scriptहर धर्म में अलग होती है नए साल की तारीख, जानिए सभी की डेट और महत्व | date of New Year is different in every religion know importance of all including hindu nav varsh Chinese New Year Islamic New Year irani new year parsi new year navroz | Patrika News
त्योहार

हर धर्म में अलग होती है नए साल की तारीख, जानिए सभी की डेट और महत्व

New Year आज नया साल का दूसरा दिन है, यह नववर्ष ग्रेगोरियन कैलेंडर यानी अंग्रेजी कैलेंडर का पहला दिन होता है। लेकिन दुनिया भर में कई समुदाय और देश हैं जहां ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ कई और कैलेंडर प्रचलित हैं। यहां लोग इन कैलेंडर के आधार पर भी नववर्ष उत्सव मनाते हैं। आइये जानते हैं कुछ अन्य देशों और समुदायों के नववर्ष कब सेलिब्रेट किए जाते हैं?

Mar 02, 2024 / 05:07 pm

Pravin Pandey

chini_nav_varsh.jpg

अलग-अलग धर्मों के अलग-अलग नव वर्ष


भारत में अंग्रेजी कैलेंडर के साथ एक अन्य कैलेंडर को राष्ट्रीय पंचांग के रूप में अपनाया गया है। इसे भारतीय राष्ट्रीय पंचांग या भारांग के रूप में जाना जाता है। इसे हिंदू नव वर्ष या भारतीय नववर्ष के रूप में भी जाना जाता है। यह कैलेंडर शक संवत् पर आधारित है और इसका पहला दिन चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को होता है। हालांकि इसका दिन तय नहीं होता है, क्योंकि चंद्रमा की कलाओं और नक्षत्रों की कालगणना प्रणाली के आधार पर तिथि निर्धारण के कारण यह बदलता रहता है। इस साल यह 9 अप्रैल 2024 को पड़ रहा है। भारत में मान्यता है कि इसी दिन सृष्टि की रचना हुई थी। इस दिन देश भर में नवरात्रि और गुड़ी पड़वा उत्सव मनाया जाता है। इस कैलेंडर को भारत में सिविल कामकाज के लिए ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ-साथ 22 मार्च 1957 (भारांग: 1 चैत्र 1879) को अपनाया गया था। इसमें चंद्रमा की कला (घटने और बढ़ने) के अनुसार महीने के दिनों की संख्या निर्धारित होती है।

नौरोज पारसी समुदाय का नववर्ष है, इसे ईरानी नववर्ष के नाम से भी जानते हैं। यह मूलतः प्रकृति प्रेम का उत्सव है, जो ईरानी कैलेंडर के पहले महीने फारवर्दिन का का पहला दिन है। इसी दिन हिजरी शमसी कैलेंडर की भी शुरुआत होती है। नौरोज की शुरुआत इक्वीनाक्स से होती है यानी इस दिन और रात लगभग बराबर होते हैं। खगोलविदों के अनुसार सूर्य, सीधे भूमध्य रेखा से ऊपर होकर निकलता है। ईसवी कैलेंडर के अनुसार नौरोज हर साल 20, 21 या 22 मार्च से आरंभ होता है। इस दिन लोग एक दूसरे के यहां जाते हैं और नव वर्ष की बधाई देते हैं। दुखी और संकटग्रस्त लोगों से भी मिलने जाते हैं। इस साल 2024 में नौरोज 20 मार्च बुधवार को होगा।
ये भी पढ़ेंः यहां सूर्यास्त के बाद नहीं रूकते किन्नर, जानें गर्भवती होने की चमत्कारिक कहानी


चीनी कैलेंडर चंद्र सौर चीनी कैलेंडर पर आधारित है। चीनी नव वर्ष के पहले दिन यानी कैलेंडर के पहले दिन से चीन में 15 दिवसीय वसंत उत्सव की शुरुआत होती है। आखिरी दिन लालटेन महोत्सव मनाया जाता है। प्रायः चीनी नव वर्ष 21 जनवरी से 20 फरवरी के बीच दिखाई देने वाले नए चन्द्रमा से शुरू होता है। साल 2024 में यह 12 फरवरी से शुरू होगा। यह नव वर्ष सिंगापुर, ताइवान, म्यांमार आदि देशों में भी मनाया जाता है। नए साल की पूर्व संध्या पर चीनी परिवार वार्षिक पुनर्मिलन समारोह और रात्रिभोज आयोजित करते हैं। साथ ही नव वर्ष पर लाल कागज और कविताओं के साथ खिड़कियों और दरवाजों की सजावट करते हैं।

इस्लामी नव वर्ष को इस्लामी नया साल के नाम से भी जानते हैं। इसे हिजरी नव वर्ष के रूप में भी जाना जाता है। मुहर्रम के पहले महीने के पहले दिन से इस नव वर्ष की शुरुआत होती है। यह कैलेंडर चंद्र गणना पर आधारित है और सूर्यास्त के बाद के समय से दिन की शुरुआत माना जाता है। इस कैलेंडर वर्ष का निर्धारण पैगंबर मुहम्मद और उनके अनुयायियों के मक्का से मदीना प्रवास के वर्ष से किया जाता है। जो ग्रेगोरियन कैलेंडर में 622 सीई के बराबर है। साल 2024 में इस्लामी कैलेंडर के नव वर्ष की शुरुआत यानी मोहर्रम महीने की शुरुआत 17 जुलाई को होने की संभावना है।

Hindi News/ Astrology and Spirituality / Festivals / हर धर्म में अलग होती है नए साल की तारीख, जानिए सभी की डेट और महत्व

ट्रेंडिंग वीडियो