RBI के पक्ष में बोला मूडीज, कहा- NBFC को संकट से उबारने के लिए सकारात्मक रूख

RBI के पक्ष में बोला मूडीज, कहा- NBFC को संकट से उबारने के लिए सकारात्मक रूख

Ashutosh Kumar Verma | Updated: 04 Jun 2019, 07:04:27 PM (IST) फाइनेंस

  • गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के लिए आरबीआई द्वारा घोषित नई तरलता की जरूरत सकरात्मक: आरबीआई
  • इससे तरलता की कमी के कारण पैदा होने वाले जोखिम में कमी आएगी
  • आरबीआई ने घोषणा की थी कि एक अप्रैल 2020 से भारत के एनबीएफआई के लिए एलसीआर लागू होगा।

नई दिल्ली। क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ( Moody's ) ने मंगलवार को कहा कि गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों ( NBFC ) के लिए rbi द्वारा घोषित नई तरलता की जरूरत सकरात्मक है, क्योंकि इससे तरलता ( Liquidity ) की कमी के कारण पैदा होने वाले जोखिम में कमी आएगी। तरलता का अभाव होने से संपत्ति आधारित प्रतिभूतियों ( ABC ) पर दिए गए कर्ज की वसूली की उनकी क्षमता प्रभावित हो सकती है।

ILFS मामले में SFIO ने RBI पर उठाया सवाल, केंद्रीय बैंक की लापरवाही से इतना बड़ा हुआ घोटाला!

अप्रैल में आरबीआई ने किया था यह खास घोषणा

रेटिंग एजेंसी ने यह टिप्पणी भारत में संपत्ति आधारित प्रतिभूतियों पर गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थानों के लिए तरलता राशि अनुपात के विनियमनों में आरबीआई द्वारा किए गए बदलाव पर की है। आरबीआई ने घोषणा की थी कि एक अप्रैल 2020 से भारत के गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थानों (एनबीएफआई) के लिए तरलता राशि अनुपात (एलसीआर) लागू होगा। एलसीआर में एनबीएफआई को अपनी तरल परिसंपत्ति का स्टॉक बढ़ाना होगा और तरलता प्रबंधन में सुधार लाना होगा। मतलब, वे अल्पकालीन नकदी प्रवाह बनाए रखने में बेहतर ढंग से सक्षम होंगे।

इस साल दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा भारत, 2025 तक जापान को भी छोड़ देगा पीछे

मूडीज ने क्या कहा

मूडीज ने कहा, "एनबीएफआई द्वारा जारी भारतीय संपत्ति आधारित प्रतिभूतियों के सौदे के लिए यह साख सकारात्मक है, क्योंकि इससे जोखिम में कमी आएगी। दरअसल, तरलता का अभाव होने से एनबीएफआई प्रभावित होंगे, क्योंकि इससे एबीएस सौदे के कर्ज की वसूली की उनकी क्षमता प्रभावित होगी।" एक अप्रैल, 2020 से एनबीएफआई को कम से कम 60 फीसदी एलसीआर बनाए रखना होगा। इसके बाद इसमें चरणबद्ध तरीके से वृद्धि की जाएगी और एक अप्रैल, 2024 से एलसीआर 100 फीसदी हो जाएगा।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned