Health News : ये काम करेंगे तो नहीं खानी पड़ेगी डायबिटीज की गोलियां

Health News : ये काम करेंगे तो नहीं खानी पड़ेगी डायबिटीज की गोलियां

Ramesh Kumar Singh | Publish: Aug, 15 2019 08:04:14 PM (IST) स्वास्थ्य

डायबिटीज की समस्या से बचना चाहते हैं तो इसके लिए खानपान और फिटनेस का ध्यान रखना जरूरी है। प्री- डायबिटीज डायबिटीज की शुरूवाती अवस्था है जिसमें ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ती तो है लेकिन लक्षण नहीं दिखाई देते। इसे समय रहते नियंत्रित नहीं किया गया तो समस्या बढ़ जाती है।

किसी स्वस्थ व्यक्ति का Blood Shugar खाली पेट 100 से 126 है और खाना खाने के बाद 140 से 200 हो गया है तो वो Pre-Diabetes की श्रेणी में आता है। ब्लड शुगर लेवल इससे अधिक है तो वो व्यक्ति डायबीटीज का रोगी बन चुका है।

इनको Diabetes का खतरा सबसे ज्यादा

प्री-डायबिटीज मुख्य रूप से मोटे लोग, गर्भवती, सिगरेट व शराब का प्रयोग करने वालों के साथ ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन के मरीजों को होने का खतरा अधिक रहता है। जिनके परिवार में ये बीमारी आनुवांशिक है वो प्री-डायबिटीज के शिकार जल्दी होते हैं। खास बात ये है कि प्री-डायबिटीज का रोगी होने पर कोई खास लक्षण नहीं दिखता है। ऐेसे में ब्लड शुगर की नियमित जांच बहुत जरूरी है जिससे इसे समय रहते पहचाना जा सके। 100 लोग प्री- डायबिटीज के मरीज हैं तो उसमें से दस लोग डायबिटीज के मरीज बन जाते हैं। पूरी दुनिया में चीन के बाद भारत दूसरा देश हैं जहां करीब आठ से नौ करोड़ की आबादी मधुमेह रोगी है।

बचने का एकमात्र तरीका
प्री-डायबिटीज से बचने का एकमात्र तरीका है जीवनशैली में बदलाव के साथ खानपान पर नियंत्रण। व्यक्ति को प्रो एक्टिव होना पड़ेगा। रोजाना कम से कम 30 मिनट एक्सरसाइज करने के साथ प्रोटीनयुक्त खाद्य पदार्थ जिसमें सब्जी, सलाद, दाल और हरी पत्तेदार सब्जियां ज्यादा खानी चाहिए। जिन खाद्य पदार्थो में कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा अधिक होती है उनको खाने से बचना चाहिए।

काली मिर्च, हल्दी, दालचीनी का प्रयोग
प्री- डायबिटीज एक ऐसी अवस्था है जिसका समुचित इलाज खुद मरीज के पास होता है। दिनचर्या के साथ खानपान पर विशेष ध्यान देने के साथ खाने में काली मिर्च, हल्दी, दालचीनी और तेज पत्ते का प्रयोग अधिक किया जाए तो फायदा मिलेगा। प्री- डायबिटीज श्रेणी में आने पर मीठा खाने का दिल हो तो गुड़ और शहद औषधि की तरह ले सकते हैं। लौकी, करेला, ककोरा और कड़वे रस वाली सब्जियां खाई जाएं तो फायदा मिलेगा।

सुबह की सैर फायदेमंद
व्यक्ति प्री- डायबिटीज श्रेणी में क्यों आया इसकी जांच के बाद उसको दवा दी जाती है। इस स्थिति में व्यायाम के साथ योगा और सुबह की सैर फायदेमंद होगी। प्री- डायबिटीज में तीन से छह महीने तक दवाएं चलती हैं और रोगी को आराम मिल जाता है। खाना एक साथ खाने की बजाए चार से पांच बार में कुछ अंतराल पर खाएं। मधुमेह रोगी होम्योपैथी की मीठी गोली को 50 एमएल पानी में घोल लें और फिर उसका दो चम्मच पी लें, पूरा असर होगा।

एक्सपर्ट : डॉ. राजीव कासलीवाल डायबिटीज एक्सपर्ट
एक्सपर्ट : डॉ. सुमित नत्थानी, आयुर्वेद विशेषज्ञ

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned