मिलावटखोरों की जानकारी देने पर सरकार देगी 51 हजार रुपए का पुरस्कार

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने दूध या दूध से बनी चीजों, मसालों इत्यादि को लेकर मिलावटखोरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

 

By: Purushottam Jha

Updated: 24 Oct 2020, 08:34 AM IST

मिलावटखोरों की जानकारी देने पर सरकार देगी 51 हजार रुपए का पुरस्कार
-जिले में 26 अक्टूबर से 14 नवंबर तक चलेगा शुद्ध के लिए युद्ध अभियान
हनुमानगढ़. जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने दूध या दूध से बनी चीजों, मसालों इत्यादि को लेकर मिलावटखोरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। जिला कलक्टर ने मुख्य सचिव की शुद्ध को लेकर युद्ध अभियान को लेकर ली गई वीसी के बाद संबंधित विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर निर्देश दिए कि मिलावटखोरी को लेकर जहां कहीं से भी शिकायत आए तुरंत कार्रवाई करें। साथ ही विभाग के अधिकारियों को भी कहा कि दूध व दूध से बनी चीजों, मसालों इत्यादि का औचक निरीक्षण करें। जिला कलक्टर ने बताया कि मिलावट खोरों के बारे में जानकारी देने पर सरकार जानकारी देने वालों को 51 हजार रुपए का पुरस्कार भी देगी। लेकिन इसको लेकर विस्तृत गाइडलाइन सरकार के स्तर से आनी है। लेकिन इस बीच मिलावटखोंरों के खिलाफ कार्रवाई में कोई कमी नहीं रखनी है। इससे पहले शुक्रवार को मुख्य सचिव श्री राजीव स्वरूप ने सभी जिला कलक्टरों को 26 अक्टूबर से प्रदेशभर में प्रारंभ होने वाले शुद्ध के लिए युद्ध अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए कोर ग्रुप का गठन कर मौके पर खाद्य पदार्थों के नमूने लेकर परीक्षण पश्चात मिलावट पाये जाने पर त्वरित ठोस कार्रवाई करने के निर्देश दिएहैं। मुख्य सचिव शुक्रवार को शासन सचिवालय से विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों एवं जिला कलक्टरों को वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने जन जागरूकता के साथ-साथ शुद्ध के लिए युद्ध अभियान को प्राथमिकता में रखा है। त्योहार एवं शादियों के समय में खाद्य पदार्थों में मिलावट का भय बढ़ जाता है। उन्होंने बताया यह अभियान 26 अक्टूबर 2020 से 14 नवंबर 2020 तक चलेगा। इस अभियान के प्रभावी संचालन प्रबंधन एवं क्रियान्वयन के लिए एक कोर गु्रप का गठन किया गया है जिसमें गृह, खाद्य नागरिक आपूर्ति, पशुपालन, डेयरी और चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग शामिल होगा। दूध व दूध से निर्मित खाद्य पदार्थ, तेल, मसाले, आटा, बेसन, सूखा मेवा आदि की इस अभियान के तहत जांच की जाएगी। और इससे संबंधित परिपत्र सभी जिला कलक्टरों को भिजवाया जा चुका है। जिला प्रबंधन समितियों एवं जिला कलक्टर को खाद्य पदार्थों में मिलावट करने वाले थोक और खुदरा व्यापारियों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही मौके पर ही करने के निर्देश दिए।
सर्वे करने का निर्देश
मुख्य सचिव ने कलक्टरों को निर्देश दिए कि वे अभियान पूर्व ही प्री-सर्वे करें जिससे अभियान शुरू होते ही प्रभावी कार्यवाही की जा सके। बैठक के दौरान जिला कलक्टरों द्वारों कोरोना मैनेजमेंट की सराहना करते हुए कहा कि सभी के लगातार प्रयासों से राजस्थान को कोरोना महामारी में बेस्ट मैनेज्ड स्टेट का दर्जा मिला है। इसलिए अब हम सबको मिलकर इस ओर आगे की लड़ाई लड़कर इस घातक कोरोना वायरस को हराना है।

Purushottam Jha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned