मोटापे से बचाव: जितना खा रहे हैं, उतना खर्च करना सीखें

National Nutrition Week 2021: राष्ट्रीय पोषण सप्ताह

By: Deovrat Singh

Published: 05 Sep 2021, 06:22 PM IST

National Nutrition Week 2021 शरीर में अनावश्यक रूप से वसा का संचय होने को अधिक वजन या मोटापे के रूप में परिभाषित किया जाता है। यह अवस्था स्वास्थ्य के लिए बहुत नुकसानदायक है। आमतौर पर यह समस्या तब होती है, जब हम एक्सरसाइज और दैनिक क्रियाओं में खर्च होने वाली कैलोरी से अधिक कैलोरी लेते हैं। पिछले कई वर्षों से भारत में अधिक वजन और मोटापे की समस्या तेजी से बढ़ी है। मोटापा कुपोषण का भी एक कारण है। इस समस्या को दूर करने के लिए खानपान और जीवनशैली में बदलाव करना जरूरी है।

मोटापे के दुष्प्रभाव

स्वस्थ वजन वाले लोगों की तुलना में, मोटे लोगों को इन स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है-

  • उच्च रक्तचाप
  • उच्च एलडीएल कोलेस्ट्रॉल, कम एचडीएल कोलेस्ट्रॉल या हाई रेट ट्राइग्लिसराइड्स
  • टाइप-2 डायबिटीज
  • हृदय और धमनी रोग
  • आघात
  • पित्ताशय के रोग
  • स्लीप एप्निया और सांस लेने में तकलीफ

एक्सपर्ट
"आप पोषण आधारित खेलों के माध्यम से बच्चों को पोषण के बारे में सीखने में मदद कर सकते हैं। मेरे अनुभव में, बच्चों के साथ जुड़ाव तब बेहतर होता है जब आप उन्हें खेल के माध्यम से सिखाते हैं और अनौपचारिक तरीके से बातचीत करते हैं। आप उन्हें इस विषय पर फिल्में या वीडियो देखने के लिए प्रोत्साहित भी कर सकते हैं।"
डॉ. एराम राव, वाइस प्रिंसिपल, भास्कराचार्य कॉलेज ऑफ एप्लाइड साइंसेज, दिल्ली विश्वविद्यालय

“अब तक हम पोषण की स्थिति को केवल आप जो खा रहे हैं उसके परिणाम के रूप में देख रहे हैं। हालाँकि, हम जानते हैं कि यह आपकी शारीरिक गतिविधि के स्तर, आपकी जीवनशैली और आपकी रुग्णता पर भी निर्भर करता है… हमें इन पहलुओं से भी निपटना होगा।.”
डॉ. पुलकित माथुर, एसोसिएट प्रोफेसर और प्रमुख, खाद्य और पोषण विभाग, लेडी इरविन कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय

expert.png

जीवनशैली में लाएं बदलाव
फूड सेफ्टी एंड स्टैंडड्र्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआइ) 'आज से थोड़ा काम' अभियान के माध्यम से लोगों को स्वस्थ जीवनशैली के प्रति प्रोत्साहित कर रहा है। इस तरह लाएं बदलाव -
बच्चों को अत्यधिक चॉकलेट और कैंडी खाने से मना करें, यह आगे चलकर उनमें मोटापे एवं अन्य बीमारियों की आशंका बढ़ाता है।
रिफाइंड शुगर की जगह ्र्रनेचुरल शुगर लें, जैसे मिठाई में मीठे के लिए फलों को मिलाएं।
फलों का जूस पीने के बजाय ताजा फल खाएं। इससे फाइबर मिलने के साथ ही पेट भरेगा और कैलोरी भी कम मिलेगी।
हाई शुगर फूड्स जैसे केक, पेस्ट्री, कन्फेक्शनरी, मिठाइयां आदि सीमित मात्रा में ही खाएं। शुगर की जरूरत कम करने के लिए व्यंजन में दालचीनी और जायफल का प्रयोग करें।


सवाल जवाब
सवाल:- अधिक वजन या मोटापे से बचने के कुछ तरीके क्या हैं?
जवाब :- विश्व स्वास्थ्य संगठन अधिक वजन या मोटापे को रोकने के लिए निम्नलिखित कार्यों की सिफारिश करता है:
• कुल वसा से ऊर्जा का सेवन सीमित करें
• वसा की खपत को संतृप्त वसा से असंतृप्त वसा में स्थानांतरित करें
• फल और सब्जियों के साथ-साथ फलियां, साबुत अनाज और नट्स का सेवन बढ़ाएं
• चीनी का सेवन सीमित करें
• शारीरिक एक्टिविटी के स्तर को बढ़ावा देना - अधिकांश दिनों में कम से कम 30 मिनट की नियमित, मध्यम-तीव्रता वाली एक्टिविटी करना

सवाल:- क्या आपके लिए सभी वसा खराब हैं?
जवाब:- नहीं, मध्यम मात्रा में वसा और तेल स्वस्थ आहार का हिस्सा हैं। हालांकि, बहुत अधिक संतृप्त वसा और ट्रांस-फैट खाने से बचना चाहिए क्योंकि जो लोग इनका अधिक मात्रा में सेवन करते हैं उनमें हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा अधिक होता है। ट्रांस-वसा अक्सर प्रसंस्कृत और पैकेज्ड खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैं।

इन्हें समझें
डब्ल्यूएचओ के अनुसार वयस्कों में अधिक वजन एवं मोटापा-
ओवरवेट- जब बीएमआइ 25 से अधिक या बराबर हो।
मोटापा- बीएमआइ 30 से अधिक या उसके बराबर हो। (बीएमआइ सटीक परिभाषा नहीं है)

इन बातों का रखें ध्यान
मोटापे को रोकने के लिए आप तीन कदम उठा सकते हैं:
1. आज से थोड़ा काम अभियान द्वारा दिए गए सुझावों के अनुसार अपने आहार में चीनी को कम करने का प्रयास करें
2. सप्ताह के अधिकांश दिनों में 30 मिनट की नियमित, मध्यम-तीव्रता वाली शारीरिक गतिविधि करने की योजना बनाएं। इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ साझा करें और एक दूसरे को अपनी प्रगति पर अपडेट रखें।
3. प्रोसेस्ड और पैकेज्ड फूड से बचें

logo1_1.png
Deovrat Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned