वो नेता जिसकी हर जिद पूरी करते थे अटल बिहारी वाजपेयी, धन्यवाद की जगह सुनने को मिलती थीं कड़वी बातें

  • आठ साल की उम्र से अटल बिहारी वाजपेयी इस नेता को जाने थे।
  • उमा भारती अटल बिहारी को अक्सर कड़वी बातें कहती थीं।

ग्वालियर. भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पहली पुण्य तिथि 16 अगस्त को थी। इस मौके पर मध्य प्रदेश की पूर्व सीएम उमा भारती ने ग्वालियर में उन्हें याद करते हुए कहा कि मैं अटलजी से माफी मांगना चाहती थी पर मैं उनसे माफी नहीं मांग पाई। उमा भारती ने कहा- मुझे इसी बात का दुख है कि मुझे उनसे माफी मांगनी थी पर मैं नहीं पाई पाई।

 

मैं अटल जी से करती थी जिद
उमा भारती, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि कार्यक्रम में शामिल होने ग्वालियर शुक्रवार को पहुंची थीं। उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए कहा- अटलजी मेरे पिता के समान थे। मैं उनको बहुत परेशान करती थी। 8 साल की उम्र से बहुत परेशान करती थी। उनसे बहुत जिद करती थी, वो मेरी हर ज़िद पूरी भी कर देते थे। फिर भी मैं उन्हें धन्यवाद नहीं कहती थी। लेकिन दुःख इस बात का है कि मैं उनसे माफ़ी नहीं मांग पायी। उमा भारती ने कहा आज अटल जी होते तो धारा 370 हटने पर वो सबसे ज्यादा खुश होते।

 

किस बात की माफी मांगनी चाहती हैं उमा भारती
उमा भारती को अटल बिहारी वाजपेयी के निधन की खबर मिली थी वो भावुक हो गईं थी। उस दौरान उन्होंने बताया था कि मैं अक्सर अटल जी को ऐसी बातें बोल देती थी जो उनकी चुभती रही होंगी, लेकिन मैंने कभी उनसे माफी नहीं मांगी क्योंकि वो मेरे पिता समान थे। मैंने हमेशा उनसे कोई ऐसी बात कह दी जो उन्हें चुभती होगी। मैंने उनको कभी सॉरी नहीं कहा, जिसका मुझे बहुत दुःख रहेगा।

 

uma


हजारों साल तक याद रहेंगे अटल बिहारी
उमा भारती ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा- 16 अगस्त को अटल बिहरी वाजपेयी जी की पहली पुण्यतिथि जरूर है लेकिन वे हजारों साल तक याद रखे जाऐंगे, क्योंकि अटलजी पहले नेता हैं जिन्होंने देश में गैर कांग्रेसी सरकार बनाई। देश के प्रधानमंत्री के रूप में तीन बार शपथ ली है। उन्होंने राजनैतिक आदर्शों के नए कीर्तिमान स्थापित किए।

 

2018 में हुआ था अटल बिहारी वाजपेयी का निधन
पूर्व प्रधआनमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का लंबी बीमारी के बाद 16, अगस्त 2018 को निधन हो गया था। अटल बिहारी वाजपेयी को भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

Pawan Tiwari
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned