कोविड प्रोटोकॉल से बाहर की गई दवाएं बच्चों के किट में शामिल

बच्चों व किशोरों को ध्यान में रखकर पीडियाट्रिक आइसीयू बनाए जा रहे

By: Neeraj Patel

Published: 25 Jun 2021, 10:32 AM IST

गोरखपुर. जिले में कोरोना की तीसरी लहर रोकने के लिए बच्चों व किशोरों के लिए तैयार की गई मेडिकल किट में उन दवाओं को भी शामिल किया गया है, जिनकी कोविड के इलाज में कोई भूमिका नहीं है। आइसीएमआर ने अध्ययन के बाद आइवरमेक्टिन, जिंक व मल्टीविटामिन को कोविड प्रोटोकाल से बाहर कर दिया है। लेकिन बच्चों व किशोरों के लिए बनी मेडिकल किट में इन्हें शामिल किया गया है। कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने की आशंका जताई जा रही है। इसलिए इस लहर की रोकथाम की तैयारी बच्चों व किशोरों को ध्यान में रखकर की जा रही है।

कोरोना की तीसरी लहर से बचाने के लिए बच्चों व किशोरों को ध्यान में रखकर पीडियाट्रिक आइसीयू बनाए जा रहे हैं। साथ ही प्रदेश सरकार ने 27 जून से बच्चों व किशोरों को बांटने के लिए मेडिकल किट तैयार की है। प्रथम चरण के लिए 35 हजार किट स्वास्थ्य विभाग को शासन ने उपलब्ध करा दिया है।

दरअसल 0 से 17 वर्ष तक के बच्चों व किशोरों को चार श्रेणियों में बांटा गया है, जिन्हें अलग-अलग किट उपलब्ध कराई जाएंगी। शून्य से एक व दो से पांच साल तक के बच्चों की दोनों श्रेणियों में मल्टीविटामिन दवा शामिल की गई है। छह से 12 साल के बच्चों की किट में आइवरमेक्टिन व 13 से 17 साल के किशोरों की किट में आइवरमेक्टिन के साथ जिंक सल्फेट भी शामिल किया गया है।

ये भी पढ़ें - लखनऊ के पांच अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाएगा डीआरडीओ

विशेषज्ञों की सलाह पर ही तैयार की गई किट

सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय का कहना है कि शासन की गाइडलाइन के अनुसार दवाएं किट में शामिल की गई हैं। हम इसमें कोई बदलाव नहीं कर सकते। इन दवाओं की किट विशेषज्ञों की सलाह पर ही तैयार की गई हैं। दवाएं उपयोगी हैं। इनका असर कोरोना के इलाज में देखा गया है। 27 जून को जनप्रतिनिधियों के हाथों वितरण का शुभारंभ कराया जाएगा।

COVID-19 virus
Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned