Papmochani Ekadashi 2021: समस्त पापों से मुक्ति के लिए करें ये व्रत, व्रत की कथा पढ़ने या सुनने मात्र से प्राप्त होगा 1000 गौदान के बराबर पुण्य

भगवान कृष्ण ( lord Shri Krishna ) ने अर्जुन को समझाते हुए बताया था कि...

By: दीपेश तिवारी

Published: 01 Apr 2021, 03:51 PM IST

चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को सर्व पापमोचनी एकादशी ( Papmochani Ekadashi ) के रूप में मनाई जाती है। शास्त्रों में साल की 24 एकादशियों में से चैत्र मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी का बहुत बड़ा महत्व बताया गया हैं। ऐसे में इस बार यानि 2021 में पापमोचनी एकादशी ( Papmochani Ekadashi 2021 ) 07 अप्रैल 2021, बुधवार को है। इस व्रत में भगवान विष्णु के चतुर्भुज रूप की पूजा की जाती है।

माना जाता है कि इस दिन व्रत रखने से सभी तरह के ज्ञात व अज्ञात पापों का नाश हो जाता है इस व्रत के बारे में खुद भगवान कृष्ण ने अर्जुन को समझाते हुए बताया था कि इस व्रत को रखने से समस्त पापों से मुक्ति मिल जाती है और वो व्यक्ति मोक्ष प्राप्त करता है।

मान्यता के अनुसार इस दिन उपवास रखने के साथ ही जिस चीज की भी कामना की जाती हैं, वह मनोकामना पूरी हो जाती हैं। इसके अलावा इस व्रत से ब्रह्महत्या जैसे महापाप भी दूर हो जाते हैं। साथ ही व्रत की कथा पढ़ने या सुनने मात्र से ही 1000 गौदान के बराबर पुण्य प्राप्त होता है।

MUST READ : Hindi List of Ekadashi Vrat 2021- साल 2021 में एकादशी व्रत की तिथियां, यहां देखें पूरी लिस्ट

https://www.patrika.com/dharma-karma/ekadashi-vrat-2021-list-of-ekadashi-2021-6616276/

जानकारों के अनुसार पापमोचनी एकादशी ( Papmochani Ekadashi ) का अर्थ ही है पाप को नष्ट करने वाली एकादशी। इस दिन विधि विधान से भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। साथ ही किसी की निंदा करने और झूठ बोलने से बचना चाहिए। इस व्रत को करने से ब्रह्महत्या, स्वर्ण चोरी, मदिरापान, अहिंसा और भ्रूणघात समेत अनेक घोर पापों के दोष से मुक्ति मिलती है।

Papmochani Ekadashi shubh timing : शुभ मुहूर्त...
एकादशी तिथि आरंभ- 07 अप्रैल 2021 प्रातः तड़के 02 बजकर 09 मिनट से
एकादशी तिथि समाप्त- 08 अप्रैल 2021 प्रातः 02 बजकर 28 मिनट पर
पापमोचनी एकादशी पारणा मुहूर्त :13:39:14 से 16:10:59 तक 8, अप्रैल तक
अवधि : 2 घंटे 31 मिनट
हरि वासर समाप्त होने का समय :08:42:30 पर 8, अप्रैल को

Papmochani Ekadashi Vrat Katha : पापमोचनी एकादशी व्रत की कथा...
व्रत ( Papmochani Ekadashi vrat ) की कथा के अनुसार एक बार च्यवन ऋषि के पुत्र मेधावी ऋषि घोर तपस्या में लीन थे। उनकी तपस्या से इंद्र भी घबरा गए। लिहाजा तपस्या भंग करने के लिए इंद्र ने मंजुघोषा नाम की एक अप्सरा को उनके समीप भेजा। उसने अपने नृत्य, गायन और सौंदर्य से मेधावी मुनि का ध्यान भंग कर दिया और मुनि मेधावी मंजूघोषा अप्सरा पर मोहित हो गए। इसके बाद वे उसी अप्सरा के साथ रहने लगे। बहुत समय बीत जाने के पश्चचात मंजूघोषा ने वापस जाने के लिए अनुमति मांगी, तब मेधावी ऋषि को अपनी भूल और तपस्या भंग होने का आत्मज्ञान हुआ जिससे वे क्रोधित हो गए।

उन्होंने मंजुघोषा को पिशाचिनी बनने का श्राप दिया। इसके बाद अप्सरा ऋषि के पैरों में गिर गई और श्राप से मुक्ति का उपाय पूछा। मंजूघोषा के बार-बार विनती करने पर मेधावी ऋषि ने उसे श्राप से मुक्ति पाने के लिए बताया कि पापमोचनी एकादशी ( Papmochani Ekadashi ) का व्रत करने से तुम्हारे समस्त पापों का नाश हो जाएगा और तुम पुन:अपने पूर्व रूप को प्राप्त करोगी।

अप्सरा को मुक्ति का मार्ग बताकर मेधावी ऋषि अपने पिता के महर्षि च्यवन के पास पहुंचे। श्राप की बात सुनकर च्यवन ऋषि ने कहा कि- ''हे पुत्र यह तुमने अच्छा नहीं किया, ऐसा कर तुमने भी पाप कमाया है, इसलिए तुम भी पापमोचनी एकादशी ( Papmochani Ekadashi ) का व्रत करो।'' इस प्रकार पापमोचनी एकादशी ( Papmochani Ekadashi ) का व्रत करके अप्सरा मंजूघोषा को श्राप से मुक्ति मिल गई और मेधावी ऋषि के भी सभी पापों से मुक्ति प्राप्त हो गई।

Papmochani Ekadashi Vrat Vidhan : इस व्रत का विधान...
: एकादशी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नानादि से निवृत होकर स्वच्छ वस्त्र धारण कर भगवान विष्णु के समक्ष व्रत का संकल्प लें।
: पूजा स्थल पर पीले कुशा आसन पर बैठकर घी का दीपक जलाकर भगवान विष्णु की प्रार्थना करें। कथा करें, हवन भी कर सकते हैं।
: भगवान श्री विष्णु जी के चतुर्भुज रूप का षोडशोपचार पूजा विधान सहित धुप, दीप, चंदन, ऋतुफल एवं नैवैद्य का भोग लगाएं ।
: पूजन के बाद मंत्र (ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।।) का कम से कम 108, 501 या फिर 1100 बार जप करें ।
: इस दिन न तो किसी की निंदा न करें और न ही झूठ न बोलें, साथ ही किसी का दिल भी न दुखाएं।
: इस दिन नमक व शक्कर से बने पदार्थों का सेवन बिलकुल भी न करें । संभव हो तो दोनों समय निराहर ही रहे, सादे पानी में नींबू मिलाकर पी सकते हैं ।
: व्रत को अगले दिन द्वादशी तिथि में पारण के बाद ही खोलें।
: स्वयं भोजन करने से पहले किसी ब्राह्मण को दान-दक्षिणा देकर व्रत खोलने से व्रत पूर्ण माना जाता हैं ।

दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned