मच्छरों से निपटने में नगर निगम नाकाम, फिर डेंगू-मलेरिया फैलने की आशंका

मच्छरों से निपटने में नगर निगम नाकाम, फिर डेंगू-मलेरिया फैलने की आशंका

Rahul Aditya Rai | Updated: 14 Jul 2019, 07:24:21 AM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

हाईकोर्ट द्वारा डेंगू और मलेरिया के मामले में दो दिन पहले नाराजगी जताने और फॉगिंग के लिए पर्याप्त मशीनों की व्यवस्था करने के निर्देश दिए जाने के बाद भी नगर निगम द्वारा अब तक खराब पड़ीं 11 मशीनों को ठीक नहीं करवाया है, न ही फॉगिंग के लिए कोई एक्शन प्लान तैयार किया गया है। इससे पिछले साल की तरह शहर में फिर मलेरिया और डेंगू फैलने का अंदेशा पैदा हो गया है।

ग्वालियर। बारिश का मौसम शुरू होते ही मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया है, लेकिन नगर निगम के पास इनसे निपटने के लिए पर्याप्त साधन नहीं हैं। शहर में वार्ड 66 हैं, लेकिन निगम के पास चालू हालत में फॉगिंग मशीन सिर्फ 14 हैं। इस कारण एक वार्ड में एक या दो दिन छोडकऱ कुछ क्षेत्र में फॉगिंग हो पाती है। इससे मच्छर नहीं मर पा रहे हैं। हाईकोर्ट द्वारा डेंगू और मलेरिया के मामले में दो दिन पहले नाराजगी जताने और फॉगिंग के लिए पर्याप्त मशीनों की व्यवस्था करने के निर्देश दिए जाने के बाद भी नगर निगम द्वारा अब तक खराब पड़ीं 11 मशीनों को ठीक नहीं करवाया है, न ही फॉगिंग के लिए कोई एक्शन प्लान तैयार किया गया है। इससे पिछले साल की तरह शहर में फिर मलेरिया और डेंगू फैलने का अंदेशा पैदा हो गया है।

 

संवेदनशील क्षेत्रों में भी नहीं हो रही फॉगिंग
पिछले साल शहर के कई क्षेत्रों में मलेरिया और डेंगू फैलने से सैकड़ों लोग बीमार हुए थे और कई की जान चली गई थी। इनमें सबसे संवेदनशील क्षेत्र डीडी नगर था, जहां 100 से अधिक डेंगू के केस मिले थे। इसके बावजूद अभी तक नगर निगम ने इस क्षेत्र में फॉगिंग की सही ढंग से शुरुआत नहीं की है। बीच-बीच में कहीं भी फॉगिंग शुरू कर देते हैं, जिसके कारण मच्छर मरते नहीं हैं। अभी नगर निगम द्वारा जो फॉगिंग की जा रही है, उसके अनुसार एक मशीन एक वार्ड में एक दिन जाती है, अगले दिन मशीन उसी वार्ड में जाने के बजाए दूसरी जगह जाती है। जिस जगह फॉगिंग की गई, उस जगह जब तक फिर से मशीन पहुंचती है, तब तक वहां फिर से मच्छर पहुंच जाते हैं। अगर नगर निगम द्वारा पूरे वार्ड में एक ही दिन फॉगिंग और दवा का छिडक़ाव किया जाए तो काफी हद तक मच्छरों पर छुटकारा मिल सकता है।

 

कहां कितनी मशीन
शहर में 66 वार्ड हैं, लेकिन सिर्फ 14 मशीनें काम कर रही हैं। इनमें ग्वालियर पूर्व विधानसभा में 5, ग्वालियर विधानसभा में 5, दक्षिण में 4 मशीन हैं। इसके अलावा 11 मशीनें खराब पड़ी हैं। इन्हें निगम ने अभी तक सुधरवाया नहीं है।

 


फॉगिंग कहां होती है पता नहीं
हमारे यहां पिछले साल भी मच्छरों का प्रकोप रहा था। नगर निगम ने अभी तक एक बार भी फॉगिंग नहीं कराई है। फॉगिंग कहां होती है, पता ही नहीं चलता है।
बीएम त्रिपाठी, डीडी नगर

 

-ध्यान नहीं दिया तो समस्या बढ़ जाएगी
आसपास पानी भरने के कारण मच्छरों की संख्या बहुत अधिक हो गई है। अगर अभी फॉगिंग नहीं कराई गई तो समस्या और बढ़ जाएगी। निगम अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।
विमल सिंह, डीडी नगर

 

पिछले साल बच्ची की मौत हो गई थी
हमारे यहां मच्छर बहुत पनप रहे हैं। गत वर्ष डेंगू से एक बच्ची की मौत भी हो गई थी, इसके बावजूद अधिकारियों ने यहां ध्यान नहीं दिया। अगर सही ढंग से फॉगिंग करें तो डेंगू और मलेरिया न फैले।
हिम्मत सिंह, सिकंदर कंपू

 

सर्वे कराया है
डीडी नगर, पिंटोपार्क, शताब्दीपुरम, थाटीपुर, मेहरा कॉलोनी, समाधिया कॉलोनी, केवी-1 के आसपास कई क्षेत्रों में लार्वा पाया गया था, इसके लिए इस बार विशेष इंतजाम किए गए हैं। इसके अलावा शहर में जहां पानी जमा है जैसे बावड़ी, कुएं और तालाब वहां पर गंबूशिया मछली को डाल दिया गया है।
मनोज पाटीदार, जिला मलेरिया अधिकारी


यहां करें शिकायत
नगर निगम ने अलग-अलग विधानसभा में फॉगिंग की जिम्मेदारी सहायक स्वास्थ्य अधिकारी को दी है। अगर फॉगिंग को लेकर कोई शिकायत है तो इन अधिकारियों को सूचना दे सकते हैं।
ग्वालियर पूर्व: किशोर चौहान: 9406915723
ग्वालियर: गौरव सेन: 9644405755
ग्वालियर दक्षिण: 9406915781
स्वास्थ्य अधिकारी: आनंद कुमार: 7999694616

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned