दलित समाज की मीटिंग से नाराज हथियारबंद दबंगों ने किया दलित परिवार पर हमला

एडिशनल डीसीपी विकास पांडे का कहना है कि मामले की सूचना मिलते ही शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर लिया गया है।

ग्रेटर नोएडा. उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले के रबूपुरा कोतवाली क्षेत्र में स्थित कानपुर गांव में हथियारबंद दबंगों ने रविवार को अनुसूचित जाति के के लोगों के घरों पर हमला कर दिया। इस वारदात में अनुसूचित जाति के चार महिला समेत आधा दर्जंन लोगो पर तमंचे, रॉड और धारदार हथियार से हमला कर दिया गया। जिसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गए। तीन घायलों को इलाज के लिए दिल्ली के हायर सेंटर में रेफर किया गया है। सूचना मिलते ही गांव में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। पीड़ित पक्ष की शिकायत पर 10 लोगों के खिलाफ नामदर्ज और अन्य अज्ञात सवर्णों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

यह भी पढ़ें : शराब पीने के बाद भूल गया दोस्ती, मामूली कहासुनी में युवक ने पालिका कर्मी पर किए ताबड़तोड़ वार

मीटिंग से नाराज हुए गांव के सवर्ण
बताया जा रहा है कि अनुसूचित जाति और जनजाति के घायलों का सिर्फ इतना कसूर था कि अपने समाज की मीटिंग कानपुर गांव में कर रहे थे, जहां पर भीम आर्मी के कार्यकर्ता भी पहुंचे थे। बैठक में भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने उन्हें संविधान की जानकारी दी और 17 तारीख को होने वाले जनसभा के लिए लोगों की भीड़ जुटाने के लिए बात की। बैठक की खबर जब स्वर्ण लोगों के पास पहुंची नाराज हो गए और तमंचे, रॉड और धारदार हथियार के साथ दलित रामविलास के घर में घुसे और परिवार के सदस्यों पर हमला बोल दिया और फायरिंग की।

छेड़खानी का भी लगा आरोप

आरोप है कि सवर्णों ने महिलाओं के साथ छेड़खानी की, उनके कुंडल छीन लिए गए। वहीं इस घटना में उमेश, रितिक, कुमारी मोनिका, कुमारी प्रायासी को गंभीर चोटें आई हैं। उन्हें उपचार के लिए ग्रेटर नोएडा के जिम्स अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया। जहां से दिल्ली के हायर सेंटर में रेफर किया गया है। वहीं इस दौरान रामविलास, पत्नी राजरानी, भतीजी मुस्कान, राजरानी की बहन गीता और रामविलास की बहू सुनीता घायल हो गए। आरोप है कि सवर्णों ने जातिसूचक शब्दों बोलकर उन्हें अपमानित किया गया। शिकायत करने पर जान से मरने की धमकी भी देकर गये।

ग्रामीणों में दहशत का माहौल
इस घटना के बाद कानपुर गांव में अनुसूचित जाति के लोगों के बीच दहशत का आलम है। तनाव के चलते गांव में पुलिस तैनात कर दी गई है। 10 अरोपी जिनमें विकास पुत्र भागीरय, राहुल पुत्र कलुआ, गौरव पुत्र शेरी, रचित पुत्र सुभाष, हेमन्त पुत्र कुम्मन व सन्दीप पुत्र कुम्मन और विपिन पुत्र रामकुमार, अमरीश पुत्र राजू व केके शर्मा पुत्र लखन और भूपेन्द्र पुत्र लाला एवं अन्य अजात लोग के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

आरोपियों को जल्द कर लिया जाएगा गिरफ्तार

एडिशनल डीसीपी विकास पांडे का कहना है कि मामले की सूचना मिलते ही शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर लिया गया है। आरोपियों गिरफ्तारी के लिए दो टीमें गठित की गई हैं, जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

यह भी पढ़ें : कोरोना के प्रति गंभीर नहीं लोग, 68 फीसदी लोगों ने नहीं लगवाया वैक्सीन का दूसरा टीका

Nitish Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned