सावन मास में महादेव की सबसे अधिक फलदायी पूजा, जो मांगते हैं मिल जाता है शिव दरबार से

sawan mahadev fruitful worship 2019 : सावन मास (sawan month) में मान्यता है कि सावन मास में शिव जी का पूजन करने से वे प्रसन्न होकर अपने शरणागत भक्त की सभी मनोकामना पूरी कर देते हैं।

Shyam Kishor

July, 1712:33 PM

सावन मास ( sawan month ) में भारत के सभी छोटे-बड़े शिवालयों विशेषकर सोमवार के दिन हर-हर महादेव और बोल बम बोल की गूंज सुनाई देती है। सभी शिव भक्त सावन के महीने में भगवान शिवजी एवं माता पार्वती जी का विशेष पूजन अर्चन करते हैं। सावन मास इसलिए भी खास है कि इस महीने में लोगों की अनेक मनोकामनाएं महादेव शिवशंकर पूरी कर देते हैं।

 

 

Sawan  <a href=shiv Pujan vidhi" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/07/17/3_4_4848328-m.jpg">

सावन की विशेषता

हिन्दू धर्म की पौराणिक मान्यता के अनुसार सावन महीने को देवों के देव महादेव भगवान शंकर का महीना माना जाता है। इस संबंध में पौराणिक कथा है कि जब सनत कुमारों ने महादेव से उन्हें सावन महीना प्रिय होने का कारण पूछा तो महादेव भगवान शिव ने बताया कि जब देवी सती ने अपने पिता दक्ष के घर में योगशक्ति से शरीर त्याग किया था।

Sawan Shiv Pujan vidhi

उससे पहले देवी सती ने महादेव को हर जन्म में पति के रूप में पाने का प्रण किया था। अपने दूसरे जन्म में देवी सती ने पार्वती के नाम से हिमाचल और रानी मैना के घर में पुत्री के रूप में जन्म लिया। पार्वती ने युवावस्था के सावन महीने में निराहार रह कर कठोर व्रत किया और उन्हें प्रसन्न कर विवाह किया, जिसके बाद ही महादेव के लिए यह विशेष हो गया।

Sawan Shiv Pujan vidhi

सावन में शिव की फलदायी पूजा

सावन के महीने में भगवान शंकर की विशेष रूप से पूजा की जाती है। इस दौरान पूजन की शुरूआत महादेव के अभिषेक के साथ की जाती है। अभिषेक में महादेव को जल, दूध, दही, घी, शक्कर, शहद, गंगाजल, गन्ना रस आदि से स्नान कराया जाता है।

Sawan Shiv Pujan vidhi

अभिषेक के बाद बेलपत्र, समीपत्र, दूब, कुशा, कमल, नीलकमल, ऑक मदार, जंवाफूल कनेर, राई फूल आदि से शिवजी को प्रसन्न किया जाता है। इसके साथ की भोग के रूप में धतूरा, भाँग और श्रीफल महादेव को चढ़ाया जाता है। मान्यता है कि इस प्रकार शिव जी का पूजन करने से वे प्रसन्न होकर अपने शरणागत भक्त की सभी मनोकामना पूरी कर देते हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned