नौ जरूरतमंद कन्याओं को सवा तीन लाख की मदद

हनुमानगढ़. लॉकडाउन से निरंतर सामाजिक सरोकारों के तहत जरूरतमंदों की मदद के लिए सक्रिय भटनेर किंग्स क्लब अब बेटियों को सवा तीन लाख रुपए का आर्थिक सहयोग करेगा।

By: adrish khan

Published: 16 Apr 2021, 10:14 AM IST

नौ जरूरतमंद कन्याओं को सवा तीन लाख की मदद
- नवरात्र में जरूरतमंद परिवारों की नौ कन्याओं को भटनेर किंग्स क्लब देगा आर्थिक सहयोग
- सामाजिक सरोकार के तहत प्रत्येक बालिका को करीब 35 हजार की सहायता
हनुमानगढ़. लॉकडाउन से निरंतर सामाजिक सरोकारों के तहत जरूरतमंदों की मदद के लिए सक्रिय भटनेर किंग्स क्लब अब बेटियों को सवा तीन लाख रुपए का आर्थिक सहयोग करेगा। नवरात्र में जरूरतमंद और आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों की नौ कन्याओं को क्लब की ओर से यह राशि मुहैया कराई जाएगी। इसमें भटनेर किंग्स क्लब के नौ सदस्य अपना आर्थिक सहयोग देंगे। खास बात यह कि उक्त राशि क्लब सदस्य किस्तों के रूप में बालिकाओं के नाम डाक घर के बचत खातों में जमा कराएंगे।
फिर पांच वर्ष बाद यह राशि बालिकाओं को एक साथ मिलेगी। प्रत्येक बालिका को करीब 35 हजार रुपए मिलेंगे। जाहिर है कि यह राशि जरूरतमंद परिवार को एक साथ मिलने पर उनको बहुत सम्बल प्रदान करेगी। नवरात्र में आर्थिक रूप से कमजोर नौ कन्याओं की मदद का यह प्रयास जल्द शुरू होगा। इसको लेकर भटनेर किंग्स क्लब अध्यक्ष कुलभूषण जिंदल तथा संरक्षक आशीष विजय की अध्यक्षता में बैठक हुई। इसमें बालिकाओं की सहायता के लिए क्लब के नौ सदस्यों का चयन किया गया।


यूं होगी कन्याओं की सहायता
भटनेर किंग्स क्लब की ओर से जरूरतमंद परिवारों की नौ कन्याओं का चयन कर उनके नाम से डाक घर में मासिक बचत खाता खुलाया जाएगा। एक खाते की जिम्मेदारी क्लब का एक सदस्य उठाएगा। प्रत्येक खाते में मासिक 500 रुपए जमा कराए जाएंगे। पांच वर्ष बाद प्रत्येक बालिका को 35 हजार रुपए मिल जाएंगे।


ताकि मिले सम्बल
जरूरतमंदों की मदद के लिए क्लब अपनी सीमाओं में निरंतर प्रयास करता रहता है। आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों की कन्याओं को आर्थिक सम्बल देकर उनको शिक्षा के लिए प्रेरित करना ही इस प्रयास का उद्देश्य है।
- आशीष विजय, संरक्षक भटनेर किंग्स क्लब।

adrish khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned