बिना लक्षण के कोरोना मरीज़ों की जान बचा रहा डी-डाइमर टेस्ट

दरअसल भारत में सक्रिय नया स्ट्रेन आरटी-पीसीआर टेस्ट में भी पकड़ में नहीं आ रहा है। इससे रिपोर्ट निगेटिव आने के बावजूद रोगी के फेफड़े वायरस से संक्रमित हो रहे हैं।

By: Mohmad Imran

Published: 20 May 2021, 08:45 PM IST

कोरोना की दूसरी लहर (Second Wave of Corona Virus in India) में संक्रमित रोगियों में लक्षण और परेशानियां भी पहली लहर की तुलना में अलग नजर आ रहे हैं। इन्हीं में से एक लक्षण है खून का थक्का (ब्लड क्लोटिंग) जमना। दरअसल भारत में सक्रिय नया स्ट्रेन (New Indian Covid Strain) आरटी-पीसीआर टेस्ट (RT-PCR Test) में भी पकड़ में नहीं आ रहा है। इससे रिपोर्ट निगेटिव आने के बावजूद रोगी के फेफड़े वायरस (Brutal Lungs Infection) से संक्रमित हो रहे हैं। इसलिए मौजूदा स्थिति को देखते हुए अब डॉक्टर लक्षणों वाले रोगी की रिपोर्ट निगेटिव आने पर ज्याादा प्रभावी डी-डाइमर सीआरपी, इंटरल्यूकिन-6 टेस्ट (D-Dimer, CRP, Interleukin-6) की मदद ले रहे हैं।

बिना लक्षण के कोरोना मरीज़ों के लिए है डी-डाइमर टेस्ट

इसलिए उपयोगी है टेस्ट
यह परीक्षण कोविड संक्रमित रोगी में साइटोकिन ग्लाइकोप्रोटीन की स्थिति का विश्लेषण कर मृत्यु दर कम करने में मदद करते हैं। क्योंकि वायरस अब नाक और गले की बजाय सीधे फेफड़ों को संक्रमित कर रहा है, जो बहुत खतरनाक है, क्योंकि दूसरी लहर में रक्त के थक्के जमने जैसे दुर्लभ लक्षण भी सामने आए हैं। इसका पता लगाने में डी-डाइमर टेस्ट उपयुक्त हैं।

covid-19

क्या है डी-डाइमर
हमारे शरीर का कोई अंग जब क्षतिग्रस्त हो जाता है या कहीं से अन्त:स्राव हो रहा होता है, तो हमारा शरीर कोशिकाओं को आपस में जोड़कर एक नेटवर्क बनाता है ताकि रक्तस्राव को रोक सके। यह नेटवर्क फाइब्रिन नामक प्रोटीन से बनता है। ब्लीडिंग वाली जगह पर कम्पन शुरू हो जाता है जिसकी वजह से खून का थक्का बन जाता है। यह रक्त का थक्का इसी फाइब्रिन के कारण बनता है। जब रक्तस्राव रुक जाता है या शरीर को लगे कि अब थक्के की जरुरत नहीं है तो यह उसे नष्ट करने के लिए फाइब्रिन को तोडऩा शुरू कर देता है। फाइब्रिन के टूटने से जो जैविक उत्पाद बनते हैं उसे एफडीपी (फाइब्रिन डिग्रेडेशन प्रोडक्ट) कहते हैं। डी-डाइमर ऐसा ही एक एफडीपी उत्पाद है।

बिना लक्षण के कोरोना मरीज़ों के लिए है डी-डाइमर टेस्ट

कोरोना में इसलिए जरूरी
डी-डाइमर टेस्ट से शरीर में थक्कों की मौजूदगी किन-किन अंगों में है, इसका पता चलता है। जब संक्रमण गंभीर हो जाता है, तब खासतौर पर फेफड़ों में बहुत सारे थक्के बन जाते हैं, जिसकी वजह से फेफड़े अपनी पूरी क्षमता से काम नहीं कर पाते। थक्का जमने से शरीर में रक्त प्रवाह बाधित होता है। शरीर इन थक्कों को तोड़ने की कोशिश करता है। डी-डाइमर बनने के आठ घंटे बाद तक पता लगाया जा सकता है।

बिना लक्षण के कोरोना मरीज़ों के लिए है डी-डाइमर टेस्ट

डी-डाइमर के उच्च या निम्न स्तर का क्या अर्थ है
शरीर में डी-डाइमर का उच्च स्तर दर्शाता है कि शरीर में बहुत अधिक थक्के मौजूद हैं, जो कोरोना संक्रमण से गंभीर रूप से प्रभावित होने का एक खतरनाक संकेत हो सकता है। इसलिए कोरोना संक्रमण की गंभीरता का आकलन करने के लिए डी-डाइमर का उपयोग किया जाता है। इससे यह भी पता चल सकता है कि रोगी को भविष्य में ऑक्सीजन की आवश्यकता होगी या नहीं। क्योंकि रोगी का डी-डाइमर जितना अधिक होगा, फेफड़ों में थक्कों की संख्या भी होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी।

बिना लक्षण के कोरोना मरीज़ों के लिए है डी-डाइमर टेस्ट
Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned