scriptMulayam Singh Yadav Political Journey from teacher to UP CM | Political Kisse : ऐसा मुख्यमंत्री जिसके दांव से BJP को उबरने में लगे 14 साल, गुरु को ही दिखाया पहला दांव | Patrika News

Political Kisse : ऐसा मुख्यमंत्री जिसके दांव से BJP को उबरने में लगे 14 साल, गुरु को ही दिखाया पहला दांव

Political Kisse : उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ऐसे नेता रहे हैं, जिन्हें सुभाषचंद्र बोस के बाद नेताजी का बुलाया जाता है। पत्रिका आपको बताने जा रहा है एक ऐसे मुख्यमंत्री की कहानी जिसके दांव से भाजपा को उबरने मे पूरे 14 साल लग गए। जिसके सक्रिय राजनीति में रहते कभी भी प्रदेश में भाजपा का एक छत्र राज नहीं हो पाया। जिसे आज भी लोग चरखा दांव के महारथी नेताजी के नाम से बुलाते हैं।

लखनऊ

Updated: November 15, 2021 02:23:02 pm

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में सभी राजनीतिक पार्टियां विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) की तैयारियां कर रही हैं। वहीं सत्ता में पूर्ण बहुमत से आई भाजपा इस समय तेज से प्रचार में लगी हुई है। पत्रिका आपको बताने जा रहा है एक ऐसे मुख्यमंत्री की कहानी जिसके दांव से भाजपा को उबरने मे पूरे 14 साल लग गए। जिसके सक्रिय राजनीति में रहते कभी भी प्रदेश में भाजपा का एक छत्र राज नहीं हो पाया। जिसे आज भी लोग चरखा दांव के महारथी नेताजी के नाम से बुलाते हैं।
mulayam.jpg
यह भी पढ़े : कहानी यूपी के उस सीएम की जो कहता था मैं चोर हूं…

पहलवानी के गुरु को ही दिया था धोबी पछाड़
उत्तर प्रदेश का छोटा सा जिला इटावा जिसे बीहड़ों का बार्डर भी कहा जाता है। जहां से शुरू होता है बागियों, बीहड़ों, डाकुओं क्षेत्र। ऐसे जिले की एक तहसील सैफई जहां 22 नवंबर 1939 को मुलायम सिंह (Mulayam Singh Yadav) का जन्म एक यादव परिवार में हुआ। वहीं से राजनीति की शुरुआत करने वाले नेता जी ने इस शास्त्र को शस्त्र बना लिया और राजनीति के शास्त्र में मास्टर की डिग्री हासिल की।
यह भी पढ़े : यूपी का वह गरीब सीएम जिसके लिए महीने का खर्च भेजते थे राजस्थान के मुख्यमंत्री, कभी वोट मांगने नहीं गया ये नेता


साल 1967 तक मुलायम सिंह यादव बतौर शिक्षक ही लोगों के बीच प्रचलित थे। लेकिन शिक्षकों की आवाज़ उठाने के साथ ही वो युवाओं के इतने फेमस हो गए की पूरे जिले में जब भी कोई कार्यक्रम होता तो उन्हें भाषण के लिए बुलाया जानें लगा। इसी के साथ साल 1967 में लोहिया के संपर्क से प्रभावित होने वाले मुलायम सिंह यादव ने पहली जसवंत नगर से चुनाव संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी से लड़ा था।
यह भी पढ़े : यूपी का वह सीएम जो सिर्फ एक दिन के लिए ही बैठा गद्दी पर


पाँच भाइयों में सबसे छोटी बहन,
अपने पाँच भाई-बहनों हैं। पांचों में सबसे बड़े भाई रतन सिंह यादव उसके बाद मुलायम सिंह यादव फिर अभय राम सिंह यादव, शिवपाल सिंह यादव, राजपाल सिंह हैं। सबसे छोटी इनकी बहन कमला देवी रहीं। प्रोफेसर रामगोपाल यादव इनके चचेरे भाई हैं। पिता सुधर सिंह उन्हें पहलवान बनाना चाहते थे लेकिन जब पहलवानी के राजनीतिक गुरु चौधरी नत्थू सिंह ने ही उन्हे राजनीति में उतारने की घोषणा कर दी तो खुद पिता जी ने भी कभी रोका नहीं। मैनपुरी कुश्ती-प्रतियोगिता में मुलायम सिंह का चरखा दांव नत्थुसिंह को इतना पसंद आया कि, पहलवानी गुरु और तत्कालीन जसवंतनगर सीट से विधायक नत्थुसिंघ ने अपनी सीट उन्हें सौंप दी।
यह भी पढ़े : आखिर बीएसपी सुप्रीमो मायावती को क्यों कहा जाता है यूपी की परफेक्ट वीमेन पॉलिटिशन

