। ऐसा इसलिए कि कोविड—19 महामारी ने सभी संगठनों को वर्क फ्रॉम होम कल्चर को बढ़ावा दिया है। दरअसल, क्लाउड कंप्यूटिंग और देवओप्स कुछ प्रमुख तकनीकी हैं जिन पर नियोक्ता उम्मीदवारों को काम पर रखते समय बहुत जोर दे रहे हैं।

Read More: DST Inspire fellowship: फैकल्टी फेलोशिप के लिए यंग साइंटिस्टों से मांगे आवेदन, हर माह मिलेगा 1.25 लाख रुपए

हाल ही में IIT मद्रास ने प्रोग्रामिंग और डेटा साइंस में एक ऑनलाइन बीएससी डिग्री कोर्स शुरू किया है। पाठ्यक्रम के लिए आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों कोa जेईई एडवांस के लिए आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है। जिन्होंने कक्षा 10 के स्तर पर अंग्रेजी और गणित के साथ कक्षा 12 पास की है, वे ऑनलाइन पाठ्यक्रम के लिए नामांकन कर सकते हैं। स्नातक और कामकाजी पेशेवर भी इस कार्यक्रम को अपना सकते हैं।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned