बिग ब्रेकिंग: शिवपुरी हाइवे पर गैस टैंकर हुआ दुर्घटनाग्रस्त, 17 टन गैस घुली हवा में, लोग घर छोड़कर भागे

बिग ब्रेकिंग:  शिवपुरी हाइवे पर गैस टैंकर हुआ दुर्घटनाग्रस्त, 17 टन गैस घुली हवा में, लोग घर छोड़कर भागे

Gaurav Sen | Publish: Jun, 14 2018 12:38:31 PM (IST) | Updated: Jun, 14 2018 12:40:07 PM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

बिग ब्रेकिंग: शिवपुरी हाइवे पर गैस टैंकर हुआ दुर्घटनाग्रस्त, 17 टन गैस घुली हवा में लोग घर छोड़कर भागे

शिवपुरी। भारत पेट्रोलियम का एक कैप्सूल टैंकर जिसमें गैस भरी हुई थी। शिवपुरी जिले के बदरवास में हाइवे पर दुर्घटना ग्रस्त हो गया। टैंकर का अगला हिस्सा हाइवे पर बने पुल से नीचे जा गिरा व टैंकर पुल पर ही रूक गया। घटना सुबह करीब 2 बजे की है। घटना में घायल हुए टैंकर के ड्राइवर गुना जिला अस्पताल भेजा गया है।

शिवपुरी जिले के बदरवास थाना के अंतर्गत आने वाले ग्राम बूढ़़ाडोंगर से निकले हाइवे के ओवरब्रिज से गैस से भरा हुआ भारत पैट्रोलियम का कैप्सूल टैंकर का अगला हिस्सा नीचे जा गिरा है। जिस कारण क्षेत्र में भगदड़ मच गई। गांव के लोगों को जैसे ही घटना की जानकारी लगी तो वह अपने घरों को छोड़कर भाग निकले। लोगों को लगा कहीं टैंकर में आग लग गई तो जान जोखिम में पड़ जाएगी।

घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर गेल कंपनी के अधिकारी पहुंच गए हैं। टैंकर से गैस के रिसाव को रोकने के लिए फायर ब्रिगेड की गाड़ी से पानी की बौछार कराई गई है। वहीं गेल कंपनी के अधिकारियों ने आसपास के क्षेत्र को खाली करा दिया है। टैंकर गुना शहर के श्रीसाईं कारपोरेशन से भरकर जा रहा था। घटना स्थल पर गुना स्थित गेल कंपनी के सहायक अधिकारी एल के प्रसाद,कदम सिंह मीना फायर प्रभारी, सुनील ठाकुर इंजीनियर, प्रधान धाकड़, अर्जुन किरण,पवन लोधा फायर मेन आदि मौजूद हैं।

नींद का झोंका बन जाता मुसीबत: घायल टैंकर ड्राइवर ने बताया की मेरी अचनाक से नींद लग गई थी, तभी ये हादसा हो गया है।

गनीमत रही टैंकर नहीं गिरा
गनीमत रही थी इस हादसे में कैप्सूल टैंकर पुल से नीचे नहीं गिरा यदि ऐसा होता तो हादसा बहुत बड़ा हो जाता, टैंकर की गैस के कारण आग भी लग सकती थी साथ ही लोगों को सांस लेने में भी परेशानी का सामना करना पड़ता। हालांकी अभी स्थिती अधिकारियों के अंडर में है। टैंकर को ठण्डा रखने के लिए लगातार पानी की बौझार की जा रही है। गेल कंपनी के इंजीनियर सुनील ठाकुर के मुताबिक घटना करीब रात 2 बजे की है। रात से सुवह तक टेंक की 17 टन गैस का रिसाव हो चुका था। घटना स्थल से करीब आधा किमी दूर ग्राम बूड़ाडोंगर हैं, जहां रहने वाले ग्रामीणों को जब पता चला कि उक्त दुर्घटनाग्रस्त टैंकर सिलेंडर में भरी जाने वाली गैस है, तो दुर्घटना की आशंका से डर गये और कई ग्रामीण घरों से निकलकर खेतों में चले गए। इस बात की पुष्टि गांव में रहने वाले जिला पंचायत सदस्य पप्पू आदिवासी ने की है।

gas cylinder tanker

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned