परमाणु समझौता: बोले ईरानी विदेश मंत्री जावेद, वियना में हुई बैठक रचनात्मक

वियना में अंतर्राष्ट्रीय परमाणु समझौते को लेकर मंत्रिस्तरीय बैठक हुई, जिसके बाद ईरान के विदेश मंत्री ने कहा कि सदस्य देशों के यह बैठक रचनात्मक रही।

By: Shivani Singh

Published: 07 Jul 2018, 10:30 AM IST

हरान। अंतर्राष्ट्रीय परमाणु समझौते पर सदस्यों देशें में मची खींचतान के बीच ईरान के विदेश मंत्री जावेद जरीफ ने कहा कि इसे लेकर सदस्य देशों के साथ मंत्रिस्तरीय बैठक रचनात्मक रही। जावेद जरीफ ने शुक्रवार को कहा कि उनका विश्वास है कि इस समझौते को बनाए रखने में सदस्य देशों की राजनीतिक इच्छा है।

यह भी पढ़ें-नवाज शरीफ ने की घोषणा, मैं जल्द आ रहा हूं पाकिस्तान

वियना में हुई थी मंत्रिस्तरीय बैठक

बता दें कि शुक्रवार को ईरान परमाणु समझौते यानी संयुक्त समग्र कार्ययोजना (जेसीपीओए) को लेकर वियना में मंत्रिस्तरीय बैठक हुई थी। इस बैठक की अध्यक्षता यूरोपीय संघ की उच्च प्रतिनिधि फेडेरिका मोगरिनी ने की थी। बैठक में चीन, फ्रांस, जर्मनी, रूस, ब्रिटेन और रूस के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था।

यूरोपीय देशों ने ईरान को दिया था आर्थिक पैकेज

बैठक में जावेद जरीफ ने कहा कि दो दिन पहले ईरान को यूरोपीय देशों ने आर्थिक पैकेज दिया था, लेकिन राष्ट्रपति हसन रूहानी ने उसे अपर्याप्त बताया था। बता दें कि राष्ट्रपति रूहानी ने गुरुवार को कहा था कि ईयू द्वारा दिए गए पैकेज से 2015 के समझौते को लेकर देश के हित सुरक्षित नहीं होते।

यह भी पढ़ें-अमरनाथ यात्रा: यात्रियों का जत्था रवाना लेकिन भूस्खलन की वजह से बालटाल पर रोका गया

अमरीका ने छोड़ी सदस्यता

गौरतलब है कि परमाणु समझौते से अमरीका ने अपना हाथ खींच लिया है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस करार को गलत बताते हुए इसी साल मई में इसकी सदस्यता छोड़ दी है। अमरीका ने का कहना था कि इस समझौते से आतंकवाद को बढ़ावा मिल रहा है। वहीं, समझौते से बाहर होने की बात कहने पर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों, जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल और ब्रिटेन के विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन ने ट्रंप पर इस समझौते से जुड़े रहने को दबाव बनाया था। लेकिन उन्होंने इसे नहीं माना।

Donald Trump
Show More
Shivani Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned