CORONA VACCINATION : कोरोना संक्रमित मरीज वैक्सीन की दूसरी डोज लगवा सकता है?

महामारी से निपटने के लिए देश का सबसे बड़ा कोरोना रोधी टीकाकरण अभियान शुरू है। सबसे पहले कोरोना वॉरियर यानी फ्रंटलाइन कार्यकर्ता और पैरामेडिकल स्टाफ, सिविल सेवक, पुलिस, सेना को कोरोना कवच यानी कोविशील्ड व स्वदेशी कोवैक्सीन लग रही है। वैक्सीन व वैक्सीनेशन को लेकर आम आदमी के मन में कई सवाल उठ रहे हैं। इससे जुड़े हर सवाल का जवाब दे रहे हैं।

By: Ramesh Singh

Published: 17 Jan 2021, 10:47 PM IST

वैक्सीन : जरूरत, सुरक्षा व प्रभाव

सवाल : क्या कोरोना वैक्सीन सभी को लगवाने की जरूरत है?
कोरोना वायरस वैक्सीन स्वैच्छिक है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीन की दोनों खुराक लेनी जरूरी है।

सवाल : यह वैक्सीन बहुत कम समय में बनी है, कितनी सुरक्षित है?
मंजूरी से पहले वैक्सीन के नैदानिक परीक्षणों (क्लिनिकल ट्रायल) से सुरक्षा और प्रभावकारिता डाटा की जांच की जाती है। वैक्सीन के सुरक्षित व प्रभाव की समीक्षा के बाद प्रयोग की मंजूरी दी जाती है।

सवाल : रिकवर हुए लोगों को भी वैक्सीन जरूरी है?
वैक्सीन शरीर में एक मजबूत प्रतिरोधी तंत्र को विकसित करने में मदद करेगी। इसलिए लगवानी जरूरी है।
वैक्सीन : रजिस्ट्रेशन
सवाल : वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन जरूरी है?
कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। आवेदन के परीक्षण के बाद ही चरण, तारीख, समय व बूथ की जानकारी दी जाएगी।

सवाल : रजिस्ट्रेशन के लिए कौन से दस्तावेज लगेंगे?
रजिस्ट्रेशन के लिए आधार कार्ड, मतदाता कार्ड, पैन कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पेंशन दस्तावेज में से कोई एक जरूरी है। इसके अलावा स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, मनरेगा कार्ड, बैंक या पोस्ट ऑफिस की पासबुक व आइडी कार्ड का प्रयोग भी कर सकते हैं।

सवाल : क्या फोटो आइडी अनिवार्य है?
रजिस्ट्रेशन के बाद सत्यापन के लिए फोटो पहचान पत्र जरूरी है। ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सही व्यक्ति को ही वैक्सीन लगी है।
सवाल : वैक्सीन लगने के बाद क्या करना होगा?
वैक्सीन लगने के बाद व्यक्ति के मोबाइल पर एसएमएस आएगा। दूसरी डोज लगने के बाद क्यूआर कोड आधारित प्रमाण पत्र मोबाइल पर आएगा। जिसे स्केन कर वैक्सीनेशन की जानकारी आ जाएगी।
वैक्सीन लगने के बाद...

सवाल : वैक्सीन लगने के बाद किन बातों का ध्यान रखना होगा?
वैक्सीन लगने के बाद 30 मिनट तक वहीं आराम करना होगा। यदि बाद में बेचैनी या दिक्कत होती है तो स्वास्थ्य अधिकारी, एएनएम या आशा को सूचना दें। मास्क पहनना, हाथ की सफाई और शारीरिक दूरी जैसे नियमों का पालन अनिवार्य रहेगा।

सवाल : वैक्सीन लगने के बाद कोई साइड इफेक्ट दिखता है?
वैक्सीन लगने के बाद हल्का बुखार, शरीर दर्द, सिरदर्द का मतलब शरीर पर टीके का असर हो रहा है। इसको लेकर घबराने की जरूरत नहीं है। यह अन्य वैक्सीन के साथ भी होता है। यदि समस्या ज्यादा हो तो तुरंत स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र पर संपर्क करना होगा।

सवाल : वैक्सीन के कितने बाद एंटीबॉडी विकसित होंगी?
वैक्सीन की दूसरी खुराक लेने के दो सप्ताह बाद एंटीबॉडी का सुरक्षात्मक स्तर विकसित होता है।
सवाल : क्या हैल्थकेयर व फ्रंटलाइन वर्कर के परिवार को भी वैक्सीन लगेगी?
प्रारंभिक चरण में वैक्सीन प्राथमिकता की श्रेणी वाले लोगों को लगेगी। बाद में वैक्सीन सभी को उपलब्ध कराई जाएगी।
वैक्सीन की दूसरी डोज....

सवाल : दूसरा टीका कब लगाया जा सकता है?
कोविड-19 व दूसरी वैक्सीन 14-21 दिनों के अंतराल पर ही लगवा सकते हैं।

सवाल : वैक्सीन की पहली खुराक के बाद कोई संक्रमित होता है तो क्या करे?
वैक्सीन की एक डोज लगने के बाद एंटीबॉडी विकसित होने में 14 दिन से अधिक का समय लगता है। इसलिए संक्रमित होना गंभीर नहीं है। वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन के दौरान मिले हैल्पलाइन नंबर पर बात कर सकते हैं।

सवाल : क्या वैक्सीन की दूसरी डोज में अन्य कंपनी की लगवा सकते हैं?
नहीं, दूसरी खुराक के लिए आप दूसरी कंपनी की वैक्सीन नहीं लगवा सकते हैं। आपको यदि कोवैक्सीन लगी है तो 14 दिन बाद दूसरी डोज में भी वही वैक्सीन लगवानी होगी।

सवाल : संक्रमित मरीज वैक्सीन लगवा सकता है?
नहीं, संक्रमित मरीज रिकवर होने के 14 दिन के बाद ही वैक्सीन लगवा सकता है।

Ramesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned