scriptDiscussion of alliance between BJP and Suheldev Bharatiya Samaj Party | Uttar Pradesh Assembly Election 2022: ... फिर पलटी मारेंगे सुभासपा अध्यक्ष ओपी राजभर! | Patrika News

Uttar Pradesh Assembly Election 2022: ... फिर पलटी मारेंगे सुभासपा अध्यक्ष ओपी राजभर!

Uttar Pradesh Assembly Election 2022 का बिगुल बज चुका है। इस बीच राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने समीकरण साधने का काम और तेज कर चुकी हैं। इसमें तोड़-फोड़, गुणा-गणित का क्रम भी चल रहा है। इसी बीच सुभासपा अध्यक्ष ओपी राजभर को लेकर बड़ी खबर आ रही है। बताया जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी ने राजभर मतों को सहेजने के लिहाज से ओपी राजभर पर फिर से डोरे डालना शुरू कर दिया है। जानते हैं ऊंट किस करवट बैठता है...

वाराणसी

Published: January 10, 2022 02:13:06 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. Uttar Pradesh Assembly Election 2022 का बिगुल बजने के साथ ही राजनीतिक पार्टियां सियासी समीकरण साधने में जुट गई हैं। खास तौर पर जातीय समीकरण बिठाने का काम तेज हो गया है। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी को राजभर मतों के बिखरने की चिंता सता रही है। वजह साफ है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में ये राजभर ही थे जिन्होंने झूम कर भाजपा-सुभासपा गठबंधन के पक्ष में मतदान किया था। यों कहें कि राजभर वोटबैंक ने भाजपा को डेढ दशक बाद यूपी के सियासी सिंघासन पर काबिज कराया था तो अतिशयोक्ति न होगी। लेकिन ये गठबंधन बहुत दिनों तक टिक नहीं पाया और ओपी राजभर का बहुत जल्द भाजपा से मोहभंग हो गया और उन्होंने योगी मंत्रिमंडल से त्यागपत्र दे दिया।
ओपी राजभर
ओपी राजभर
भाजपा के खिलाफ आग उगल रहे राजभर

बता दें कि पूर्वांचल जो यूपी के सिंघासन तक पहुंचने का सफल रास्ता है, ओपी राजभर यहीं से हैं और पूर्वी उत्तर प्रदेश में उनका रसूख अच्छा खासा है। यही वजह है कि पूर्व सीएम व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सबसे पहले ओपी राजभर पर ही डोरे डाले और उनके साथ गठबंधन कर लिया। उसके बाद से ओपी राजभर लगातार सपा के मंच पर न केवल दिखाई दे रहे हैं बल्कि भाजपा के खिलाफ आग उगल रहे हैं।
यूपी भाजपा के उपाध्यक्ष मिले ओपी राजभर से चर्चाओं का बाजार गर्म

ओपी राजभर की सियासी ताकत को पहचानते हुए ही भाजपा हर कोशिश में जुटी है कि किसी तरह से राजभर को अखिलेश खेमे से तोड़ कर अपने पाले में किया जाए, ताकि 2017 की कहानी दोहराई जा सके। बताया जा रहा है कि इसी कड़ी में भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने ओपी राजभर से मुलाकात कर इस हवा को और तेज कर दिया। बताया जा रहा है कि दयाशंकर सिंह ने राजभर को पुनः भाजपा संग गठबंधन का न्योता दिया है।
ओपी राजभर ने भाजपा से गठबंधन को नकारा

हालांकि ओपी राजभर ने उनके फिर से भाजपा संग गठबंधन की चर्चाओं को सिरे से खारिज किया है। उन्होंने कहा है कि इस दफा काफी सोच समझ कर समाजवादी पार्टी संग गठबंधन किया है। ऐसे में अब कहीं और जाने का सवाल ही नहीं उठता। कहा कि सपा के साथ सीट बंटवारे का मामला एक-दो दिन में फरिया जाएगा।
बोेेले राजभर, अखिलेश दे रहे सम्मान

दयाशंकर सिंह से मुलाकात के बाबत राजभर का कहना है कि वो मिलने आए थे। उनका कहना था कि प्रधानमंत्री से लेकर भाजपा के शीर्ष नेता तक चाहते हैं कि राजभर को बीजेपी से जोड़ा जाना चाहिए। लेकिन मैने उनका प्रस्ताव खारिज कर दिया है। वो कहते हैं कि अखिलेश यादव पूरा सम्मान दे रहे हैं। ऐसे में बीच मझधार में उन्हें छोड़ने का सवाल ही पैदा नहीं होता।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

भाजपा की दर्जनभर सीटें पुत्र मोह-पत्नी मोह में फंसीं, पार्टी के बड़े नेताओं को सूझ नहीं रह कोई रास्ताविराट कोहली ने छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, भावुक मन से बोली ये बातAssembly Election 2022: चुनाव आयोग ने रैली और रोड शो पर लगी रोक आगे बढ़ाई,अब 22 जनवरी तक करना होगा डिजिटल प्रचारभारतीय कार बाजार में इन फीचर के बिना नहीं बिकेगी कोई भी नई गाड़ी, सरकार ने लागू किए नए नियमUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावमौसम विभाग का इन 16 जिलों में घने कोहरे और 23 जिलों में शीतलहर का अलर्ट, जबरदस्त गलन से ठिठुरा यूपीBank Holidays in January: जनवरी में आने वाले 15 दिनों में 7 दिन बंद रहेंगे बैंक, देखिए पूरी लिस्टUP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्य
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.