चौधरी चरण सिंह को पार्टी का विलय करने पर मजबूर,

राजनीतिक गुरू राम मनोहर लोहिया की संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी से 1967 में विधायक बनकर विधानसभा पहुंचे। लेकिन जैसे ही 1968 में राम मनोहर लोहिया का निधन हुआ। विवादों के बीच ही पार्टी छोडकर मुलायम सिंह यादव ने चौधरी चरण सिंह से हाथ मिला लिया।
चौधरी चरण सिंह के साथ कंधे से कंधा मिलाने का वादा करते हुए भारतीय क्रांति दल में शामिल होने वाले नेताजी। 5 सालों में ही इतने मुलायम हो गए कि चौधरी चरण सिंह को बीच चुनावों में छोडकर 1974 में भारतीय लोकदल में शामिल हो हुए। जिससे मजबूर होकर चौधरी चरण सिंह को भी क्रांति दल का विलय करना पड़ा। फिर जब इंदिरा गांधी के विरोध में सारे दल एक होने लगे तो मुलायम सिंह यादव इमरजेंसी में छूटकर आए और जनता पार्टी में शामिल हो गए। ये वही जनता पार्टी थी जिसके प्रमुख संस्थापकों में एक नाना साहब थे। 1977 में वो पहली बार यूपी सरकार में सहकारिता मंत्री बने. इसी समय में उन्होंने सहकारी (कॉपरेटिव) संस्थानों में अनुसूचित जाति के लिए सीटें आरक्षित करवाई थीं. इससे मुलायम सिंह यादव पिछड़ी जातियों के बीच काफी लोकप्रिय हो गए थे.
यह भी पढ़े : यूपी का एक ऐसा मुख्यमंत्री जो इस्तीफा देने के बाद रिक्शे से गए थे घर


चौधरी अजित सिंह को उन्हीं की पार्टी में दे दी चुनौती
1979 में जनता पार्टी से खुद को अलग करते हुए चौधरी चरण सिंह के साथ लोकदल पार्टी बनाई। 1987 में चौधरी चरण सिंह की मृत्यु के बाद अजित सिंह से उनका टकराव हुआ। वो पहली बार था जब मुलायम सिंह यादव खुद किसी पार्टी की अगुवाई कर रहे थे. 1989 में ही उन्होंने अपने समर्थक विधायकों के साथ वीपी सिंह के जनता दल शामिल हुए। 1989 में लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव भी हुए तो दिसंबर महीने में मुलायम सिंह यादव पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बन गए.
चंद्रशेखर को छोड़ा अकेले, फिर भी रक्षामंत्री बनें
साल 1990 में ही वीपी सिंह का साथ छोड़कर चंद्रशेखर के साथ समाजवादी जनता पार्टी की नींव डाली. लेकिन ये साथ भी चल न सका और 1992 में खुद समाजवादी पार्टी बनाई। 1993 में कांशीराम के बसपा के साथ मिलकर यूपी में सरकार बनाई। दूसरी बार मुख्यमंत्री बने. लेकिन ये साथ भी 1995 में छूट गया। 1996 में प्रधानमंत्री पद की दौड़ में शामिल मुलायम सिंह यादव का विरोध लालू यादव ने किया। जिससे 1996 से 1998 तक देश के रक्षामंत्री बनकर संतोष करना पड़ा।
यह भी पढ़े : पैराशूट महिला जो बनीं यूपी की मुख्यमंत्री, सख्त निर्णयों के लिए थीं विख्यात

छोटी कद काठी के बड़े दिमाग से भाजपा को दिखाया चरखा दांव, वापसी में लगे 14 साल
साल 2002 में भाजपा से बसपा के अलग होने पर कई महीनों तक राष्ट्रपति शासन लगा रहा। उसके बाद जब चुनाव हुआ तो चरखा दांव से मशहूर मुलायम सिंह यादव ने 196 सीट पर रही भाजपा को मध्यावधि चुनाव में 96 पर लाकर रखा। वहीं तत्कालीन मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह खुद भी उपचुनाव में हार गए। मुलायम सिंह यादव ने अपनी छोटी कद काठी के बड़े दिमाग से भाजपा और बसपा के विधायकों को तोड़कर मिलाने में भी सफल रहे। जिसमें कांग्रेस, आरएलडी, निर्दलीय के साथ बसपा विधायकों को तोड़कर 29 अगस्त 2003 मुलायम सिंह यादव मुख्यमंत्री बनें। जिसके बाद से 2017 विधानसभा चुनावों तक 14 साल भाजपा को प्रदेश में सत्ता का वनवास झेलना पड़ा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.