अंकज्योतिष 31 दिसंबर 2018: आज अंक 07 वाले जातक पारिवारिक मामलों में सोच-समझ कर निर्णय लें

अंकज्योतिष के अनुसार जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन

By: Tanvi

Published: 30 Dec 2018, 02:00 PM IST

ज्योतिषाचार्य गुलशन अग्रवाल

अंक 01- नौकर चाकर के साथ वक्त की नजाकत को देखते हुए दोस्ताना व्यवहार रखने की जरूरत पर बल देना होगा। परिश्रम के कामों में बुद्धिबल के इस्तमाल की आवश्यकता पड़ेगी।
अनुकूलता के लिए- बढ़चढ़ कर वार्तालाप करने से बचें।

अंक 02- जातबिरादरी में किसी से भी स्पष्ट बोलने से बचें। वरिष्ठों से मेलजोल रखना भविष्य के लिए लाभदायी साबित होगा। दांपत्य में वैचारिक साम्य का अभाव अनबन को जन्म देगा।
अनुकूलता के लिए- हनुमानजी को दुध से बने व्यंजन का भोग लगाएं।

अंक 03- पैतृक संपत्ति के काम में व्यवहारिक दिक्कत आ सकती है। भौतिक जीवनशैली का कार्यक्षमता पर व्यापक असर रहेगा। जनकल्याण के कार्यों से दिल से आत्मसंतुष्टि रहेगी।
अनुकूलता के लिए- पीले रंग का कोई भी एक वस्त्र धारण करें।

अंक 04- भूमि-भवन के कामकाज को स्थायित्व देने के लिए कुछ समय इंतजार करना होगा। मेहनत के कामों में मन की उदासीनता के कारण जोहर दिखाने का प्रयास न करें।
अनुकूलता के लिए- गोपालसहस्त्रनाम का विधिवत पाठ करें।

अंक 05- धर्मपथ पर चलने के लिए अतिरिक्त प्रयत्न की आवश्यकता रहेगी। रिश्तेदारी में संवाद होने से बिगड़े रिश्तों में सुधार आएगा। दिन की शुरूआत अतिरिक्त खर्च के साथ होगी।
अनुकूलता के लिए- अत्यधिक क्रोध से बचकर रहें।

अंक 06- मन में जोश व उत्साह का माहौल होने से तकरीबन कार्यों को समय से पुरा करने में सफल रहेंगे। संतानपक्ष के साथ संबंधों में समय के बदलाव को समझने की जरूरत है।
अनुकूलता के लिए- हनुमानजी के पैरों में थोड़ा सा सिंदुर लगाएं।

अंक 07- यात्रा पर जाने से पहले भौतिक संसाधनों के बखुबी इस्तमाल पर जोर देना होगा। पारिवारिक मसलों में निर्णय लेने की स्थिति में समय को टालने का प्रयास करें।
अनुकूलता के लिए- प्रातःकाल संत प्रवचन का श्रवण करें।

अंक 08- शुरूआती दिन नौकरीपैशा व्यक्तियों के लिए बेहद महत्वपूर्ण होंगे। अतः गंभीरता को बनाए रखें। मुकदमेंबाजी में चल रही कश्मकष में समझोते के प्रयत्नों पर जोर देना होगा।
अनुकूलता के लिए- श्रीगणेश मंदिर में दूर्वा चढ़ाएं।

अंक 09- साझेदारी में एक तरफा निर्णय लेने की आदत दिक्कत देगी। स्वयं के स्वास्थ्य पर पैनी नजर रखने की जरूरत रहेगी। अभिमान के बजाए स्वाभिमान से जीने को तवज्जो दें।
अनुकूलता के लिए- परिवार में अपनी राय देने से बचें।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned