SBI कस्टमर्स को झटका, बैंक ने दूसरी बार FD पर घटाए Interest Rate, जानें नई ब्याज दरें

  • fd में निवेश करने वालों को लगेगा झटका
  • SBI ने घटाई ब्याज दरे
  • मई महीने में 2 बार बदली ब्याज दरें

By: Pragati Bajpai

Published: 27 May 2020, 05:18 PM IST

नई दिल्ली: SBI ने अपने कस्टमर्स को झटका दे दिया है। एक महीने में दूसरी बार बैंक ने FD पर ब्याज दरों को घटा दिया है। तो अगर आप मार्केट रिस्क से बचने के लिए Fixed Deposit में निवेश करने का पलान बना रहे हैं तो ये खबर आपके लिए है। SBI ने 2 करोड़ रुपये से कम की रिटेल एफडी पर ब्याज 7-45 दिन से लेकर 5-10 साल की अवधि तक पर 0.40 फीसदी तक घटा दिया है। अब SBI की एफडी पर मिलने वाला फायदा कम हो गया है। 27 मई से ये ब्याज दरें लागू हो गई हैं।

Disinvestment हो सकता है सरकार का अगला कदम, sail के 3 प्लांट्स पर फैसला जल्द

इससे पहले रिटेल FD पर ब्याज दरें 3 साल तक की अवधि के लिए 0.20 फीसदी घटाई गई थीं जो 12 मई से लागू हुईं थी। मार्च 2020 में SBI ने अपने सभी टेन्योर वाले FD के इंटरेस्ट रेट में 0.20%-0.50% तक की कटौती की थी। यह कटौती 28 मार्च 2020 से लागू थी। मार्च में भी SBI ने दो बार ब्याज दर घटाए थे।

जोखिम न होने के लिए लोग करते हैं FD पर भरोसा-हमारे देश में एक बड़ी आबादी निवेश के लिए फिक्सड डिपॉजिट स्कीम्स का सहारा लेते हैं । ऐसे में ब्याज दर कम हो जाने से लोग एफडी में पैसा लगाना शायद उतना न पसंद करें।

  • नई ब्याज दरें- 7 दिन से 45 दिन तक - 2.9%
  • 46 दिन से 179 दिन तक - 3.9%
  • 180 दिन से 210 दिन तक - 4.4%
  • 211 दिन से लेकर 1 साल से कम - 4.4%
  • 1 साल से ज्यादा 2 साल से कम - 5.1%
  • 2 साल से ज्यादा लेकिन 3 साल से कम - 5.1%
  • 3 साल से ज्यादा लेकिन 5 साल से कम - 5.3%
  • 5 साल से ज्यादा लेकिन 10 साल से कम - 5.4%

वहीं सीनियर सिटीजन्स को हर टेन्योर पर आधा फीसदी ज्यादा ब्याज मिलेगा।

rbi के रेपो रेट कम करने के बाद लिया फैसला- कोरोना वायरस के चलते अर्थव्यवस्था पर बढ़ रहे दबाव और मध्यवर्ग की आय प्रभावित होने की वजह से रिजर्व बैंक आफ इंडिया (RBI) ने आम लोगों को राहत देने के इरादे से लॉकडाउन लागू होने के बाद 2 बार रेपो रेट कटौती की है। RBI ने 22 मई को रेपो रेट ( REPO Rate ) में 40 बेसिस प्वॉइंट की कटौती की थी। रेपो रेट 4.4 फीसदी से घटाकर 4 फीसदी कर दिया गया था।

rbi
Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned