देश में शुरू हुर्इ नोटों की किल्लत, 18000 से ज्यादा एटीएम में नहीं है कैश

आरटीआई के हवाले से खुलासा हुआ हैं कि एसबीआर्इ के 18,135 एटीएम नए नोटों के अनुरूप नहीं ढाला जा सका है। हालांकि इस अवधि में बैंक ने 22.50 करोड़ रुपए के खर्च से 41,368 एटीएम को नए नोटों के अनुरूप तैयार कर ल‍िया है।

Saurabh Sharma

August, 2411:10 AM

नर्इ दिल्ली। नोटबंदी के बाद कैश की किल्लत पूरे देश को झेलनी पड़ी थी। लाइनों में लगे लोगों को अपनी जान तक गंवानी पड़ी थी। अब दोबारा से देश के सबसे बड़े बैंक एसबीअार्इ में कैश की किल्लत शुरू हो गर्इ है। एसबीआर्इ के देश भर में 18000 से ज्यादा एटीएम में नए नोटों की किल्लत शुरू हो गर्इ है। अभी तक उन एटीएम को नए नोटों के अनुरूप नहीं तैयार किया गया है। आइए आप भी जानिये पूरी सच्चार्इ इस रिपोर्ट में…

आरटीआर्इ में हुआ खुलासा
आरटीआई के हवाले से खुलासा हुआ हैं कि एसबीआर्इ के 18,135 एटीएम नए नोटों के अनुरूप नहीं ढाला जा सका है। हालांकि इस अवधि में बैंक ने 22.50 करोड़ रुपए के खर्च से 41,368 एटीएम को नए नोटों के अनुरूप तैयार कर ल‍िया है। मध्‍यप्रदेश के नीमच न‍िवासी सामाज‍िक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने बताया हैं कि स्‍टेट बैंक ने उनकी आरटीआई अर्जी के जवाब में यह जानकारी दी है।

ये पूछे थे सवाल?
आरटीआर्इकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने एसबीआई से पूछा था कि बैंक के कितने एटीएम अब तक 2,000, 500 और 200 रुपए के नए नोटों के अनुरूप ढाले जा चुके हैं। तो एसबीआई की द्वारा म‍िली जानकारी के त‍हत मालूम हुआ कि अब तक बैंक के 59,521 एटीएम में से 41,386 नकदी निकासी मशीनों को रीकैलिब्रेट कर लिया है। वहीं इस काम पर 22.50 करोड़ रुपए की राशि खर्च की गर्इ है। हालांकि एसबीआई के उत्तर से स्पष्ट है कि फिलहाल उसके 18,135 एटीएम ग्राहकों को नए नोट देने लायक नहीं बन सके हैं।

2016 में पीएम मोदी ने की नोटबंदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नवंबर 2016 को 500 और 1,000 रुपए के पुराने नोट बंद किए जाने की घोषणा की थी। इसके बाद भारतीय रिजर्व बैंक ने सिलसिलेवार तरीके से 2,000, 500 और 200 रुपए के नए नोट जारी किए थे। हाल ही में रिजर्व बैंक ने 100 रुपए और 50 रुपए का नया नोट भी जारी किया है। इन नोटों के हिसाब से भी बैंकों को फिर से एटीएम मशीनों को ढालना होगा। एसबीआई अब इन 18,135 एटीएम को सभी नए नोट के हिसाब से ढालेगी। 100 रुपए का नया नोट अभी बाजार में नहीं आया है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned