script स्टिफ पर्सन सिंड्रोम से जूझ रही हैं टाइटैनिक की सिंगर सेलीन डियोन, अकड़ जाता है पूरा शरीर | stiff person syndrome | Patrika News

स्टिफ पर्सन सिंड्रोम से जूझ रही हैं टाइटैनिक की सिंगर सेलीन डियोन, अकड़ जाता है पूरा शरीर

locationजयपुरPublished: Nov 18, 2023 11:52:02 am

Submitted by:

Jaya Sharma

टाइटैनिक फिल्म की सिंगर सलीन डियोन पिछले कई महीनों से स्टिफ पर्सन सिंड्रोम से लड़ रही है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक वे इस बीमारी से लड़ते हुए घर से बाहर निकलना चाहती है। डॉक्टर्स और विशेषज्ञों की मदद से वे अब अपनी पुरानी जिन्दगी में लौटना चाहती हैं। आइए जानते हैं क्या है स्टिफ पर्सन सिंड्रोम, कैसे इसमें मुश्किल हो जाता है जीवन जीना।

celine-dion_wikimedia-commons-afa324c0.jpg
कनाडाई गायिका सलीन पिछले 12 महीनों से स्टिफ पर्सन सिंड्रोम से जूझ रही है। यह एक दुर्लभ बीमारी है, जिसमें तेज दर्द और मांसपेशियों में ऐंठन होती है। नई रिपोर्ट के मुताबिक अब सलीन पहले से बेहतर महसूस कर रही है। डियोन ने अब सार्वजनिक उपस्थिति दर्ज करना शुरू कर दिया है। सलीन साढ़े तीन साल में पहली बार पब्लिक में देखी गई।
क्या होता है स्टिफ पर्सन सिंड्रोम?
स्टिफ पर्सन सिंड्रोम फाउंडेशन के अनुसार यह विकार केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है, जिसमें मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी शामिल होती है। यह बीमारी मरीज़ को अक्षम बना सकती है। कभी—कभी रोगी का चलना भी मुश्किल हो जाता है। इस न्यूरोलॉजिकल बीमारी में ऑटोइम्यून संकेत दिखते हैं, जिसमें अधिक अकड़न, दर्द, बेचैनी और ऐंठन शामिल है। कई मामलों में जोड़ भी डिसलोकेट हो जाते हैं।
यह है बड़ी वजह
इस बीमारी को ह्यूमन स्टेच्यू डिजीज भी कहते हैं। इस डिजीज में कई बार ऐंठन अचानक आ जाती है और शरीर जम जाता है। यह अधिकांश तब होता है, जब व्यक्ति के किसी करीबी की मृत्यु हो जाती है।
ये होते हैं लक्षण
विशेषज्ञों के मुताबिक धड़ और पेट की मांसपेशियां आमतौर पर सबसे पहले प्रभावित होती हैं। शुरुआत में, मांसपेशियों में अकड़न आती-जाती रहती है, लेकिन फिर यह अकड़न बरकरार रहने लगती है। समय के साथ पैरों की मांसपेशियां अकड़ जाती हैं, जिसके बाद हाथ और चेहरे की मांसपेशियां भी अकड़ना शुरू हो जाती हैं। इस समय पर ईलाज जरूरी होता है।
डिसक्लेमरः इस लेख में दी गई जानकारी का उद्देश्य केवल रोगों और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के प्रति जागरूकता लाना है। यह किसी क्वालीफाइड मेडिकल ऑपिनियन का विकल्प नहीं है। इसलिए पाठकों को सलाह दी जाती है कि वह कोई भी दवा, उपचार या नुस्खे को अपनी मर्जी से ना आजमाएं बल्कि इस बारे में उस चिकित्सा पैथी से संबंधित एक्सपर्ट या डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें।

ट्रेंडिंग वीडियो