BJP MLA का आरोप, मोटी रिश्वत लेकर 70 प्रतिशत रोहिंग्या और बांग्लादेशियों को दिया गया पीएम आवास

लोनी विधायक ने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर जांच की बात कही। आरोप है कि डूडा विभाग ने रिश्वत लेकर बांग्लादेशियों और रोहिंग्याओं को लाभ दिया।

By: Rahul Chauhan

Published: 28 Jul 2021, 12:53 PM IST

गाजियाबाद। लखनऊ एटीएस ने विशेष अभियान के तहत गाजियाबाद रेलवे स्टेशन से 3 रोहिंग्याओं को गिरफ्तार किया तो इस पर प्रतिक्रिया देते हुए लोनी के भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने अपनी ही सरकार के कार्यकाल के दौरान किए गए कार्यों को लेकर कई बड़े सवाल खड़े करते हुए डोडा के अधिकारियों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। इस संबंध में विधायक ने बाकायदा जिलाधिकारी को एक पत्र लिखकर गहन जांच के बाद कार्रवाई कराए जाने की बात कही है। इस पूरे मामले में भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने कहा कि लोनी विधानसभा में डूडा के अधिकारियों के द्वारा फर्जी दस्तावेजों से रोहिंग्या और बांग्लादेशियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के मकान स्वीकृत करने के मामले में भारी अनियमितता बरती गई है। पिछले साढ़े 4 वर्षों में डूडा से प्राप्त डाटा के अनुसार योजना में करीब 80% से अधिक लाभ बांग्लादेशी और रोहिंग्या को ही दिया गया है।

यह भी पढ़ें: फूलन देवी की प्रतिमा के बाद अब विकास दुबे और श्रीप्रकाश शुक्ला की मूर्ति लगवाने का ऐलान

आरोप है कि बांग्लादेशियों और रोहिंग्या के द्वारा डूडा के अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत से मोटी रिश्वत लेकर फर्जी दस्तावेजों के सहारे योजना का लाभ उन्हें दिया गया है। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि लोनी में जितने भी संविदा पर रखे गए हैं। अधिकतर कर्मचारी बांग्लादेशी ही रखे गए हैं और उन्हें योजना का लाभ दिया जा रहा है।विधायक ने अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए कहा है कि जरूरतमंद बहुसंख्यक आबादी के सभी दस्तावेज में गलती निकाल कर उनका आवेदन बड़े पैमाने पर खारिज कर दिए जाते हैं और लोनी में लगातार बगैर उनकी संस्तुति के स्थानीय गैंग की सहायता से बांग्लादेशियों और रोहगियाओं के द्वारा नंद नगरी एवं अक्षरधाम से फर्जी आधार कार्ड और अन्य सरकारी दस्तावेज बनाए जा रहे हैं। इसके लिए इनके पास वोटर आईडी कार्ड पैन कार्ड मूल निवास प्रमाण पत्र वह जमीन के दस्तावेज भी हैं। इनमें से कुछ लोग लोनी के मूलनवासी भी बन चुके हैं। जो वाकई चिंता का विषय है।

विधायक का कहना है कि उन्होंने इससे पहले भी गाजियाबाद में भारी संख्या में रह रहे अवैध बांग्लादेशी घुसपैठिए और रोहिंग्याओं के बारे में प्रशासन को अवगत कराया था।लेकिन प्रशासन द्वारा आश्वासन के बावजूद कोई भी सर्च ऑपरेशन नहीं चलाया गया।जबकि लोनी की विधानसभा देश की राजधानी दिल्ली से सटी हुई है।उन्होंने बताया कि करहेड़ा धर्म परिवर्तन समेत हाल में ही यूपी एटीएस द्वारा धर्म परिवर्तन कराने वाले गैंग की गिरफ्तारी के तार भी लोनी में रहने वाले रोहिंग्या आतंकी और बांग्लादेशियों से जुड़े हुए हैं।जो आईएसआई के संपर्क में हैं। यह देश की राजधानी दिल्ली और उत्तर प्रदेश स्थित कई महत्वपूर्ण सरकारी संस्थानों एवं प्रतिष्ठित व्यक्तियों के लिए भारी खतरा बन रहा है।

यह भी पढ़ें: अगर आपने भी सोशल मीडिया पर बनाई है फर्जी प्रोफाइल तो तुरंत करें डिलीट, नहीं तो होगी तीन साल की जेल

उनका कहना है कि इसके लिए शासन के द्वारा एक उच्च स्तरीय समिति बनाकर लोनी में प्रधानमंत्री आवास योजना में हुए भ्रष्टाचार एवं फर्जी दस्तावेजों के सहारे बांग्लादेशियों और रोगियों को लाभ पहुंचाने के बाद राष्ट्रपति कृपया पर डूडा अधिकारियों एवं लोनी डूडा कर्मचारियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए और फर्जी आधार कार्ड, पहचान पत्र, पैन कार्ड की दोबारा से समीक्षा कर उन्हें रद्द कर दोषी पाए जाने पर मदद करने वाले लोगों के खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई की जाए। इसके अलावा एक बड़ा सर्च अभियान चलाकर रोहंगिया और बांग्लादेशियों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned