राशन डीलरों के भ्रष्टाचार के खिलाफ जिला पूर्ति अधिकारी की कार्रवाई से भड़के कोटेदार

राशन डीलरों के भ्रष्टाचार के खिलाफ जिला पूर्ति अधिकारी की कार्रवाई से भड़के कोटेदार

Iftekhar Ahmed | Publish: Sep, 09 2018 04:09:48 PM (IST) Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

कोटेदारों ने प्रदर्शन के बाद जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

गाजियाबाद. प्रदेश में बड़े स्तर पर राशन घोटाला सामने आने के बाद से राशन डीलरों के खिलाफ शिकंजा कसता जा रहा है। सभी राशन डीलर की गहनता से जांच कराई जा रही है। इतना ही नहीं, राशन डीलरों के पास लगे तराजू और मशीन की भी गहनता से जांच कराई गई। इस दौरान काफी राशन डीलरों के यहां उनमें भी गड़बड़ी पाई गई। इसके आधार पर जिला पूर्ति अधिकारी ने कुछ राशन डीलरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया। इसके साथ ही कुछ राशन डीलरों के रजिस्ट्रेशन भी रद्द दिए थे, जिसके बाद से राशन डीलरों में भारी नाराजगी देखी जा रही है। प्रशासन की इस सख्ती के विरोध में राशन डीलरों के लाइसेंस रद्द होने और उन पर हुई एफ़आईआर सहित 6 मांगों को लेकर राशन डीलरों ने आदर्श कोटेदार एवं उपभोक्ता वेलफ़ेयर एसोसिएशन के तत्वाधान में प्रदर्शन किया। इस मौके पर सौंकड़ों की तादाद में कोटेदार कविनगर रामलीला मैदान में इकट्ठा हुए और खाद्य एवं रसद मंत्री अतुल गर्ग के घर पहुंचे। जहां से पैदल मार्च करते हुए जिला कलेक्ट्रेट पर जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया। वहीं, जिला पूर्ति अधिकरी का कहना है कि इस हड़ताल से लोगों को परेशानी का सामना कर पड़ सकता है। राशन डीलरों से बातचीत जारी है। जल्द ही कोई फैसला कर लिया जाएगा।

 

ये हैं कोटेदारों की मांगों के प्रमुख बिंदु
०-राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत होम डिलीवरी शुरू की जाए।
०-कोटेदार का मानदेय 25 हजार मासिक और 200 रुपए प्रति कुंतल किया जाए। पूर्व बकाया होम डिलीवरी बाला पोषाहार का भुकतान तत्काल किया जाए।
०-राशन की दुकान पर लगने वाली धारा 3/7 समाप्त की जाए।
०-कोटेदार व्यवस्था को समाप्त करने पर विचार करें।
०-कोटेदारो पर दर्ज की गई एफ़आईआर वापस ली जाए।
०-जिन लोगों के घोटाले में नाम आए हैं। उन में से अधिकांश कोटेदार मात्र 10वीं या 12वीं पास है। ऐसे में ये लोग आखिरकार किस तरह मशीन से छेड़छाड़ कर सकते हैं।


जिला पूर्ति अधिकारी बोले-अनियमित्ता नहीं की जाएगी बर्दाश्त

उधर से पूरे मामले में जिला पूर्ति अधिकारी सुनील सिंह ने बताया कि शासन के द्वारा मिले निर्देश के अनुसार सभी राशन डीलर के यहां गहन चेकिंग कराई गई थी। गहन जांच करने के बाद खामियां पाई जाने वाले राशन डीलर के यहां कड़ी कार्रवाई की गई है। इनमें से कुछ राशन डीलर के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराए गए हैं और कुछ राशन डीलर का रजिस्ट्रेशन भी कैंसिलेशन के लिए भेज दिया गया है। हालांकि, कुछ राशन डीलर अपनी कुछ मांगे शासन तक पहुंचाना चाहते हैं उनमें से कुछ मांग जायज भी हैं राशन डीलर की मांगों को ध्यान में रखते हुए शासन को भेजी जाएगी। और उनके इस समस्या का समाधान भी कराया जाएगा, लेकिन किसी भी रुप में अनियमितताएं बर्दाश्त नहीं की जाएंगी।

Ad Block is Banned