West Bengal Assembly Elections 2021: विवादित बयान देने पर चुनाव आयोग ने भाजपा नेता पर लगाया बैन, घोष को भी भेजा नोटिस, ममता बैठीं धरने पर

चुनाव आयोग ने भाजपा नेता राहुल सिन्हा के चुनाव प्रचार करने पर 48 घंटे का प्रतिबंध लगा दिया है। वहीं, दिलीप घोष को भी नोटिस भेजकर उनसे बुधवार सुबह 10 बजे तक जवाब देने को कहा है। वहीं, तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख की राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज कोलकाता में धरने में पर बैठी हैं।

 

By: Ashutosh Pathak

Published: 13 Apr 2021, 01:14 PM IST

नई दिल्ली।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Elections 2021) में चौथे चरण के बाद से चुनाव आयोग ने सख्ती दिखानी शुरू कर दी है। चौथे चरण में मतदान के दौरान कूच बिहार जिले के सीतलकूची में हुई फायरिंग की घटना के बाद पहले ममता बनर्जी पर आयोग ने प्रतिबंध लगाया। वहीं, अब आयोग ने भाजपा नेता राहुल सिन्हा पर भी 48 घंटे तक चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दी है। यह रोक मंगलवार दोपरह 12 बजे से लागू होकर 15 अप्रैल को दोपहर 12 बजे तक रहेगा।

यही नहीं, चुनाव आयोग ने विवादित बयान देने के मामले में भाजपा की बंगाल इकाई के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष को भी नोटिस जारी किया है। आयोग ने दिलीप घोष से बुधवार सुबह 10 बजे तक जवाब मांगा है। दूसरी ओर, चुनाव आयोग की कार्रवाई से नाराज ममता बनर्जी आज कोलकाता में गांधी प्रतिमा के पास धरने पर बैठी हैं। उनके साथ तृणमूल कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ता भी मौजूद हैं।

यह भी पढ़ें:- चुनाव आयोग से नाराज ममता बनर्जी ने कहा- EC का नाम MCC रख देना चाहिए

बता दें कि भाजपा नेता राहुल ने कहा कि सीआईएसएफ को इस घटना में चार नहीं आठ लोगों को गोली मारनी चाहिए थी। हालांकि, इस घटना को लेकर चुनाव आयोग और केंद्रीय सुरक्षा बल की ओर से जो रिपोर्ट आई है, उसके मुताबिक, सुरक्षा बलों को करीब साढ़े तीन सौ लोगों की भीड़ ने घेर लिया था, जिसके बाद जवानों को आत्मरक्षा में फायरिंग करन पड़ी। इस घटना में चार लोगों की मौत हो गई थी और करीब एक दर्जन लोग घायल हैं, जिनका इलाज अस्पताल में चल रहा है।

भाजपा नेता राहुल सिन्हा के अनुसार, अगर केंद्रीय सुरक्षा बलों को ठीक लगा तो वे धांधली के प्रयास को नाकाम करने के लिए चार से ज्यादा लोगों को मारेंगे। सीतलकूची में चार नहीं आठ लोगों को मारना चाहिए था। केंद्रीय बलों को कारण बताओ नोटिस भेजना चाहिए कि उन्होंने सिर्फ चार लोगों को गोली क्यों मारी? उन्हें आठ लोगों को मारना चाहिए था। यहां के गुंडे लोगों का लोकतांत्रिक अधिकार छीनना चाहते हैं। केंद्रीय बलों ने सही जवाब दिया। यदि फिर से ऐसा होता है तो सुरक्षा बल उसका जवाब देंगे।

यह भी पढ़ें:- भाजपा नेता ने कहा- सुरक्षा बलों को चार नहीं आठ लोगों को गोली मारना चाहिए था

बता दें कि कोरोना संक्रमण की वजह से राज्य की कुल 294 विधानसभा सीटों पर इस बार 8 चरण में मतदान हो रहे हैं। पहले चरण की वोटिंग 27 मार्च को थी, जबकि दूसरे चरण के लिए 1 अप्रैल और तीसरे चरण के लिए 6 अप्रैल को वोट डाले गए। वहीं, चौथे चरण के लिए 10 अप्रैल को मतदान हुआ। अब पांचवे चरण के लिए 17 अप्रैल को, छठें चरण के लिए 22 अप्रैल को, सातवें चरण के लिए 26 अप्रैल को और आठवें चरण के लिए 29 अप्रैल को वोटिंग होगी। नतीजे 2 मई को घोषित होंगे।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned