पुण्यतिथि विशेष: अपने वारिस के लिए इतने करोड़ रुपए की संपत्ति छोड़ गए थे अटल बिहारी वाजपेई

पुण्यतिथि विशेष: अपने वारिस के लिए इतने करोड़ रुपए की संपत्ति छोड़ गए थे अटल बिहारी वाजपेई

Saurabh Sharma | Publish: Aug, 16 2019 12:26:02 PM (IST) फाइनेंस

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी दुनिया के सबसे ईमानदार राष्ट्राध्यक्षों में से एक थे, उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी में मात्र 14 करोड़ रुपए की संपत्ति जोड़ी थी।

नई दिल्ली। देश की आजादी के जश्न के बाद पिछले 16 अगस्त को एक ऐसा शख्स दुनिया को छोड़कर गया, जो ना तो नेहरू से डरता था और ना ही इंदिरा से। अपनी कविताओं से देश के लोगों को जागृत करने की कोशिश करता था। प्रधानमंत्री होते हुए भी विपक्ष के नेताओं का आदर उतना ही करता था जितना अपनी पार्टियों के नेताओं। जी हां, हम बात कर रहे हैं देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई का। जिनकी आज पहली पुण्यतिथि है। भारतीय राजनीति के अजातशत्रु कहलाए जाने वाले वाजपेई के जीवन के बारे में कुछ छिपा नहीं है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि जिंदगीभर ब्रह्मचर्य रहने वाले अटल बिहारी वाजपेई के कितनी संपत्ति थी। वो अपने वारिसों के लिए क्या छोड़ गए थे। आइए आपको भी बताते हैं...

यह भी पढ़ेंः- लगातार 6 दिनों से स्थिर है पेट्रोल का भाव, वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में नरमी

14 करोड़ से ज्यादा थी संपत्ति
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने शादी नहीं की। जब शादी नहीं की तो कोई संतान भी नहीं है। इससे पहले आपको बता दें कि पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी दुनिया के सबसे ईमानदार राष्ट्राध्यक्षों में से एक रहे हैं। इसके बाद भी उनके पास 14 करोड़ से ज्यादा है संपत्ति थी। www.celebritynetworth.com की रिपोर्ट के अनुसार उनके पास 2 मीलियन डॉलर की संपत्ति थी। अगर इसकी गणना भारतीय रुपए में की जाए तो वो आज के समय के अनुसार 14.05 करोड़ रुपए बैठ रही है।

यह भी पढ़ेंः- पीएम मोदी के भाषण से प्रभावित हुए आनंद महिंद्रा, ट्वीट कर दी बधाई

3 बार बने थे देश के प्रधानमंत्री
अटल बिहारी वाजपेई देश के तीन बार प्रधानमंत्री बने हैं। सबसे पहले उन्होंने 13 दिनों की केंद्र सरकार में पीएम बने। उसके बाद 13 महीने की सरकार का भी उन्होंने प्रतिनिधित्व किया है। 1998 में एक बार फिर से चुनाव हुआ और एनडीए सरकार के बैनर तले पूरे पांच साल तक वो देश प्रधानमंत्री रहे हैं। वो 9 बार लोकसभा चुनाव जीते हैं। वहीं राज्यसभा सांसद भी दो बार बने हैं। अपनी खराब सेहत की वजह से उन्होंने 2009 राजनीति से संयास ले लिया था।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned